जगन्नाथ मिश्रा के बेल पर उठे थे सवाल, ट्रेंड में था 'लालू को जेल.. BJP का खेल वाला नारा'

Amrendra Kumar | News18 Bihar
Updated: August 19, 2019, 2:10 PM IST
जगन्नाथ मिश्रा के बेल पर उठे थे सवाल, ट्रेंड में था 'लालू को जेल.. BJP का खेल वाला नारा'
लालू के साथ जगन्नाथ मिश्रा

कोर्ट के इस फैसले के बाद न केवल राजद के वरीय नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने इस नारे को इजाद किया बल्कि पार्टी समेत महागठबंधन के कई नेताओं ने लालू के नाम पर सहानुभूति लेने के लिए इस नारे को जमकर भंजाया.

  • Share this:
बिहार के पूर्व सीएम (Former CM) जगन्नाथ मिश्रा (Jagganath Mishra) का लंबी बीमारी के बाद सोमवार को निधन (Death) हो गया. उन्होंने दिल्ली में अपनी अंतिम सांसे लीं. मिश्रा की पहचान बिहार (Bihar) के दिग्गज राजनेता के तौर पर होती थी यही कारण है कि वो तीन बार बिहार के सीएम (CM) रहे फिर केंद्र की सरकार में भी मंत्री (Minister) बने.

मिश्रा को बेल, लालू को जेल

बिहार के बहुचर्चित चारा घोटोले में भी मिश्रा का नाम आया. इस मामले में वो दोषी भी पाये गए और उनको सजा भी सुनाई गई. चारा घोटाले से जुड़े एक मामले में जब फैसला आया तो पूरे देश में एक नारा ट्रेंड कर रहा था. ये नारा था 'मिश्रा को बेल, लालू को जेल'. दरअसल चारा घोटाले में देवघर कोषागार से 89 लाख से अधिक की अवैध निकासी के संबंध में कोर्ट का फैसला आया था. कोर्ट का फैसला आने के बाद इस बात पर बहस हो रही है कि आखिर बिहार के दो पूर्व मुख्यमंत्रियों में से एक यानि लालू यादव को दोषी और डॉक्टर जगन्नाथ मिश्रा को कैसे बरी कर दिया गया?

फैसले पर उठे थे सवाल

कोर्ट के इस फैसले के बाद न केवल राजद के वरीय नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने इस नारे को इजाद किया बल्कि पार्टी समेत महागठबंधन के कई नेताओं ने लालू के नाम पर सहानुभूति लेने के लिए इस नारे को जमकर भंजाया. लालू के बेटे तेजस्वी ने लगभग हर सभा में लालू को जेल, मिश्रा को बेल वाला नारा उछाला और खूब तालियां भी बटोरीं.

तेजस्वी ने फोटो ट्वीतट कर किया था हमला

तेजस्वी यादव ने अपने ट्विटर हैंडल पर एक फोटो जारी की थी. फोटो ट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा था कि, ‘पूर्व सीएम पंडित जगन्नाथ मिश्रा जी, कथित चारा घोटाले में कथित सज़ायाफ्ता है. मेदांता में ईलाज के लिए ज़मानत पर है. घोटाले के याचिकाकर्ता सुशील मोदी सज़ायाफ्ता मिश्रा जी की पुस्तक ‘बिहार बढ़कर रहेगा’ का विमोचन कर रहे हैं. बेटा भाजपा का उपाध्यक्ष है. बाक़ी सब दलित-पिछड़े चोर हैं. है ना?’
Loading...

चारा घोटाले में दोषी थे मिश्रा

दरअसल रांची की विशेष अदालत ने जगन्नाथ मिश्रा को 30 सितंबर 2013 को चारा घोटाले में 44 अन्य लोगों के साथ सज़ा सुनाई थी. उस वक्त उन्हें चार साल की कारावास और 200,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया था उन पर दुमका और डोरंडा निधि से धोखाधड़ी से रुपये निकालने का आरोप था.चारा घोटोले से जुड़े एक अन्य मामले में दोनों को एक साथ दोषी करार दिया गया था. लेकिन देवघर कोषागार से संबंधित फैसले में सीबीआई पूर्व मुख्यमंत्री मिश्रा के खिलाफ आरोप साबित नहीं कर पाई.

ये भी पढ़ें- बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा का निधन

ये भी पढ़ें- प्रोफेसर से सीएम तक कुछ ऐसा था जगन्नाथ मिश्रा का सियासी सफर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 1:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...