लाइव टीवी

नीतीश के 'मौलाना' पर है लालू कैंप की नजर! पढ़ें क्या है मामला

News18 Bihar
Updated: December 13, 2019, 9:54 AM IST
नीतीश के 'मौलाना' पर है लालू कैंप की नजर! पढ़ें क्या है मामला
जेडीयू अगर गुलाम रसूल बलियावी पर कोई कार्रवाई करेगी तो आरजेडी उन्हें अपने साथ लेने को तैयार बैठी है.

एक बार फिर नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर एमएलसी गुलाम रसूल बलियावी ने पार्टी के फैसले के खिलाफ अपनी अलग राय रख दी है. सूत्रों के मुताबिक पार्टी इस बार बलियावी को बर्दाश्त करने के मूड में नहीं है, लेकिन एक मजबूत मुस्लिम चेहरे के चलते पार्टी बहुत सोच-समझकर कोई फैसला लेना चाहती है.

  • Share this:
पटना. नागरिकता संशोधन विधेयक (Citizenship Amendment Bill) को जनता दल युनाइटेड (JDU) ने लोकसभा और राज्यसभा में समर्थन देकर आसानी से पास करवा दिया. हालांकि पार्टी का ये फैसला उसके लिए परेशानी का सबब बन गया है. पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) जहां ट्वीट के जरिए लगातार जेडीयू के निर्णय पर सवाल खड़े कर रहे हैं वहीं पार्टी के भीतर कई अल्पसंख्यक नेताओं ने भी इस पर अपना विरोध दर्ज करवाया है. हालांकि जेडीयू ने साफ कर दिया है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के नेतृत्व में पार्टी ने जो निर्णय लिया वो सही है.
इन सबके बीच खबर है कि पार्टी के फैसले का विरोध करने को लेकर जेडीयू का शीर्ष नेतृत्व बागी नेताओं के खिलाफ जल्द ही बड़ी कार्रवाई कर सकता है. माना जा रहा है कि जिन नेताओं पर गाज गिर सकती हैं उनमें सबसे ऊपर MLC गुलाम रसूल बलियावी का नाम है.


मुखर आवाज रहे हैं बलियावी


बता दें कि बलियावी ने न सिर्फ CAB पर जेडीयू के रुख का विरोध किया है बल्कि इन्होंने ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर भी अपनी पार्टी की राय से अलग केंद्र सरकार के फैसले के खिलाफ खुलकर अपना विरोध जताया था. तब से ही गुलाम रसूल बलियावी सुर्खियों में आ गए थे.


JDU बर्दाश्त करने के मूड में नहीं !
एक बार फिर नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर बलियावी ने पार्टी के फैसले के खिलाफ अपनी अलग राय रख दी है. सूत्रों के मुताबिक पार्टी इस बार बलियावी को बर्दाश्त करने के मूड में नहीं है, लेकिन एक मजबूत मुस्लिम चेहरे के चलते पार्टी बहुत सोच-समझकर कोई फैसला लेना चाहती है.


बलियावी के लिए बेताब है लालू खेमा

न्यूज़ 18 के पास यह पुख्ता जानकारी है कि अगर बलियावी पर नीतीश कुमार कोई कार्रवाई करते हैं तो राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) बेशक उन्हें गले लगाने में एक मिनट की भी देरी नहीं करेगी. पार्टी के एक बड़े नेता ने नाम न उजागर करने की शर्त पर न्यूज़ 18 से ये जानकारी साझा की. उन्होंने कहा कि गुलाम रसूल बलियावी आरजेडी के पुराने कार्यकर्ताओं में से रहे हैं जिन्हें आरजेडी दोनों हाथों से गले लगाने को तैयार है.

जेडीयू के एमएलसी गुलाम रसूल बलियावी बिहार में इदारे शरिया अध्यक्ष हैं


'मौलाना' पर इसलिए फिदा है RJD

दरअसल गुलाम रसूल बलियावी की पहचान केवल जेडीयू के पूर्व सांसद और MLC के तौर पर नहीं है बल्कि बलियावी अपने समुदाय में बेहद लोकप्रिय भी हैं. इसके अलावा समय-समय पर वो नीतीश कुमार के लिए चुनाव में अपने समुदाय (मुसलमानों) का वोट भी दिलाते रहे हैं.
नीतीश कैंप का मुस्लिम चेहरा हैं बलियावी

ऐसे तो नीतीश कैंप में बलियावी के अलावा भी कई मुस्लिम चेहरे हैं जिनमें मंत्री खुर्शीद आलम, गुलाम गौस, MLC खालिद अनवर, तनवीर अख्तर शामिल हैं बावजूद इसके गुलाम रसूल बलियावी की पहचान एक सशक्त मुस्लिम नेता की है. साथ ही अल्पसंख्यकों में भी उनकी जड़ बेहद मजबूत है.
इदारे शरिया की ताकत बलियावी के साथ

दरअसल मौलाना बिहार में इदारे शरिया अध्यक्ष भी हैं, इस नाते मुसलमान समाज में बलियावी के मजबूत फॉलोअर भी हैं. कहा जाता है कि इदारे शरिया से जुड़े लोग बेहद कट्टर होते हैं. ऐसे में अध्यक्ष के एक फरमान पर अधिकांश लोग उनके फैसले के साथ आ जाते हैं.


वोट बैंक पर डाल सकते हैं असर

जानकार भी मानते हैं कि बिहार में इमारत-ए-शरिया के बाद अकलियतों का एक बड़ा हिस्सा इदारे शरिया का फॉलोअर है. जिनकी बिहार के चुनाव में करीब चार से पांच फीसदी वोट की हिस्सेदारी है. आरजेडी के साथ पहले से ही अकलियतों का बड़ा हिस्सा खड़ा है ऐसे में अगर बलियावी आरजेडी कैंप में आ जाते हैं तो यकीनन लालू कैंप की ताकत और बढ़ जाएगी.


फूंक-फूंक कर कदम उठाएगी जेडीयू

नीतीश कुमार एक मंजे हुए राजनीतिज्ञ हैं. जाहिर है उन्हें इस बात का बखूबी अंदाजा है कि मौलाना की अपनी क्या ताकत है और पार्टी को वो कितना फायदा या नुकसान पहुंचा सकते हैं. ऐसे में वो कोई भी ऐसी जल्दीबाजी नहीं करेंगे जिसका फायदा आरजेडी हाथों हाथ उठा ले.


बड़ी बात ये भी है कि नीतीश कुमार के खेमे में मौलाना जैसा कोई और दूसरा मुस्लिम चेहरा भी नहीं है जो बलियावी की भरपाई कर सके. उधर आरजेडी भी मौलाना के लिए बाहें फैलाए बैठा है कि अगर जेडीयू उनके खिलाफ कोई भी कार्रवाई करता है तो वो उन्हें अपने साथ करने का कोई मौका नहीं चूकेगी.


ये भी पढ़ें




News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 13, 2019, 9:19 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर