Home /News /bihar /

सवर्ण आरक्षण का अधिकतर पार्टियों ने किया स्वागत, जेडीयू की मांग- आर्थिक पाबंदी की सीमा बढ़े

सवर्ण आरक्षण का अधिकतर पार्टियों ने किया स्वागत, जेडीयू की मांग- आर्थिक पाबंदी की सीमा बढ़े

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और सांसद डॉ सीपी ठाकुर ने कहा कि जमींदारी उन्मूलन और लैंड सीलिंग के बाद ज्यादातर सवर्णों की हालत काफी खराब है. गरीब सवर्णों को आरक्षण मिलना चाहिए.

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और सांसद डॉ सीपी ठाकुर ने कहा कि जमींदारी उन्मूलन और लैंड सीलिंग के बाद ज्यादातर सवर्णों की हालत काफी खराब है. गरीब सवर्णों को आरक्षण मिलना चाहिए.

बीजेपी के वरिष्ठ नेता और सांसद डॉ सीपी ठाकुर ने कहा कि जमींदारी उन्मूलन और लैंड सीलिंग के बाद ज्यादातर सवर्णों की हालत काफी खराब है. गरीब सवर्णों को आरक्षण मिलना चाहिए.

    केन्द्र सरकार के आर्थिक रूप से पिछड़े सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने के फैैसले का बिहार में अधिकतर पार्टियों ने स्वागत किया है. बीजेपी, एलजेपी, जेडीयू और हम ने कहा कि केन्द्र सरकार का यह निर्णय सराहनीय है. वहीं जेडीयू ने आर्थिक पाबंदी की सीमा 8 लाख से बढ़ाकर 12 लाख करने की मांग की है.

    बीजेपी के वरिष्ठ नेता और सांसद डॉ सीपी ठाकुर ने कहा कि जमींदारी उन्मूलन और लैंड सीलिंग के बाद ज्यादातर सवर्णों की हालत काफी खराब है.  गरीब सवर्णों को आरक्षण मिलना चाहिए. उन्होंने कहा कि गरीब, गरीब ही होता है, चाहे वह सवर्ण हो अथवा पिछड़े वर्ग का. जरूरमंद लोगों को आरक्षण का लाभ मिलना ही चाहिए.

    इस फैसले के लिए सीपी ठाकुर ने पीएम नरेन्द्र मोदी और उनके कैबिनेट को धन्यवाद दिया और सभी दलों से अपील की कि सियासत छोड़ कर संसद में इसे पास कराना चाहिए. उन्होंने मोदी सरकार को सलाह दी कि अगर संसद के दोनों सदन में संशोधन विधेयक पास नहीं होता है तो सरकार joint session बुलाकर इसे पास कराए.

    ये भी पढ़ें- OPINION: हम दोनों हैं जुदा-जुदा, दिखने की मजबूरी क्यों, जानिए इनसाइड स्टोरी

    वहीं एलजेपी सांसद चिराग पासवान ने कहा कि हमारी पार्टी के गठन के समय से ही गरीब सवर्णों के लिए 15 फीसदी आरक्षण की मांग की थी.  काफी खुशी की बात है कि सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. गरीबी जाति देख कर नहीं आती है बल्कि हर वर्ग में गरीब लोग हैं जिन्हें मदद मिलनी चाहिए.  उन्होंने कहा कि अब संशोधन बिल को संसद में पास कराने के लिए दो-तिहाई बहुमत की जरूरत होगी. लंबे समय से गरीब सवर्णों के आरक्षण की मांग होती रही है, विपक्षी पार्टियों को विरोध नहीं,दो तिहाई बहुमत से इसे पास कराना चाहिए.

    ये भी पढ़ें-  CBI चार्जशीट: बच्चियों को अश्लील गानों पर डांस को मजबूर करती थी शाइस्ता परवीन

    जीतन राम मांझी की हिन्दुस्तानी आवाम पार्टी ने भी केन्द्र के इस फैसले का स्वागत किया है. प्राटी के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि कौन क्या बोलता है इससे मतलब नहीं हमारी पार्टी का स्टैंड बिलकुल क्लीयर है. हम पार्टी गरीब सवर्ण आरक्षण का हम पार्टी स्वागत करती है .

    जेडीयू के वरिष्ठ नेता नरेंद्र सिंह और अफजल अब्बास ने भी ने ग़रीब सवर्ण को दस प्रतिशत आरक्षण देने की केंद्र की घोषणा का स्वागत किया है. नरेन्द्र सिंह ने कहा कि जेडीयू की शुरू से ही मांग थी गरीब सवर्णों को आरक्षण मिले. उन्होंने कहा सवर्ण समुदाय की जो आरक्षण का तय सीमा है उसे आठ लाख सालाना से बढ़ाकर 12 लाख किया जाए.

    वहीं  अफजल अब्बास ने कहा कि नरेन्द्र मोदी सरकार का सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण का फैसला सराहनीय है. हिन्दू की सवर्ण जातियों के साथ-साथ मुसलमानों को भी मिलेगा फायदा.  मुसलमानों में सैयद,शेख,पठान जैसी जातियां आर्थिक रूप से पिछड़े हैं. उन्होंने कहा कि सभी दलों को इससे संबंधित संशोधन विधेयक को संसद में पास कराने में सहयोग करना चाहिए.

    ये भी पढ़ें-  2019 में NDA की होगी जीत, फिर से प्रधानमंत्री बनेंगे नरेन्द्र मोदी: नीतीश कुमार

    Tags: Bihar News, PATNA NEWS

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर