लाइव टीवी

CAB: शरद यादव का नीतीश पर तंज- समझ में नहीं आता लोग कैसे अपना जमीर बेच देते हैं?

News18 Bihar
Updated: December 10, 2019, 5:41 PM IST
CAB: शरद यादव का नीतीश पर तंज- समझ में नहीं आता लोग कैसे अपना जमीर बेच देते हैं?
नागरिकता संशोधन विधेयक का समर्थन करने पर शरद यादव ने नीतीश कुमार पर सवाल खड़े किए हैं.

पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद राम कृपाल यादव ने पीके के उठाए सवाल पर कहा कि आखिरकार कौन है प्रशांत किशोर? पार्टी का निर्णय बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ले लिया है और वो सिटिजन अमेंडमेंट बिल के पक्ष में है.

  • Share this:
पटना. नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship amendment bill) लोकसभा में पास होने के बाद से ही बिहार की राजनीति गरमा गई है. ऐसा इस बिल के समर्थन में जेडीयू (JDU) के मतदान करने पर राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) के उठाए गए सवाल बाद से शुरू हुआ है. अब इस मामले में शरद यादव (Sharad Yadav) भी कूद गए हैं. उन्होंने पीके के बयान का समर्थन करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) पर करारा तंज कसा है. उन्होंने कहा कि समझ में नहीं आता लोग कैसे अपना जमीर बेच देते हैं?

शरद यादव ने कहा कि केंद्र सरकार का यह फैसला देश बांटने वाला है. इससे भी ज्यादा नीतीश कुमार के इस बिल को समर्थन से हैरत होती है. समझ में नहीं आता लोग कैसे अपना जमीर बेच देते हैं? शरद ने प्रशांत किशोर और पवन वर्मा के बयान को सही बताते हुए कहा कि वे सही बोल रहे हैं, लेकिन आश्चर्य इस बात पर है कि पार्टी के कई बड़े समाजवादी नेता इस फैसले के साथ कैसे खड़े हैं? अपने कुछ फायदे के लिए लोग समझौता कैसे कर लेते हैं?

बता दें, प्रशांत किशोर ने ट्वीट किया था कि नागरिकता संशोधन बिल पर जेडीयू के समर्थन से दुखी हूं. यह बिल धर्म के आधार पर नागरिकता प्रदान करने वाला है, जो भेदभाव पूर्ण है. यह पार्टी के संविधान से मेल नहीं खाता, जिसमें धर्मनिरपेक्ष शब्द पहले पन्ने पर तीन बार आता है. पार्टी का नेतृत्व गांधी के सिद्धांतों को मानने वाला है.


एक तरफ शरद यादव जहां पीके के बयान को सही ठहरा रहे हैं, वहीं बीजेपी प्रशांत किशोर को अपने निशाने पर ले रही है. पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद राम कृपाल यादव ने पीके के उठाए सवाल पर कहा कि आखिरकार कौन हैं प्रशांत किशोर? पार्टी का निर्णय बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लिया है और वह सिटिजन अमेंडमेंट बिल के पक्ष में हैं.

वहीं लोक जन शक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने इस मामले पर तटस्थ रुख अपनाते हुए कहा कि प्रशांत किशोर का ट्वीट जेडीयू का आंतरिक मामला है.

ये भी पढ़ें

नागरिकता संशोधन विधेयक: पीके के बाद JDU के इन दो बड़े नेताओं ने भी उठाए सवाल
पीके के बयान पर बोली बीजेपी- 'जिनसे पैसे लेंगे उनका ख्याल तो रखेंगे ही'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2019, 3:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर