Bihar : राजद और रालोसपा के बीच हुई चाय पर मंत्रणा के बाद किनारे पड़ता दिख रहा है मांझी मंत्र
Patna News in Hindi

Bihar : राजद और रालोसपा के बीच हुई चाय पर मंत्रणा के बाद किनारे पड़ता दिख रहा है मांझी मंत्र
राजद और रालोसपा ने पटना में चाय पर की मुलाकात.

हालांकि आरजेडी (RJD) के प्रदेश अध्यक्ष ने रालोसपा के साथ मुलाकात को औपचारिक बतलाया जबकि पार्टी की ओर से जारी बयान में साफ कहा गया है कि रालोसपा के साथ बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) के मद्देनजर मंत्रणा हुई.

  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) को लेकर बिहार में महागठबंधन की सियासत तेज हो गई है. राष्ट्रीय जनता दल (RJD) और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) नेताओं की पटना में चाय पर चुनावी चर्चा हुई. मतलब साफ की हिंदुस्तानी अवाम पार्टी (HAM) के सुप्रीमो जीतन राम मांझी अगर कोई स्टैंड लेते हैं, तो उन्हें अकेले ही फासला तय करना होगा.

राजद के प्रदेश अध्यक्ष ने औपचारिक मुलाकात की बात कही

बिहार विधानसभा के चुनावी साल में महागठबंधन में कोऑर्डिनेशन कमेटी की मांग को लेकर राष्ट्रीय जनता दल और हिंदुस्तानी अवाम पार्टी के बीच चल रही खींचतान अभी जारी है. लेकिन इसी दौरान आज पटना में रालोसपा नेताओं और राजद नेताओं के बीच आगामी बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर चर्चा हुई. दरअसल रालोसपा सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा ने बिहार विधानसभा चुनाव में सीटों के तालमेल को लेकर प्रदेश अध्यक्ष भूदेव चौधरी की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया है. इस कमेटी में प्रदेश अध्यक्ष के अलावा रालोसपा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष राजेश यादव और प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष वीरेंद्र कुशवाहा शामिल हैं. रविवार को कुशवाहा के दिल्ली से पटना पहुंचने के बाद पार्टी की 3 सदस्यीय कमेटी राजद प्रदेश अध्यक्ष जगदानन्द सिंह से मिलने राजद के प्रदेश कार्यालय पहुंची. चाय की चुस्की के बीच राजद और रालोसपा नेताओं के बीच विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कई राजनीतिक मुद्दों पर बातचीत भी हुई. बैठक के बाद रालोसपा के प्रदेश अध्यक्ष भूदेव चौधरी जब बाहर निकले तब उन्होंने किसी भी राजनीतिक बात होने से साफ इनकार कर दिया. चौधरी ने कहा कि नेताओं से औपचारिक मुलाकात हुई है.



पार्टी ने बयान दिया कि कई मुद्दों पर मंत्रणा हुई
लेकिन खुद पार्टी की तरफ से जारी बयान में बताया गया है कि आगामी चुनाव को लेकर दोनों दलों के बीच कई मुद्दों पर मंत्रणा हुई है. आज रालोसपा और राजद नेताओं की बैठक से जाहिर हो गया कि हम का महागठबंधन को लेकर जो स्टैंड हो, उससे रालोसपा का कोई लेना-देना नहीं है. गौरतलब है कि कोऑर्डिनेशन कमेटी की मांग को लेकर हम के सुप्रीमो जीतन राम मांझी कई बार अल्टीमेटम देते रहे हैं. राजद इस अल्टीमेट को नजरअंदाज करता रहा है. महागठबंधन के बीच इस दरार को महसूसते हुए मांझी को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दिल्ली तलब किया था. वहां मांझी की सोनिया से मुलाकात भी हुई. महागठबंधन से जुड़े नेताओं की अलग से मीटिंग भी हुई, पर लगता है कि बात पटरी पर नहीं आ रही. ऐसी स्थिति में रालोसपा छिटककर राजद के साथ खड़ी हो रही है. जो भी हो यह तो अब आनेवाला वक्त बताएगा कि महागठबंधन के साथ कौन रहता है कौन छिटकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading