RJD की बैठक में पहुंचे तेजस्वी यादव, बोले- दूर की जा रही पार्टी की परेशानी

लालू यादव के नहीं रहने की स्थिति में माना जा रहा था कि उनकी राजनीतिक विरासत तेजस्वी यादव संभालेंगे. लेकिन लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद जिस तरह से तेजस्वी ने मैदान छोड़ दिया और एक महीने के राजनीतिक अज्ञातवास में चले गए.

News18 Bihar
Updated: July 6, 2019, 1:51 PM IST
RJD की बैठक में पहुंचे तेजस्वी यादव, बोले- दूर की जा रही पार्टी की परेशानी
RJD मीटिंग में पहुंचे तेजस्वी यादव
News18 Bihar
Updated: July 6, 2019, 1:51 PM IST
राष्ट्रीय जनता दल की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू हो चुकी है और इसमें तेजस्वी यादव भी शिरकत करने पहुंच चुके हैं. उन्होंने इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि किसी भी दल के लिए राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक महत्वपूर्ण होती है. आज पार्टी विभिन्न मुद्दों को लेकर बैठ रही है और पार्टी में जो भी परेशानी है उसे दूर किया जा रहा है. हालांकि तेजस्वी यादव मीडिया के उस सवाल से बचते नजर आए जिसमें पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने उन्हें मांद में न छिपने की नसीहत देते हुए सामने आकर लड़ाई लड़ने की बात कही थी.

गौरतलब है कि राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक पटना में हो रही है. पटना के होटल मौर्य में होने वाले इस बैठक में लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के साथ ही 2020 में होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव की तैयारी पर विचार किया जा रहा है. बैठक में RJD के सभी वरिष्ठ नेता शामिल हो रहे हैं. राबड़ी देवी, मीसा भारती, तेजप्रताप समेत कई बड़े नेता मीटिंग में शामिल होने पटना के होटल मौर्य पहुंचे. तेजप्रताप जहां राबड़ी देवी के बगल में बैठे वहीं तेजस्वी यादव थोड़ी दूरी पर बैठे रहे.

पार्टी के कार्यक्रमों से दूर रह रहे तेजस्वी
दरअसल बीते कुछ दिनों से तेजस्वी पार्टी के कई कार्यक्रमों से दूर रह रहे थे शुक्रवार को पार्टी के स्थापना दिवस समारोह से भी वो दूर रहे थे. इससे पहले लालू यादव के जन्मदिन 11 जून पर भी पार्टी कार्यालय में आयोजित कार्यक्रमों में उन्होंने हिस्सा नहीं लिया था.

नेतृत्व की कमी से जूझ रही RJD
लालू यादव के नहीं रहने की स्थिति में माना जा रहा था कि उनकी राजनीतिक विरासत तेजस्वी यादव संभालेंगे. लेकिन लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद जिस तरह से तेजस्वी ने मैदान छोड़ दिया और राजनीतिक अज्ञातवास पर चले गए, इससे आरजेडी ने नेतृत्व में कमी महसूस की. माना जा रहा है कि तेज प्रताप, तेजस्वी और मीसा भारती के त्रिकोणीय जंग में आरजेडी फिलहाल नेतृत्व की कमी से जूझ रहा है.

तेज प्रताप-तेजस्वी की तकरार!
Loading...

तेज प्रताप यादव अक्सर खुद को लालू यादव का दूसरा रूप बताते हैं. जाहिर तौर पर वो पार्टी में बड़ी जिम्मेदारी की चाहत रखते हैं. जब तेजस्वी यादव महीने भर के अज्ञातवास पर थे तो वो काफी सक्रिय थे. वो बिहार विधानसभा के शुरू हुए मॉनसून सत्र में भी आ रहे थे. वो कभी मां राबड़ी देवी के साथ दिख जाते हैं. लालू-राबड़ी मोर्चा, डीएएस और अब तेज सेना का गठन कर चुके हैं. साथ ही वो कभी बदलाव यात्रा, कभी प्रदेश कार्यालय में जनता दरबार लगाकर तेजस्वी को चुनौती देते दिखते हैं.

इनपुट- अमित कुमार सिंह

ये भी पढ़ें-


राबड़ी ने मतदाताओं को कहा 'बिकाऊ', JDU बोली-जनता ने अहंकार और भ्रष्टाचार को सिखाया सबक




बिहार: हड़ताल पर PMCH के जूनियर डॉक्टर, इमरजेंसी और OPD सेवा ठप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 6, 2019, 11:41 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...