लाइव टीवी

यूं ही RJD को 'अच्छे' नहीं लग रहे नीतीश कुमार, पढ़ें इस प्रेम की इनसाइड स्टोरी

News18 Bihar
Updated: September 18, 2019, 2:59 PM IST
यूं ही RJD को 'अच्छे' नहीं लग रहे नीतीश कुमार, पढ़ें इस प्रेम की इनसाइड स्टोरी
नीतीश कुमार ने लालू प्रसाद के साथ मिलकर बिहार में सरकार बनाई थी, लेकिन ये दोस्ती बाद में टूट गई. (फाइल फोटो) (फाइल फोटो)

कहा जा रहा है राजद (RJD) का 'नीतीश प्रेम' के पीछे खुद लालू यादव का ही दिमाग था. एक ऐसी रणनीति जिससे नाराज मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) को अपनी ओर खींचा जा सके.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 18, 2019, 2:59 PM IST
  • Share this:
पटना. राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के लिए हर हाल में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) जरूरी हैं. बिहार में नीतीश कुमार अपने सहयोगियों और विरोधियों दोनों के लिए जरूरी हैं. जो नेता नीतीश कुमार को कभी पानी पी-पी कर कोसा करते थे, वे अब अचानक से उनके मुरीद हो गए हैं. आरजेडी (RJD) के इस नीतीश प्रेम के पीछे लंबी कहानी है. लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) के दौरान तेजस्वी यादव सीएम नीतीश कुमार को चाचा और पलटूराम कहकर भरी सभा में चिढ़ाया करते थे. वहीं, हाल के कुछ दिनों में तेजस्वी की जुबान से अपने चाचा नीतीश कुमार के लिए कोई कटु शब्द नहीं निकले हैं.

संयोग या मजबूरी ?

कुछ इसी तरह से रघुवंश प्रसाद सिंह और शिवानन्द तिवारी भी नीतीश कुमार के खिलाफ आक्रामक नहीं दिखे हैं. याद कीजिए ये दोनों महारथी पानी पी-पी कर नीतीश कुमार को क्या-क्या नहीं बोला करते थे. क्या नीतीश कुमार के लिए इन सबका एक साथ सॉफ्ट होना महज कोई संयोग है तो जवाब यकीनन नहीं होगा. यह कोई संयोग नहीं. दरअसल, यह शुद्ध रूप से आरजेडी का गेमप्लान था और इसके पीछे खुद लालू यादव का ही दिमाग था. एक ऐसी स्ट्रेटजी जिससे नाराज नीतीश को अपने पाले में लाया जा सके.

BJP से दूर होते ही मिला मौका

नीतीश कुमार के लिए यह स्ट्रेटजी तब बनी जब सबसे पहले एनडीए-2 के मंत्रिमंडल से नीतीश कुमार की पार्टी ने दूरी बनाई और बीजेपी-जेडीयू के बीच खटास सबके सामने आ गया. इसके बाद आर्टिकल 370 और ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर नीतीश कुमार सीधे तौर पर बीजेपी और केंद्र सरकार के फैसले के खिलाफ खड़े हो गए तो आरजेडी को भी नीतीश को लेकर उम्मीदें जग गईं. लोकसभा चुनाव में बुरी तरह से पिटी आरजेडी को लगा कि यही मौक़ा है नीतीश कुमार को बीजेपी से अलग करने और अपने खेमे में मिलाने का. ऐसे में लालू के 'प्लान नीतीश' के तहत शिवानन्द तिवारी और रघुवंश प्रसाद सिंह को इस मिशन पर लगाया गया. साथ ही तेजस्वी को नीतीश कुमार के प्रति थोड़ा सॉफ्ट रहने को कहा गया है.

तेजस्वी यादव
नीतीश के साथ गठबंधन पर तेजस्वी की दो टूक टिप्‍पणी रही है.


पहले शिवानंद फिर रघुवंश
Loading...

प्लान के मुताबिक सबसे पहले शिवानन्द तिवारी ने नीतीश कुमार पर पहला दांव फेंका. उन्‍होंने उनको महागठबन्धन के लिए खुला ऑफर देते हुए कहा कि बीजेपी और मोदी से लड़ने का विपक्ष के पास अगर कोई चेहरा है तो वो केवल नीतीश कुमार हैं. ठीक इसी तरह रघुवंश प्रसाद सिंह ने भी प्रेस कांफ्रेंस करके नीतीश को ऑफर दे दिया. जानकार भी मानते हैं कि आरजेडी ने नीतीश कुमार को मनाने की भरसक कोशिश की, लेकिन ये और बात है कि नीतीश ने इन्हें कोई तवज्जो नहीं दी.

BJP पर बना दबाव

शिवानन्द तिवारी और रघुवंश प्रसाद सिंह लगातार नीतीश कुमार को मनाने की नाकाम कोशिश करते रहे, लेकिन नीतीश कुमार टस से मस नहीं हुए. हां इतना जरूर है कि आरजेडी के इस मान-मनौवल का फ़ायदा नीतीश खेमे को बहुत हुआ. नीतीश कुमार आरजेडी के बहाने बीजेपी पर भी खूब प्रेशर बनाते रहे, लेकिन जब आरजेडी को यह बात समझ में आ गई कि नीतीश उनका कोई रिस्पॉन्स नहीं ले रहे और उनके जरिये वो बीजेपी पर उलटे दवाब बनाने में लगे हैं तो फिर तेजस्वी की एंट्री हुई. तेजस्वी अपने ही नेता रघुवंश प्रसाद के बयान को नकारते हुए कहते हैं कि नीतीश चाचा का अपना कोई अस्त्तित्व नहीं है. उनका भविष्य में कभी महागठबन्धन में एंट्री नहीं हो सकती.

तेजस्वी यादव के साथ नीतीश कुमार की फाइल फोटो.


दोस्ती का है भरोसा

जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन अब खुद इस गेमप्लान को उजागर करने में लगे हैं. बीजेपी के वरिष्ठ नेता प्रेम कुमार की मानें तो आरजेडी का यह गेम प्लान फ़्लॉप है और उन्हें पूरा भरोसा है कि नीतीश उनके साथ हैं और आगे भी रहेंगे. आरजेडी की हालत फिलहाल करो या मरो जैसी है. एक तरफ लालू जेल में बंद हैं, वहीं तेजस्वी के पास अनुभव की कमी है. आरजेडी वाकई अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रही है. ऐसे में पार्टी को बचाए रखना सबसे बड़ी चुनौती बन गई है. शायद यही कारण है कि न चाहते हुए भी आरजेडी नीतीश कुमार पर डोरे डालने को मजबूर है. अब जब आरजेडी का यह गेम प्लान लगभग फ्लॉप हो गया है तो आरजेडी नीतीश कुमार के खिलाफ आक्रामक हो गई है.

रिपोर्ट- अमित कुमार सिंह

ये भी पढ़ें- 2020 चुनाव के लिए JDU की रणनीति बनाएंगे PK, क्या फिर साथ आएंगे लालू और नीतीश?

ये भी पढ़ें- BPSC का इंटरव्यू क्लियर कराने के लिए बीजेपी MLC ने मांगे 30 लाख रुपए, केस दर्ज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 18, 2019, 1:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...