बिहार बंद के दौरान मचे बवाल पर राजद को 'अफसोस', नेताओं को सता रही छवि की चिंता
Patna News in Hindi

बिहार बंद के दौरान मचे बवाल पर राजद को 'अफसोस', नेताओं को सता रही छवि की चिंता
बिहार बंद के दौरान राजद नेताओं के उत्पात मचाने पर रघुवंश प्रसाद सिंह सरीखे वरिष्ठ नेताओं को हो रहा अफसोस. पार्टी की छवि की भी है चिंता.

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ बिहार बंद (Bihar bandh) के दौरान राजद (RJD) नेताओं-कार्यकर्ताओं के उग्र-प्रदर्शन ने अब पार्टी नेताओं के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी हैं. राजद नेता जहां एक तरफ पार्टी की 'छवि' (party image) खराब होने को लेकर चिंतित हैं, वहीं विपक्षियों के हमलों ने भी उन्हें परेशान कर रखा है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: December 21, 2019, 10:30 PM IST
  • Share this:
पटना. नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Act) और NRC के विरोध में राष्ट्रीय जनता दल (RJD) ने शनिवार को बिहार बंद (Bihar bandh) का आह्वान किया था. बंद के दौरान राजद समर्थकों ने पटना (Patna) समेत प्रदेश के कई स्थानों पर जमकर उत्पात मचाया. सड़कों पर वाहनों में तोड़फोड़ की. आम लोगों और मीडियाकर्मियों के साथ भी मारपीट, कैमरा तोड़ने की खबरें हैं. बिहार बंद के दौरान हुई इन घटनाओं के बाद पार्टी ने कुछ नेताओं पर कार्रवाई भी की, लेकिन वरिष्ठ नेताओं की चिंता कुछ और है. राजद के कई नेता बंद के दौरान हुई घटनाओं से आहत हैं. उन्हें लगता है कि इससे पार्टी की छवि पर काफी बुरा असर पड़ेगा.

रघुवंश सिंह चिंतित, कांति सिंह ने की निंदा
राजद के वरिष्ठ नेता रघुवंश सिंह को इस बात का बेहद अफसोस है कि इस तरह की घटना राजद के कार्यकर्ताओं ने की. NEWS 18 से बात करते हुए रघुवंश सिंह ने कहा, 'ये काफ़ी दुखद है कि राजद के बिहार बंद के दौरान इस तरह की घटना घटी. कोई राजद कार्यकर्ता इस तरह का काम नहीं कर सकता.' पूर्व केंद्रीय मंत्री को आशंका है कि कहीं इस घटना के पीछे राजद को बदनाम करने की साजिश तो नहीं है. इधर, पार्टी की नेता कांति सिंह को भी ऐसी ही चिंता है. उन्होंने कहा, 'राजद का ऐसा कल्चर नहीं रहा है. आज तक राजद ने इतने बंद का आयोजन किया, लेकिन ऐसी घटनाएं कभी नहीं हुईं. इस तरह की घटना की जितनी निंदा की जाए वो कम है.' राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने भी बंद के दौरान हुईं घटनाओं को गंभीरता से लिया. यही वजह है कि पार्टी अध्यक्ष ने वैसे नेताओं पर कार्रवाई की है, जिन्होंने इस तरह की घटनाओं को अंजाम दिया.

RJD feel regrets on the uproar during Bihar bandh-leaders worry about party image
बिहार बंद के दौरान पटना समेत कई शहरों में उग्र प्रदर्शन हुआ.

विपक्षियों को दे दिया मौका


बिहार बंद के दौरान तोड़फोड़ और पत्रकारों से मारपीट की घटना ने विरोधियों को राजद पर हमला करने का मौका दे दिया है. जेडीयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा, 'राजद के बिहार बंद के दौरान हुई घटना को देख 1990 का दौर याद आ गया, जब लालू-राबड़ी का जंगलराज था. बिहार बंद के दौरान जिस तरह वाहनों को तोड़ा गया, पत्रकारों के साथ मारपीट की गई, उसने राजद-कल्चर को एक बार फिर जनता के सामने ला दिया. जनता सब देख रही है, अब वही फैसला करेगी.' दरअसल, राजद पर उसके विरोधी जंगलराज का आरोप लगा हमला बोलते रहे हैं. बिहार बंद के दौरान हुई घटनाओं को लेकर विपक्षियों ने पार्टी की इसी 'छवि' के फिर से सामने आने की बात कह दी, जिससे राजद के नेता चिंतित हैं.

 

ये भी पढ़ें -

 

CAA पर संग्राम: RJD कार्यकर्ताओं ने की मीडियाकर्मियों के साथ मारपीट, ADG बोले- बख्शे नहीं जाएंगे दोषी

 

पटना के लोगों को सर्दी के पसंदीदा फूड खिला रहीं 'पिट्ठा वाली चाची', क्या आपने ऑर्डर किया!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading