बिहार: आरजेडी ने NDA खेमे में मचाई हलचल, बीजेपी के इस नेता को बताया CM उम्मीदवार
Patna News in Hindi

बिहार: आरजेडी ने NDA खेमे में मचाई हलचल, बीजेपी के इस नेता को बताया CM उम्मीदवार
भाजपा नेता प्रेम कुमार.

बिहार विधानसभा में आज आरजेडी के विधायक ने बीजेपी के मंत्री प्रेम कुमार को 2020 का भावी मुख्यमंत्री बता दिया. विधायक सीताराम यादव ने कहा कि प्रेम कुमार अतिपछड़े समाज से आते हैं और उनमें बाकियों से कम काबिलियत नहीं है.

  • Share this:
पटना. बिहार में एनडीए ने भले ही ये ऐलान कर दिया है कि 2020 में उनके मुख्यमंत्री का चेहरा नीतीश कुमार होंगे, लेकिन विधानसभा में आज प्रेम कुमार को भावी मुख्यमंत्री बताकर विरोधियों ने एक बड़ा दांव खेल दिया है. सदन में आज आरजेडी ने नीतीश कुमार और सुशील मोदी पर एक बड़ा दांव खेला. बीजेपी के दिग्गज नेता प्रेम कुमार को भावी मुख्यमंत्री बताकर आरजेडी ने एनडीए के भीतर हलचल मचा दी है.

आरजेडी विधायक सीताराम यादव ने सदन में आज बीजेपी के मंत्री प्रेम कुमार की प्रशंसा करते हुए उन्हें 2020 का भावी मुख्यमंत्री बता दिया. इतना ही अपने कथन के पक्ष में राजद विधायक ने तर्क भी रखा और कहा कि प्रेम कुमार अतिपछड़ा समाज से आते हैं. उनमें नीतीश कुमार और सुशील मोदी से कम काबिलियत नहीं है. सदन में जब आरजेडी विधायक ये बोल रहे थे, तब मंत्री प्रेम कुमार की मुस्कुराहट प्रदेश की सियासत में हलचल का संकेत दे रही थी. सदन में आरजेडी के इस दांव के बाद जब ये सवाल मंत्री प्रेम कुमार से पूछा गया तो उनका जवाब था कि ये सारा फैसला पार्टी करती है. हालांकि खुद को मुख्यमंत्री बनने की बात को उन्हें नकारा भी नहीं, बल्कि मुस्कुराते हुए चल दिए.

प्रेम के सहारे आरजेडी का बड़ा दांव
आरजेडी के इस दांव में प्रेम कुमार कुछ हद तक फंसते भी नजर आ रहे हैं. दरअसल आरजेडी को इस बात का पूरा अहसास है कि प्रेम कुमार और सुशील मोदी के बीच जो मतभेद है और साथ ही प्रेम कुमार की जो मुख्यमंत्री बनने की लालसा है, उसको देखते हुए इस दांव से एनडीए में हर हाल में गतिरोध बढ़ेगा. आरजेडी ने प्रेम कुमार को अतिपछड़ा बताकर ये भी दांव खेलने की कोशिश की है जिस अतिपिछड़े समाज के दम पर नीतीश कुमार सत्ता में बने हुए हैं, उसी समाज के नेता को अब वो खुलकर नकार भी नहीं सकते. हालांकि बीजेपी को विरोधियों की यह चाल पूरी तरह से अब समझ में आ गई है. बीजेपी के नेता और मंत्री विजय सिन्हा कहते हैं कि आरजेडी जो बेवजह जोर लगा रही है, उससे कुछ हासिल होनेवाला नहीं है. हां ये जरूर है कि आरजेडी में ताजिंदगी मुख्यमंत्री का उम्मीदवार लालू परिवार से ही होगा, बाकी विधायकों के लिए आरजेडी में कभी कोई वैकेंसी नहीं होगी.
आरजेडी के इस दांव से उनकी पार्टी को कितना फायदा होगा, ये कह पाना तो अभी मुश्किल है लेकिन इतना जरूर है कि प्रेम कुमार का मुख्यमंत्री-प्रेम सबके सामने जरूर उजागर हो गया है. एनडीए की सेहत के लिए शायद ठीक नहीं. बहरहाल, बिहार में इसी साल विधानसभा के चुनाव होने हैं. इसके पहले सभी पार्टियों के बीच एक-दूसरे को लेकर बयानबाजी और शह-मात का खेल शुरू हो चुका है. प्रेम कुमार को लेकर चला गया आरजेडी का ये दांव, इसी कड़ी में से एक है. देखना होगा शह-मात के इस खेल का जेडीयू की तरफ से क्या जवाब आता है.



ये भी पढ़ें -

बिहार के सभी पुलिसकर्मियों की छुट्टी हुई कैंसिल, HOLI को लेकर मुख्यालय ने जारी किया पत्र
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज