Assembly Banner 2021

बैंड,बाजा, बारात पर कोरोना का ग्रहण, करोड़ों का घाटा उठाने को मजबूर हुए लग्न इंडस्ट्री के लोग

पटना के एक मैरैज गार्डन की फाइल फोटो

पटना के एक मैरैज गार्डन की फाइल फोटो

पटना के एक बड़े मैरेज हॉल वाटिका मैरेज हॉल के मैनेजर जितेंद्र ने बताया की एक भी बुकिंग नहीं है ऐसे में हमारे स्टाफ़्स को पैसा देना भी मुश्किल है. पटना के बैंड-बाजा वाले लोगों का भी हाल ऐसा ही है. पटना के करबिगहिया जहां पटना के कई नामी बैंड बाजे वालो की दुकान थी जो आज लॉकडाउन की वजह से बंद हैं

  • Share this:
पटना. कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से देश भर में लगे लॉकडाउन (Lockdown) का साइड इफ़ेक्ट लग्न के समय पटना में शादी-ब्याह से जुड़े व्यवसाय पर सीधा पड़ने लगा है. 14 अप्रैल से खरमास ख़त्म हुआ है और शादी-ब्याह के लग्न की शुरुआत हो गई है. इस मौक़े पर पटना के जितने भी मैरेज हॉल (Marriage Hall) हैं पूरी तरह से बुक रहते थे लेकिन फिलहाल हर जगह सन्नाटा पसरा है. पटना के बड़े-बड़े होटलों का भी यही हाल है सिर्फ़ यही नहीं पटना के वो तमाम बड़े मार्केट जहां गहने से लेकर कपड़े या फिर यूं कहें शादी-ब्याह से जुड़े तमाम सामान मिलते हैं और वहां इस वक़्त पैर रखने की भी जगह नही मिलती लेकिन लॉकडाउन की वजह से पटना के शादी-ब्याह के मार्केट पूरी तरह से सन्नाटा में डूबे हुए हैं.

होटलों की बुकिंग रद्द

NEWS 18 ने जब पटना के कुछ बड़े होटलों की ओर रूख किया और जानना चाहा की क्या हाल है लॉक डाउन में शादी ब्याह के अवसर पर होटलों की बुकिंग का तो जानकर हैरान रह गए. एक भी होटल के स्टाफ़ नहीं आ रहे है और सारे के सारे होटल सिर्फ़ गार्ड के भरोसे हैं. पटना के सबसे बड़े होटल मौर्या के वरिष्ठ प्रबंधक बीडी सिंह ने बताया कि कोरोना की वजह से लॉकडाउन है और ऐसे में जिन लोगों ने पहले शादी के लिए होटल बुक किया था उन्होंने कैंसिल कर दिया है. होटल भी बंद करना पड़ा है जिससे भारी नुक़सान उठाना पड़ा है जबकि पिछले साल तक पूरे लग्न में एक दिन भी होटल ख़ाली नहीं रहता था.



मैरेज हॉल्स को भी उठाना पड़ रहा घाटा
पटना में छोटे बड़े मिलाकर लगभग 100 से ज़्यादा होटल हैं. अगर सिर्फ़ होटल की बात करें तो पटना के होटल व्यवसाय को करोड़ों में कमाई होती है शादी-ब्याह के समय में सिर्फ़ ये हाल होटलों का ही नहीं है. पटना के बड़े-बड़े मैरेज हॉलों में भी लग्न के समय शायद ही कभी इतना सन्नाटा देखने को मिलता है. लॉक डाउन की वजह से पटना के बड़े से लेकर छोटे मैरेज हॉल ख़ाली ख़ाली हैं. पटना में बड़े-छोटे मिलाकर 300 मैरेज हॉल हैं जो लग्न के समय बुक रहते हैं. एक छोटे मैरेज हॉल की बुकिंग में कमसे से कम 50 हज़ार से 1 लाख रुपया तक लेते है अगर खाना पीना भी मैरेज हॉल वालों को दिया गया तो ख़र्च 2 लाख से ज़्यादा हो जाता है. बड़े हॉल की बुकिंग में शादी-ब्याह समारोह साथ साथ खाने और ठहरने का लेकर पांच लाख से शुरू होकर दस लाख तक पहुंच जाता है लेकिन लॉक डाउन की वजह से मैरेज हॉल्स की बुकिंग पूरी तरह से कैंसिल हो गई है.

कोरोना के कारण संकट में बिहार का लग्न उद्योग
कोरोना के कारण संकट में बिहार का लग्न उद्योग
(सांकेतिक चित्र)


बैंड-बाजा का भी बुरा हाल

पटना के एक बड़े मैरेज हॉल वाटिका मैरेज हॉल के मैनेजर जितेंद्र ने बताया की एक भी बुकिंग नहीं है ऐसे में हमारे स्टाफ़्स को पैसा देना भी मुश्किल है. पटना के बैंड-बाजा वाले लोगों का भी हाल ऐसा ही है. पटना के करबिगहिया जहां पटना के कई नामी बैंड बाजे वालो की दुकान थी जो आज लॉकडाउन की वजह से बंद हैं. पंजाब बैंड के मैनेजर मुन्ना कहते है ऐसा तो हमने पूरी ज़िंदगी में कभी नहीं देखा था. लग्न में कमाये पैसे से साल भर घर का ख़र्च चलता था लेकिन आज हाल बेहाल है. कुछ ऐसा ही हाल पटना के सबसे बड़े मार्केट हथुआ मार्केट का दिखा जहां शादी-ब्याह के मौके पर भारी भीड़ हुआ करती थी वहां आज पूरी तरह से सन्नाटा पसरा हुआ है.

सर्राफा बाजार में पसरा सन्नाटा

पटना के बड़े मार्केट में शादी-ब्याह से जुड़े कपड़े और गहने के साथ साथ ज़रूरी के सामान मिलते हैं और लग्न के समय करोड़ों के गहने और कपड़े ख़रीदे जाते है आज सन्नाटा मे डुबा हुआ है. ऐसे ही हालात बर्तन से लेकर खाने पीने की व्यवस्था करने वाले टेंट हाउसों की भी है. टेंट हाउस के मालिक अंजनी कुमार कहते है के डिमांड नही होने से भारी नुक़सान उठाना पड़ रहा है और सारी बुकिंग बंद है.

ये भी पढ़ें-  मालगाड़ी से कटकर दो युवकों की मौत, ट्रैक के रास्ते मधुबनी से लौट रहे थे अरवल

ये भी पढ़ें- कंस्ट्रक्शन कंपनी के प्लांट में मजदूर की संदेहास्पद मौत, पेड़ से लटका मिला शव
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज