होम /न्यूज /बिहार /

Bihar Weather Update: बिहार में अच्‍छी बारिश के आसार नहीं, तेज ठंडी हवाओं से राहत

Bihar Weather Update: बिहार में अच्‍छी बारिश के आसार नहीं, तेज ठंडी हवाओं से राहत

Bihar Weather Forecast: बिहार में फिलहाल अच्‍छी बारिश की संभावना काफी कम है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Bihar Weather Forecast: बिहार में फिलहाल अच्‍छी बारिश की संभावना काफी कम है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Bihar Weather News 15th August 2022: बिहार में तेज ठंडी हवाएं चलने से लोगों को उमस भरी गर्मी से राहत मिली है, लेक‍िन प्रदेश में फिलहाल अच्‍छी बारिश की उम्‍मीद न के बराबर है. इसका सबसे ज्‍यादा असर कृषि क्षेत्र पर पड़ने की आशंका है. औसत से कम बरसात होने की वजह से खासकर धान की फसल के प्रभावित होने के आसार हैं. धान की रोपाई के रकबे में भी कमी आने की संभावना है.

अधिक पढ़ें ...

पटना. बिहार में दक्षिण-पश्चिम मानसून की रफ्तार एक बार फिर से धीमी पड़ गई है. प्रदेश में मानसून का सीजन चल रहा है, लेकिन लोग मूसलाधार बारिश के लिए तरस रहे हैं. पिछले कई दिनों से बिहार में अच्‍छी बारिश रिकॉर्ड नहीं की गई है. हालांकि, सूबे के अधिकांश ज‍िलों में तेज ठंडी हवाएं चलने से लोगों को पसीने वाली गर्मी का सामना नहीं करना पड़ रहा है. अच्‍छी बारिश नहीं होने का सबसे ज्‍यादा असर कृषि क्षेत्र पर पड़ने की आशंका गहरा गई है. बरसात के मौसम में बिहार में व्‍यापक पैमाने पर धान की खेती की जाती है, लेकिन औसत से कम बारिश होने की वजह से खेतीबारी पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है. धान की रोपाई के रकबे में भी कमी आने के आसार अब बढ़ गए हैं. बता दें कि धान की खेती के लिए पर्याप्‍त मात्रा में पानी की जरूरत होती है, लेकिन इस बार अच्‍छी बारिश नहीं होने की वजह से किसानों की चिंताएं बढ़ गई हैं.

मौसम विभाग की ओर से बिहार में बारिश की स्थिति को लेकर ताजा अपडेट जारी किया गया है. आईएमडी के ताजा अपडेट में बिहार में 18 अगस्‍त तक कहीं-कहीं छिटपुट बारिश होने की संभावना जताई गई है. रविवार आधी रात के बाद प्रदेश के कुछ हिस्‍सों में हल्‍की बारिश रिकॉर्ड की गई. मौसम विज्ञानियों की मानें तो बिहार में फिलहाल अच्‍छी बारिश होने की संभावना न के बराबर है. पड़ोसी राज्‍य झारखंड में लगातार मूसलाधार बारिश हो रही है, लेकिन बिहार में मानसून के इस सीजन में अच्‍छी बारिश नहीं हुई है. इसका असर कृषि क्षेत्र पर पड़ने की आशंका बढ़ गई है. बारिश के सीजन में धान की खेती व्‍यापक पैमाने पर की जाती है. इसे लिए अत्‍यधिक पानी की जरूरत होती है, लेकिन इस मानसून के सीजन में अच्‍छी बारिश नहीं हुई है. इससे खेतीबारी से जुड़ी गतिविधियों पर प्रतिकूल असर पड़ने के आसार बढ़ गए हैं.

सीमावर्ती जिलों में बाढ़ जैसे हालात
दूसरी तरफ, नेपाल के तराई वाले इलाकों में मूसलाधार बारिश होने की वजह से प्रदेश के सीमावर्ती जिलों में पड़ने वाली नदियां उफना गई हैं. छोटी-बड़ी नदियों के उफनाने से क्षेत्र में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं. जमीन के कटाव के कारण स्‍थानीय लोगों में दहशत का माहौल बन गया है. लोग घरबार छोड़कर सुरक्षित जगहों पर जाने के लिए पलायन करने को मजबूर हो गए हैं.

Tags: Bihar weather, IMD forecast

अगली ख़बर