लाइव टीवी

JDU vs JDU: नीतीश की सख्ती के बाद पवन वर्मा बोले- जब तक चिट्ठी का जवाब नहीं मिलेगा, तब तक...
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: January 23, 2020, 1:10 PM IST
JDU vs JDU: नीतीश की सख्ती के बाद पवन वर्मा बोले- जब तक चिट्ठी का जवाब नहीं मिलेगा, तब तक...
सीएम नीतीश कुमार को पवन वर्मा का जवाब

पवन वर्मा (Pawan Verma) ने कहा, मैं नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को उनके शुभकामना के लिए धन्यवाद करता हूं. यदि मुझे जवाब (लिखे पत्र का) नहीं मिला तो मुझे अपने पद के बारे में पुनर्विचार करना होगा

  • Share this:

पटना. जनता दल युनाइटेड (जेडीयू) के राष्ट्रीय महासचिव पवन वर्मा (Pawan Verma) द्वारा नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी (CAA And NRC) के मसले पर लगातार बयानबाजी से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) नाराज हैं. गुरुवार को सीएम नीतीश ने उनको आड़े हाथों लेते हुए स्पष्ट कह दिया कि पवन वर्मा को जहां जाना है जाएं, मेरी शुभकामना उनके साथ है. इस पर पवन वर्मा ने जवाब देते हुए कहा कि उनका इरादा नीतीश कुमार को कभी दुख पहुंचाना नहीं है. उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि जेडीयू विचाराधारा पर आधारित पार्टी है, हमे अपने (CAA And NRC पर) लिए स्टैंड पर स्थिति साफ करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि बीजेपी CAA का समर्थन करती है लेकिन हमारी विचारधारा महात्मा गांधी से प्रेरित है. मुझे अभी भी अपने पत्र के जवाब के इंतजार है.


हालांकि पवन वर्मा ने कहा कि यदि मुझे जवाब (लिखे पत्र का) नहीं मिला तो मुझे अपने पद के बारे में पुनर्विचार करना होगा. मैं नीतीश कुमार को उनके शुभकामना के लिए धन्यवाद करता हूं. उन्होंने साफ-साफ कहा कि जब तक उनके पत्र में उठाए सवालों का जवाब नहीं दिया जाएगा तब तक वो कोई निर्णय नहीं लेने जा रहे हैं.


पवन वर्मा ने कहा कि मुझे खुशी है कि नीतीश कुमार ने कम से कम इस मामले का संज्ञान लिया. मैंने पहले भी लिखा था, लेकिन मुझे जवाब नहीं मिला. यह उनके लिए पार्टी की विचारधारा को स्पष्ट करने का समय है. जेडीयू अल्पकालिक राजनीतिक उद्देश्यों के लिए एड हॉक निर्णय नहीं ले सकता है. जब तक मुझे अपने पत्र का जवाब नहीं मिल जाता, मैं यह तय नहीं कर सकता कि आगे क्या करना है.


पवन वर्मा ने CM नीतीश के नाम खुला खत लिखकर जताया था विरोध





बता दें कि बुधवार को पवन वर्मा ने एक खुला पत्र लिखते हुए सीएम नीतीश कुमार से जेडीयू की विचारधारा स्पष्ट करने की बात कही थी. उन्होंने अपने पत्र में लिखा था, वर्ष 2013 से 2017 तक जेडीयू ने नरेंद्र मोदी और बीजेपी का पुरजोर विरोध किया लेकिन हाल में जो चीजें हुई हैं, उसके बाद जेडीयू की विचारधारा का स्पष्टीकरण होना चाहिए. लोगों को अगर लगता है कि नीतीश कुमार का डबल स्टैंडर्ड है, तो ये जेडीयू के लिए गलत है. क्या सिर्फ हम अवसर आने पर फैसला करने लगे हैं या फिर जेडीयू की कोई विचारधारा है? अकाली दल ने बीजेपी के साथ दिल्ली में गठबंधन नहीं किया और जेडीयू साथ चुनाव लड़ रही है.


पवन वर्मा के इसी बात का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने स्पष्ट कहा कि आज कैसी बातें कर रहे हैं पवन वर्मा. कहते हैं उनके साथ अकेले में ऐसी बात करते थे, मैं भी कहूं कि वो क्या बात करते थे. जेडीयू को समझने की जरूरत है. हर मुद्दे पर जेडीयू का नजरिया साफ होता है. किसी के मन मे कुछ है तो बात करनी चाहिए. मिलकर या पार्टी में अपनी बातें रखें. नीतीश ने ये भी कहा कि ये (पवन वर्मा) उनका अपना निर्णय है, जहां जाना है जाएं, कोई एतराज नहीं है.





उन्होंने इसी बहाने प्रशांत किशोर (PK) को भी नसीहत देते हुए कहा कि जेडीयू को समझने की कोशिश करिए. कुछ लोगों को बयान से मत देखिये. चीजों पर हमरा स्टैंड साफ होता है और किसी के मन मे कोई बात है तो पार्टी में विचार-विमर्श करना चाहिए. पर इस तरह का वक्तव्य (बयान) देना आश्चर्य की बात है.


ये भी पढ़े





सख्‍त हुए CM नीतीश, कहा- पवन वर्मा को जहां जाना है जाएं, मेरी शुभकामनाएं, PK को भी दी नसीहत




मुजफ्फरपुर: CAA-NRC के विरोध में शुरू हुआ 'सत्याग्रह', कानून वापस होने तक संघर्ष का एलान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 23, 2020, 11:48 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर