• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • अंतिम चरण के चुनाव से पहले PM ने बिहार में खेला 'यादव' कार्ड, निशाने पर रही लालू फैमिली

अंतिम चरण के चुनाव से पहले PM ने बिहार में खेला 'यादव' कार्ड, निशाने पर रही लालू फैमिली

फाइल फोटो

फाइल फोटो

पीएम ने पालीगंज में कहा कि गरीबों के लिए काम कैसे किया जाता है वो गरीब मां का बेटा ही समझ सकता है.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण से ठीक पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने बिहार में यादव कार्ड खेला है. बुधवार को पटना में हुई सभा में पीएम ने खुद को कृष्ण की नगरी का बताया तो बिहार में 15 साल तक शासन करने वाले लालू-राबड़ी परिवार पर भी जमकर निशाना साधा. पटना से सटे यादवों के प्रभुत्व वाले इलाके पालीगंज में हुई इस सभा में  पीएम नरेंद्र मोदी के निशाने पर लालू परिवार रहा और उन्होंने कई मुद्दों को लेकर इस परिवार पर जुबानी हमला बोला.

पीएम लगभग 25 मिनट तक बोले लेकिन उनके संबोधन का अधिकांश वक्त लालू परिवार के ईर्द-गिर्द ही रहा. उन्होंने यदुवंश से लेकर द्वारिका और सुदर्शन चक्र से लेकर मक्खन तक का जिक्र किया और कहा कि जिन लोगों ने जाति विशेष के नाम पर राजनीति की उन्होंने देश तो दूर अपनी बिरादरी और जाति तक के लिए कुछ नहीं किया. पीएम ने कहा कि मैंने बतौर सीएम और पीएम लगभग दो दशक तक काम किया है और इन पदों को भी मैंने जनता का प्रसाद माना है. उनका इशारा साफ तौर पर लालू प्रसाद के परिवार और उनकी उस जातिगत राजनीति की तरफ था जिसे एमवाई समीकरण कहा जाता है.

ये भी पढ़ें- बिहार में कंस्ट्रक्शन कंपनी के कैंप पर नक्सलियों का हमला

प्रसाद की गरिमा भी मुझे संस्कार में मिली है. मुझे मिले संस्कारों को आज भी मैंने बचाकर रखा है. मोदी ने कहा कि कांग्रेस का नामदार या फिर बिहार का भ्रष्ट परिवार इनकी संपत्ति आज करोड़ों में है. ये पैसे आए कहां से हैं. पीएम ने कहा कि अगर उनको गरीबों की जरा भी परवाह होती तो गलत काम करने से पहले उनके हाथ कांपते. गरीब इनके लिए शब्द मात्र हैं. राजा बनने के बाद उनके आसपास की दीवारें इतनी उंची है कि उनको कुछ दिखाई नहीं देता. सैकड़ों एकड़ जमीन हड़पने के बाद भी लोग माल हड़पने की मंशा से ही काम करते हैं.

ये भी पढ़ें- तेजप्रताप को लिए बिना बार-बार क्यों 'उड़' जाते हैं 'अर्जुन'!

मोदी ने कहा कि बिहार ने जिन पर भरोसा किया उन्होंने बस इसे बदनामी दी है. जिस जाति के नाम पर उन्होंने राजनीति की उस जाति से उनको पार्टी का कोई चेहरा नहीं मिला. जिस जाति, समाज ने इनके परिवार को अरबों-खरबों का मालिक बनाया उसी समाज और जाति के साथ धोखा दिया. उन्होंने कहा कि अपने देश और राज्य को तो छोड़िए ऐसे लोगों ने अपनी जाति तक को कुछ नहीं दिया. युवाओं को ऐसा भटकाया कि उन्हें दबंगई के रास्ते चला दिया.  उनके कंधे पर बंदूक रख अपनी ही जाति को गलत दिशा में भेज दिया.

ये भी पढ़ें- 24 घंटे के दौरान बिहार में पीएम की तीन सभाएं, निशाने पर हैं ये टॉप आठ सीटें

मोदी ने कहा कि उनको अब लग गया है कि 21वीं सदी के वोटर बदल गए हैं औऱ देश के लिए सोचने लगे हैं. मेरे लिए समग्र विकास जरूरी है, हम सबका साथ, सबका विकास को लेकर आगे बढ़ रहे हैं. गरीबों के लिए काम कैसे किया जाता है वो गरीब मां का बेटा ही समझ सकता है. मोदी ने कहा कि जिस बात को लेकर यदुवंश की चर्चा होती है मैं उसकी धरती यानी द्वारिका से आया हूं.

हमारी प्रेरणा मक्खन खाने वाले बाल गोपाल हैं. हमारी प्रेरणा कृष्ण हैं. जब-जब हमें जरूरत पड़ेगी हम सुदर्शन चक्र भी चलाएंगे क्योंकि हमें विकास भी करना है और सुरक्षा भी करनी है. मालूम हो कि पटना साहिब सीट से भाजपा ने केंद्रीय मंत्री राम कृपाल यादव को अपना उम्मीदवार बनाया है जो यादव बिरादरी से हैं और उनका सीधा मुकाबला लालू प्रसाद की बड़ी बेटी मीसा भारती से है ऐसे में पीएम ने अपनी अंतिम सभा से यादव वोटरों को गोलबंद करने की पूरी कोशिश की.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज