RJD में शामिल हो सकते हैं RLSP नेता माधव आनंद, राबड़ी के सरकारी बंगले में तेजस्वी से सीक्रेट मीटिंग!

माधव आनंद के आरजेडी में जाने की अटकलें तेज हो गई है.
माधव आनंद के आरजेडी में जाने की अटकलें तेज हो गई है.

Bihar Assembly Election 2020: रालोसपा (RLSP) के प्रधान महासचिव माधव आनंद (Madhav Anand) के आरजेडी (RJD) में जाने की अटकलें तेज हो गई है. राबड़ी देवी के सरकारी बंगले में तेजस्वी यादव मुलाकात हुई है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 29, 2020, 11:03 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही महागठबंधन में मुश्किलों का दौर भी शुरू हो गया है.  पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) के बाद रालोसपा (RLSP) भी पार्टी से अलग हो गया. रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा ने नया गठबंधन तैयार किया है. उन्होंने बसपा के साथ गठबंधन का किया एलान किया है इसमें जनवादी पार्टी सोशलिस्ट पार्टी भी शामिल हुआ है. अब चुनावी पिच में एक और बड़ा उलटफेर होने की संभावना बनती दिख रही है. सूत्रों की मानें तो रालोसपा के प्रधान महासचिव माधव आनंद के आरजेडी में जाने की अटकलें तेज हो गई है. राबड़ी देवी (Rabri Devi) के सरकारी बंगले में तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) मुलाकात हुई है.

जानकारी के मुताबिक, महागठबंधन से नाता तोड़ने के बाद भी रालोसपा के प्रधान महासचिव माधव आनंद तेजस्वी यादव से मिलने पहुंचे. राबड़ी देवी के सरकारी बंगले में दोनों की मुलाकात हुई है. ये मुलाकात करीब 5 घंटे तक चली. सूत्रों की मानें तो माधव आनंद आरजेडी जाने की तैयारी में हैं. माधव आनंद अपने लिए आरजेडी में जगह तलाश रहे हैं, इसलिए ये गुपचुप हुई है. हालांकि न्यूज 18 का कैमरा देखते माधव आनंद मुंह फेरने की कोशिश करने लगे. मुलाकात पर सवाल पूछने पर उन्होंने कहा, पुरानी जान पहचान है, इसलिए मिलने आए थे.

सभी 243 सीटों में चुनाव लड़ने का ऐलान



उपेन्द्र कुशवाहा ने बसपा के साथ सभी 243 सीटों पर चुनाव लड़ने का भी ऐलान किया. उन्होंने चिराग को भी न्योता दिया और कहा कि इस गठबंधन में जो आना चाहें सबका स्वागत है. रालोसपा में मची भगदड़ पर उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि हमने अपनी नाव मंझधार से निकाल ली है, लेकिन जो कमजोर दिल वाले हैं वो उतरकर भाग रहे हैं. कुशवाहा ने लालू-राबड़ी शासनकाल पर भी हमला बोलते हुए कहा कि लालू राज में लोग दोनों हाथों से पैसे बटोरते थे. पैसे के बिना कोई कम नहीं होता था. नीतीश कुमार भी पुराने 15 साल की तरह काम कर रही और बिहार में दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं. उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि लालू के समय में शिक्षा व्यवस्था कैसी थी इससे समझ सकते हैं कि वे अपने दोनों बेटों को मैट्रिक भी पास नहीं करवा पाए.
ये भी पढ़ें: दिल्ली AIIMS ने INI-CET 2021 का नोटिफिकेशन किया जारी, यहां चेक करें डीटेल

रालोसपा के नेता को तेजस्वी ने रातोंरात पार्टी में किया शामिल

एक तरफ जहां उपेंद्र कुशवाहा को टिकट को लेकर कोई आश्वासन नहीं मिल रहा है, वहीं उपेंद्र कुशवाहा के ही दल के नेताओं को तेजस्वी ने रातों-रात अपने पार्टी में शामिल कर लिया है. इससे उपेंद्र कुशवाहा काफी नाराज बताए जा रहे हैं. गौरतलब है कि रालोसपा युवा के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष मोहम्मद कामरान को मंगलवार देर रात तेजस्वी नहीं अपनी पार्टी की सदस्यता दिलाई जिससे कुशवाहा बढ़ते हुए बताए जाते हैं. माना जा रहा है कि आरजेडी ने उपेंद्र कुशवाहा की ही पार्टी में सेंध लगा दी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज