लाइव टीवी

RJD ने दी CM नीतीश को विधानसभा चुनाव लड़ने की चुनौती, BJP-जेडीयू ने दिया ये जवाब

Neel kamal | News18 Bihar
Updated: January 27, 2020, 7:52 PM IST
RJD ने दी CM नीतीश को विधानसभा चुनाव लड़ने की चुनौती, BJP-जेडीयू ने दिया ये जवाब
नीतीश कुमार 2018 में तीसरी बार विधान परिषद के सदस्य बने.

आरजेडी (RJD) ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को विधानसभा चुनाव लड़ने की खुली चुनौती दी है. जबकि भाजपा और जेडीयू ने पलटवार करते हुए कहा है कि आरजेडी की इतनी हैसियत नहीं है कि वो सीएम को चुनौती दे.

  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव में अभी भले की वक्त हो लेकिन राजनीतिक पार्टियों ने एक दूसरे पर वार-पलटवार करना शुरू कर दिया है. ऐसे में राजद (RJD) की ओर से नीतीश कुमार को विधानसभा चुनाव लड़ने की खुली चुनौती दी जा रही है. राजद का कहना है कि अगर नीतीश को अपने 15 साल के सुशासन पर इतना भरोसा है तो चुनाव लड़ने की चुनौती स्वीकार करें. जबकि राजद की इस चुनौती पर जदयू और भाजपा की ओर से तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की गई है. जदयू ने इसे हास्यास्पद बताया तो बीजेपी ने नीतीश कुमार को चुनाव जिताने वाले नेता करार दिया.

विधान परिषद के दम पर कायम है वजूद
आपको बताते हैं वो बड़े चेहरे जो विधान परिषद के माध्यम से ना सिर्फ पद पर बने हुए हैं, बल्कि पार्टी को भी कंट्रोल कर रहे हैं. इनमें पहला नाम बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का है.
>> जदयू से नीतीश कुमार 2018 में तीसरी बार विधान परिषद के सदस्य बने.

>> भाजपा से सुशील कुमार मोदी 2018 में तीसरी बार विधान परिषद के सदस्य बने.
>> राजद की राबडी देवी 2018 में तीसरी बार विधान परिषद की सदस्य बनीं.
>> राजद के ही रामचंद्र पूर्वे चौथी बार विधान परिषद के सदस्य बने.>> भाजपा के मंगल पाण्डेय दूसरी बार विधान परिषद के सदस्य बने.

बहरहाल, ये वो प्रमुख नाम हैं जिन्होंने विधानसभा का चुनाव पिछले दस-बीस साल से नहीं लड़ा है, लेकिन पार्टी में महत्वपूर्ण पद पर बने रहने के साथ सरकार में मंत्री भी हैं. इनमें कांग्रेस के मदन मोहन झा भी शामिल हैं, जो वर्तमान में बिहार कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर आसीन हैं. इसके अलावा जदयू के नीरज जो सूचना जनसंपर्क विभाग के मंत्री हैं वो भी विधान परिषद के ही सदस्य हैं.

राजद की नीतीश को चुनौती
अब राजद की ओर से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को विधानसभा का चुनाव लड़ने की चुनौती दी जा रही है. राजद विधायक विजय प्रकाश का दावा है कि 2020 में तेजस्वी यादव बिहार के मुख्यमंत्री बनेगें, क्योंकि नीतीश कुमार के 15 साल के कुशासन से लोग अब उब चुके हैं. बिहार के नौजवान तेजस्वी यादव के साथ हैं. शिक्षा ,बेरोजगारी और औद्योगिकिकरण के नाम पर नीतीश कुमार ने बिहार की जनता को धोखा देने का काम किया है. साथ ही राजद विधायक ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को चुनौती देते हुए कहा कि अगर उन्हें अपने सुशासन पर भरोसा है तो विधानसभा का चुनाव लड़कर दिखाएं. राजद का एक कार्यकर्ता नीतीश कुमार को हरा कर दिखाएगा.

जदयू का जवाब
राजद के इस चुनौती को जदयू ने हास्यास्पद बताते हुए कहते हुए कहा कि राजद ने बैक डोर से विधान परिषद से राजनीति करने का सवाल उठाकर राबड़ी देवी पर ही सवाल उठाया है. जबकि नीतीश कुमार के चेहरे पर ही बिहार की जनता लगातार बिहार में जदयू-भाजपा गठबंधन की सरकार बना रही है. जदयू ने राजद को चुनौती देते हुए कहा कि 2020 के चुनाव में वो विपक्ष में रहने लायक संख्या लाकर दिखाए. जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि 2015 में नीतीश के चेहरे की वजह से सत्ता का सुख भोगने वाले राजद को भी पता है कि नीतीश कुमार ने बिहार के लिए क्या किया है.

भाजपा ने भी बोला हमला
इस मामले पर भाजपा नेता प्रेमरंजन पटेल ने भी राजद पर पलटवार करते हुए कहा कि नीतीश कुमार चुनाव जिताने वाले नेता हैं. इसलिए 2015 में नीतीश कुमार के चेहरे पर ही लालू प्रसाद के दोनों बेटे विधानसभा का मुह देख सके. भाजपा ने राजद को अपना आकलन करने को कहा है. भाजपा का कहना है कि राजद की नाव में इतने छेद हो चुके हैं कि उसे बचा पाना लालू प्रसाद के लिए मुश्किल है. वह अपनी हद में रहे.

कांग्रेस-राजद के नेता मारेंगे पलटी!
बहरहाल, बिहार विधानसभा चुनाव में अभी 10 महीने की देरी है. ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि एक-दूसरे को देख लेने और हैसियत बताने वाली पार्टियों के अंदर क्या कुछ होता है. भाजपा-जदयू की तरफ से यह इशारे भी दिये जा रहे है कि 2020 के चुनाव के कुछ दिन पहले राजद और कांग्रेस के कई विधायक अपनी पार्टी को छोड़ उनका दामन थाम सकते हैं.

 

ये भी पढ़ें-

बिहार: मंगलवार को होगी STET की परीक्षा, इन नियमों का करना होगा पालन

 

ऑनलाइन जन्म प्रमाण पत्र बनाने के मामले में पूर्णिया का दबदबा, ये है वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 27, 2020, 6:55 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर