पटना में जलजमाव: जब तत्कालीन कमिश्नर आनन्द किशोर को RJD ने कहा सरकार की नाक का बाल! सरकार ने दिया ये जवाब
Patna News in Hindi

पटना में जलजमाव: जब तत्कालीन कमिश्नर आनन्द किशोर को RJD ने कहा सरकार की नाक का बाल! सरकार ने दिया ये जवाब
पटना में जलजमाव के लिए आरजेडी ने पटना के तत्कालीन कमिश्नर आनंद किशोर के खिलाफ मोर्चा खोला.

सदन में आरजेडी विधायक भाई वीरेंद्र ने कहा कि आनन्द किशोर सरकार के नाक के बाल हैं और ये सरकार उनपर कार्रवाई करने से बच रही है.

  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा (Bihar Assembly) में गुरुवार को पटना में हुए जलजमाव को लेकर सदन में जमकर बवाल हुआ. आरजेडी के विधायकों ने पटना के तत्कालीन कमिश्नर आनन्द किशोर पर कार्रवाई करने की जबरदस्त तरीके से मांग उठाई. वेल में पहुंचकर आरजेडी विधायकों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए तत्कालीन कमिश्नर को जलजमाव का दोषी बताते हुए उनपर कार्रवाई की मांग की. आरजेडी विधायकों का आरोप था कि सरकार जलजमाव के दोषियों पर कार्रवाई के नाम पर केवल लीपापोती कर रही है और बड़े अधिकारियों को बचाने में लगी है.

सदन में आरजेडी विधायक भाई वीरेंद्र ने कहा कि आनन्द किशोर सरकार के नाक के बाल हैं और ये सरकार उनपर कार्रवाई करने से बच रही है. इससे पहले आरजेडी के वरिष्ठ नेता और विधायक अब्दुल बारी सिद्दकी ने कहा कि ये सरकार जलजमाव के दोषियों पर कार्रवाई के नाम पर लोगों को बरगला रही है सरकार जांच रिपोर्ट सार्वजनिक करे.

आरजेडी ज्वाइंट कमिटी की मांग पर अड़ी
नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा ने सदन में कहा कि जलजमाव के दोषियों को सरकार हरगिज नहीं बचाएगी बल्कि सरकार ने जांच के बाद पदाधिकारियों पर कार्रवाई भी शुरू कर दी है. सुरेश शर्मा ने कहा कि विरोधियों की मांग कही से सही नहीं क्योंकि जलजमाव को लेकर उच्च स्तरीय जांच हो चुकी है और आनन्द किशोर उस जांच में दोषी नहीं पाए गए हैं.
RJD ने तत्काल कार्रवाई की मांग की


उधर आरजेडी आनन्द किशोर पर कार्रवाई की मांग पर अड़ गई है विधायक भाई वीरेंद्र ने इसका विरोध करते हुए कहा कि विपक्ष सरकार के इस जांच रिपोर्ट को सही नहीं मानती. अगर सरकार में हिम्मत है तो असली दोषी अधिकारी पर कार्रवाई करे जो पटना में जलजमाव के सबसे बड़े गुनहगार हैं उसके बाद आरजेडी के सारे विधायकों ने एक सुर में तत्कालीन में आनन्द किशोर पर कार्रवाई करने की मांग करने लगे और फिर हंगामा करते हुए वेल में पहुंच गए.

आनन्द किशोर के बचाव में उतरी सरकार
तत्कालीन कमिश्नर आनन्द किशोर पर सदन में चौतरफा हमला हुआ तो सरकार भी अपने अधिकारी के बचाव में उतर आई. सदन में सबसे पहले डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने आनन्द किशोर का बचाव करते हुए कहा कि वो जलजमाव के समय नगर निगम के कोई अधिकारी नहीं थे जिनपर सरकार कार्रवाई करे. इसके बाद नगर विकास मंत्री सुरेश कुमार और फिर संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार ने भी आनन्द किशोर का बचाव करते हुए कहा कि नीतीश कुमार की सरकार में ना तो किसी को बचाया जाता है और ना ही किन्हीं को फंसाया जाता है.

ये भी पढ़ें


JDU विधायक का RSS पर निशाना- 'नीतीश की लाठी सिर्फ शरीर पर ही नहीं पड़ती, दिमाग की बत्ती भी खोल देती है'




बिहार के कई जिलों में बारिश, ओलावृष्टि और वज्रपात की संभावना, देखें शहरों के नाम

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज