लाइव टीवी

खतरे में पटना के 120 'इज्जत घर', दो करोड़ रुपए खर्च के बाद भी लटक रहे ताले

RaviS Narayan | News18 Bihar
Updated: November 7, 2019, 3:36 PM IST
खतरे में पटना के 120 'इज्जत घर', दो करोड़ रुपए खर्च के बाद भी लटक रहे ताले
पटना के मॉड्यूलर टॉयलेट में लटक रहा ताला

नगर निगम द्वारा पटना में बनाए गए इन 120 मॉड्यूलर टॉयलेट में 1 करोड़ 80 लाख रुपये खर्च हुए थे. हर टॉयलेट के बनाने में डेढ़ लाख रुपये के लगभग खर्च आये थे

  • Share this:
पटना. अगर आप पटना में हैं तो आपकी इज्तत खतरे में है, यानी आपको टॉयलेट की सुविधा के लिए राम के भरोसे ही रहना होगा. दरअसल लोगों को सुविधाएं मुहैया कराने के लिए पटना (Patna) में 120 मॉड्यूलर टॉयलेट बनाये गए पर आज सभी में ताले लटक रहे हैं वो भी सरकारी. अब न तो कोई इनको देखने वाला ही और न ही इनको खोलने और सफाई करने वाला. लगभग 2 करोड़ रुपए से तैयार हुए ये माड्यूलर शौचालय पटना में अब अजायबघर बनकर रह गए हैं.
120 टॉयलेटों में लटक रहे ताले

 

पटना में हुए जलजमाव में नगर निगम की नाकामी अभी खत्म भी नहीं हुई थी कि नगर निगम की ही एक और कारस्तानी सामने देखने को मिली. एक तरफ पटना को स्मार्ट बनाया जा रहा है हर जगह सुविधाएं बढ़ाई जा रही हैं. शहर को ओडीएफ घोषित किया जा रहा है पर पटना में शौचालयों पर ताला लगा दिया गया है. जी हां यह बात आपको चौंकाने वाली जरूर है पर हकीकत यही है. पटना में बने 120 मॉड्यूलर टॉयलेट पर आज ताला लटका हुआ है ना कोई देखने वाला और न कोई सुनने वाला. शहर भर में बने टॉयलेट पर ताले लगने के कारण राहगीरों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.


 

धूमधाम से शुरू हुआ था टॉयलेट सुविधा


Loading...

7 महीने पहले 6 फरवरी को पूरे पटना में 120 मॉड्यूलर टॉयलेट का उद्घाटन किया गया था. मेयर सीता साहू और तत्कालिक नगर आयुक्त अनुपम सुमन ने इसका उदघाटन किया था ताकि लोगों को सुविधा मिल सके. 6 महीने के अंदर ही नगर निगम की पूरी व्यवस्था तालों में कैद हो गई है.


हर जगह, हर मोड़ पर लटके ताले

 

नगर निगम द्वारा बनाए गए मॉड्यूलर टॉयलेट पर लगे ताले किसी खास जगह हो ऐसा नहीं है. हर पब्लिक प्लेस की स्थिति ऐसे ही है. बिस्कोमान भवन के ठीक नीचे बने टॉयलेट ताले लगे हैं. वहां खड़े रिक्शा चालक जगदेव प्रसाद ने बताया की लोगों को एग्जीबिशन रोड जाकर पैसे देकर शौच करना पड़ता है. यही हालत इनकम टैक्स गोलंबर, हार्डिंग रोड ,बिजली विभाग कार्यालय, सचिवालय भवन के सामने बने शौचालयों की भी है. मौर्य लोक कंपलेक्स जहां नगर निगम का कार्यालय है वहां भी नाक के नीचे यही स्थिति है. नाराजगी जाहिर करते हुए राहगीर अशोक साहू ने बताया जब नगर निगम कार्यालय के बगल में यह स्थिति है ना जाने पूरे पटना का क्या हाल होगा.


ना पानी की व्यवस्था और न साफ सफाई

 

सभी शौचालयों में मैं लगे तालों के पीछे की कहानी यही है कि ना कोई साफ सफाई की व्यवस्था और ना ही पानी का कोई इंतजाम. नगर निगम ने शौचालय बनाया, पानी की टंकी भी लगाई पर इन शौचालयों में साफ-सफाई के लिए एक भी कर्मचारी नहीं लगाया गया. इसका नतीजा यह हुआ कि आज शौचालयों पर ताला लगा हुआ.


1 करोड़ 80 लाख की लागत से बने थे टॉयलेट


नगर निगम द्वारा बनाए गए इन 120 मॉड्यूलर टॉयलेट में 1 करोड़ 80 लाख रुपये खर्च हुए थे. हर टॉयलेट के बनाने में डेढ़ लाख रुपये के लगभग खर्च आये थे पर इतने खर्च के बावजूद देखने वाला कोई नहीं. शौचालयों पर लगे तालेबंदी पर नगर निगम का वक्तव्य जानने की कोशिश की गई पर कोई कुछ भी बोलने से इंकार करता रहा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 7, 2019, 3:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...