लाइव टीवी

लगातार दूसरे साल छठ पूजा नहीं कर रहीं राबड़ी, कई मुसीबतों से घिरा है लालू परिवार

News18 Bihar
Updated: November 1, 2019, 9:26 AM IST
लगातार दूसरे साल छठ पूजा नहीं कर रहीं राबड़ी, कई मुसीबतों से घिरा है लालू परिवार
पूरे विधि-विधान के साथ छठ पर्व करती रही हैं राबड़ी देवी. (फाइल फोटो)

पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के घर होने वाला छठ पर्व हर साल सुर्खियों में रहता है, लेकिन कई तरह की मुश्किलों से जूझ रहे लालू-राबड़ी के घर इस बार भी सन्नाटा पसरा रहेगा.

  • Share this:
पटना. छठ व्रतियों के नहाय-खाय की विधि करने के साथ ही गुरुवार से छठ (Chhath) पर्व की विधिवत शुरुआत हो गई. लेकिन, लगातार दूसरे साल भी लालू-राबड़ी (Lalu-Rabri) के घर पर छठ पूजा नहीं होगी. पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी (Rabri Devi) ने खुद न्यूज़ 18 को बताया कि वो व्यक्तिगत कारणों से इस बार भी छठ पूजा नहीं कर रही हैं. दरअसल राबड़ी देवी के घर होने वाला छठ पर्व हर साल सुर्खियों में रहता है, लेकिन कई तरह की मुश्किलों से जूझ रहे लालू-राबड़ी के घर इस बार भी सन्नाटा पसरा रहेगा.

बता दें कि लालू यादव (Lalu Yadav) के जेल में रहने के कारण पिछले साल (2018) भी राबड़ी देवी ने छठ पूजा नहीं की थी. इस बार भी वो जेल में हैं. जबकि उनके दोनों बेटे तेजस्वी यादव और तेजप्रताप यादव भी पिछले कुछ दिनों से पटना से बाहर हैं. वहीं, राबड़ी देवी की सेहत भी ठीक नहीं रह रही है. साथ ही लालू परिवार तेजप्रताप यादव की पत्नी ऐश्वर्या राय से तलाक की जिद के कारण भी परेशान है.

राबड़ी देवी सूर्य उपासना के पर्व छठ को बड़े विधि-विधान के साथ करती रही हैं (बेटी मीसा के साथ उनकी पुरानी तस्वीर)


बता दें कि पिछली बार राबड़ी आवास पर वर्ष 2017 में छठ पूजा की गई थी. तक परिवार के मुखिया और आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव भी परिवार के साथ थे. वर्ष 2017 में 25 अक्टूबर को घर के अंदर बने कुंड पर राबड़ी देवी समेत परिवार के सभी सदस्यों ने भगवान भास्कर को अर्घ्य अर्पण किया था. सबसे पहले लालू यादव ने खुद अस्त होते सूर्य को अर्घ्य दिया था. इसके बाद तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव, मीसा भारती और अन्य बहनों ने भी भगवान भास्कर को अर्घ्य दिया था.

वर्ष 2017 में लालू-राबड़ी की मौजूदगी में बहू ऐश्वर्या राय अर्घ्य अर्पण करती हुई. तेजप्रताप यादव ने शेयर की थी ये तस्वीर


बहरहाल राबड़ी देवी के इस साल भी छठ पूजा नहीं करने के फैसले से लोगों को बिहार के सबसे प्रसिद्ध लोकपर्व का उत्सव उनके पटना स्थित 10 सर्कुलर रोड स्थित बंगले में देखने को नहीं मिलेगा.

(इनपुट- अमित कुमार सिंह)
Loading...

ये भी पढ़ें- 

गया: BDO की संदिग्ध मौत को परिवार ने कहा हत्या, BDO संघ ने उठाई जांच की मांग

मिठाई कारीगर के सिर और सीने में पिस्टल सटाकर मारी गोली, मौके पर हुई मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 9:00 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...