होम /न्यूज /बिहार /RJD विधायक ने नीतीश कुमार के खिलाफ खोला मोर्चा, अपनी ही सरकार के खिलाफ बिल लाएंगे पूर्व कृषि मंत्री

RJD विधायक ने नीतीश कुमार के खिलाफ खोला मोर्चा, अपनी ही सरकार के खिलाफ बिल लाएंगे पूर्व कृषि मंत्री

सुधाकर सिंह सरकार के खिलाफ सदन में कृषि के लिए प्राइवेट बिल लाने की तैयारी में है.

सुधाकर सिंह सरकार के खिलाफ सदन में कृषि के लिए प्राइवेट बिल लाने की तैयारी में है.

Bihar News: सुधाकर सिंह जब मंत्री थे तो नीतीश कुमार से कृषि कानून में बदलाव की थी और जब उनकी नहीं सुनी गयी तो उन्होंने ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

44 साल बाद एक बार फिर कृषि व्यवस्था में बदलाव को लेकर प्राइवेट बिल लाने की तैयारी की जा रही है.
बिहार की राजनीति में पहली बार देखने को मिलेगा जब कोई पूर्व कृषि मंत्री अपनी ही सरकार के खिलाफ बिल लाएगा.

पटना. कृषि मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद आरजेडी विधायक और आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के बेटे सुधाकर सिंह ने नीतीश कुमार के खिलाफ फिर मोर्चा खोल दिया है. सुधाकर सिंह जब मंत्री थे तो नीतीश कुमार से कृषि कानून में बदलाव की थी. जब उनकी नहीं सुनी गयी तो उन्होंने इस्तीफा दे दिया था. वहीं अब सुधाकर सिंह सरकार के खिलाफ सदन में कृषि के लिए प्राइवेट बिल लाने की तैयारी में है. दरअसल 44 साल बाद एक बार फिर कृषि व्यवस्था में बदलाव को लेकर प्राइवेट बिल लाने की तैयारी की जा रही है.

बिहार की राजनीति में यह पहली बार देखने को मिलेगा जब कोई पूर्व कृषि मंत्री अपनी ही सरकार के खिलाफ प्राइवेट प्राइवेट बिल सदन में लाने की तैयारी कर रहे है. पूर्व कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने कहा कि वर्तमान सरकार के गलतियों की वजह से आज बिहार के किसान का हाल बेहाल है, जहां बिहार में चावल 2200 सौ किलो प्रति हेक्टेयर का उपज है. तो पंजाब में 4800 किलो प्रति हेक्टेयर है. अगर हम पंजाब के मुकाबले बिहार के किसानों को आय की बात करें तो 20000 करोड़ का सालाना कम आय हो रहा है जो एक स्टेट के बजट के बराबर है.

पूर्व कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने कहा कि शीतकालीन सत्र में प्राइवेट बिल लाएंगे जिसका नाम होगा “कृषि उपज और पशुधन विपणन एवं मंडी स्थापना विधेयक”. सुधाकर सिंह को आशा ही नहीं बल्की पूर्ण विश्वास है कि सरकार और विधानसभा के सदस्य इसमें साथ देंगे. सुधाकर सिंह ने कहा कि जब 2006 में बिहार में कृषि उपज बाजार समिति अधिनियम समाप्त किया गया था तो इसे बड़ा सुधारवादी कदम बताया गया था. उस समय नीतीश कुमार को सत्ता संभाले हुए एक साल हुआ था. लेकिन, आज 16 साल बीत चुके हैं इतने साल बाद भी किसानों को अपनी उपज बेचने के लिए बाजार नहीं मिल पा रहा है और किसान अपने सामान को औने-पौने दाम पर बेंच रहे हैं.

वहीं सुधाकर सिंह के इस बयान पर जेडीयू नेता और बिहार सरकार में अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री जमा खां ने कहा कि नीतीश कुमार हमेशा विकास का काम किया है. उन्होंने किसानों आमदनी बढ़ाने के लिए काफी काफी कुछ किया है. उनके बारे में कौन क्या बोलता है, इससे फर्क नहीं पड़ता है.

बता दें, नीतीश कुमार की आरजेडी के साथ महागठबंधन में सरकार आने के बाद उनकी पहली भिडंत कैबिनेट हाल में सुधाकर सिंह के साथ हुई थी और मामला इतना आगे बढ़ गया था कि गठबंधन में फिर गांठ पड़ने लगी थी और अन्त में सुधाकर सिंह को इस्तीफा देना पड़ा. बेटे का इस्तीफा लिये जाने से कई दिनों तक आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष और सुधाकर सिंह के पिता जगदान्नद सिंह नाराज थे. काफी मुश्किल के बाद लालू यादव परिवार उनको मना तो लिया. लेकिन, अब फिर से सुधाकर सिंह ने अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

Tags: Agriculture Bill, Bihar News, CM Nitish Kumar

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें