लाइव टीवी
Elec-widget

तबियत बिगड़ने के बाद भी जारी है उपेंद्र कुशवाहा का अनशन, PMCH में कार्यकर्ताओं ने डाला डेरा

News18 Bihar
Updated: November 30, 2019, 1:14 PM IST
तबियत बिगड़ने के बाद भी जारी है उपेंद्र कुशवाहा का अनशन, PMCH में कार्यकर्ताओं ने डाला डेरा
पटना के अस्पताल में उपेंद्र कुशवाहा से मिलने पहुंचे तेजस्वी यादव और अन्य

पटना में कुशवाहा की जांच के बाद डॉक्‍टर ने बताया कि उनका बल्ड प्रेशर हाई है और पल्स रेट कम है. जबकि रालोसपा के कार्यकर्ता की मानें तो हाल ही में कुशवाहा को पीलिया भी हो चुका है.

  • Share this:
पटना. रालोसपा सुप्रीमो और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा बिहार के औरंगाबाद और नवादा में केंद्रीय विद्यालय की मांग को लेकर आमरण अनशन पर हैं. उपेंद्र कुशवाहा के अनशन का शनिवार को पांचवां दिन हैं, हालांकि अनशन के चौथे दिन ही उनकी तबीयत खराब हो गई थी जिसकी वजह से उन्हें पीएमसीएच में भर्ती कराया गया था. पांचवें दिन उपेंद्र कुशवाहा बोलने की स्थिति में भी नहीं हैं.

पीएमसीएच के कॉटेज में रूम नंबर 10 में इलाजरत उपेंद्र कुशवाहा से मिलने वालों का तांता लगातार लगा हुआ है. वहां मौजूद राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव माधव आनंद और बिहार रालोसपा के अध्यक्ष भूदेव चौधरी ने कहा कि जब तक रालोसपा की मांग नहीं मानी जाती तब तक ये अनशन जारी रहेगा. कॉटेज में कुशवाहा से मिलने समर्थकों की भीड़ लगातार बढ़ रही है.

पटना में जब शुक्रवार की शाम कुशवाहा को पीएमसीएच ले जाया जा रहा था तो उनके समर्थक कभी सड़क पर सो गए तो कभी एंबुलेंस पर चढ़ गए. इस दौरान एंबुलेंस का हूटर भी काम नहीं आया. दरअसल उपेन्द्र कुशवाहा की अचानक तबियत बिगड़ने के बाद सरकार की तरफ से उनको बेहतर इलाज के लिए अनशन स्थल से पीएमसीएच ले जाया जा रहा था.

उपेंद्र कुशवाहा से बिहार में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी मिलने पहुंचे थे. उपेन्द्र कुशवाहा ने यह कह कर दिया था कि नीतीश सरकार में शिक्षा व्यवस्था इतनी चरमरा गयी है कि इससे उबरने में सालों-साल लग जाएंगे. बावजूद इसके नीतीश कुमार के कान पर जूं तक नही रेंग रही. रालोसपा प्रमुख ने कहा कि नीतीश कुमार जितना चाहे उपेन्द्र कुशवाहा को तकलीफ दें. कम से कम बिहार के गरीबों के बच्चे-बच्चियों के लिए बनने वाले स्कूल पर तो अडंगा नहीं लगाएं.

पटना में कुशवाहा की जांच के बाद डॉक्‍टर ने बताया कि उनका बल्ड प्रेशर हाई है और पल्स रेट कम है. जबकि रालोसपा के कार्यकर्ता की मानें तो हाल ही में कुशवाहा को पीलिया भी हो चुका है. ऐसे में बीपी बढ़ने से उन्हें अन्य तरह की तकलीफ भी हो सकती है. जबकि उपेन्द्र कुशवाहा का हाल जानने के साथ उनके समर्थन में शरद यादव भी अनशन स्थल पर पहुंचे थे. इसके पहले राजद और कांग्रेस और 'हम' के नेता भी अनशन कर रहे रालोसपा प्रमुख के समर्थन में धरनास्थल पर बैठ चुके हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2019, 1:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...