'लालू लीला' के लोकार्पण से पहले पटना में बढ़ाई गई कार्यक्रम स्थल और पब्लिकेशन हाउस की सुरक्षा

'लालू लीला' शीर्षक इस किताब में लालू प्रसाद यादव के भ्रष्टाचार की कहानी लिखी गई है. तीन सौ पन्नों की इस किताब में सुशील मोदी ने लालू प्रसाद के अलावा उन लोगों के बारे में भी लिखा है, जिन पर लालू के साथ भ्रष्टाचार करने के आरोप लगे हैं.

News18 Bihar
Updated: October 11, 2018, 11:59 AM IST
'लालू लीला' के लोकार्पण से पहले पटना में बढ़ाई गई कार्यक्रम स्थल और पब्लिकेशन हाउस की सुरक्षा
लालू लीला किताब
News18 Bihar
Updated: October 11, 2018, 11:59 AM IST
लालू प्रसाद यादव पर लिखी किताब 'लालू लीला' के लोकार्पण को लेकर बिहार की राजधानी पटना में कार्यक्रम स्थल की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी द्वारा लिखी इस किताब का गुरुवार को पटना के ही एक हॉल में लोकार्पण होना है. किताब के लोकार्पण में बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी को गड़बड़ी की आशंका है जिसको लेकर उन्होंने सीएम नीतीश कुमार से बात की.

इस बातचीत के बाद सीएम नीतीश कुमार ने अपने अधिकारियों से बात की जिसके बाद पटना के एसएसपी मनु महाराज और जिलाधिकारी को निर्देश दिया गया कि कार्यक्रम स्थल और प्रभात प्रकाशन, जिसने ये किताब छापी है, उसकी सुरक्षा को बढ़ा दिया जाए.

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के सबसे बड़े राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी माने जाने वाले बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने 'लालू लीला' नामक किताब लिखी है. ये किताब लालू प्रसाद पर लिखी गई है और इस किताब का लोकार्पण पटना में होने जा रहा है.

ये भी पढ़ें- इलाज के दौरान हुई पति की मौत तो अस्पताल की छत से कूदकर पत्नी ने भी दे दी जान

दरअसल 'लालू लीला' शीर्षक इस किताब में लालू प्रसाद यादव के भ्रष्टाचार की कहानी लिखी गई है. तीन सौ पन्नों की इस किताब में सुशील मोदी ने लालू प्रसाद के अलावा उन लोगों के बारे में भी लिखा है, जिन पर लालू के साथ भ्रष्टाचार करने के आरोप लगे हैं.

ये भी पढ़ें- ऑनर किलिंगः घरवालों ने पहले कैंची से गोदा, फिर बिस्तर में लपेट बालू में दबाया शव

सुशील मोदी ने अपनी इस किताब में करीब एक दर्जन मामले उजागर किए हैं. दरअसल भाजपा के बिहार की सत्ता में आने से पहले भी सुशील कुमार मोदी के निशाने पर लगातार लालू और लालू परिवार के सदस्‍य थे और वो हर सप्ताह प्रेस कांफ्रेंस कर के नए-नए खुलासे करते थे.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर