'इमरजेंसी भी पार्लियामेंट से पारित हुई था, फिर नीतीश कुमार विरोध में क्यों थे?'

शिवानंद तिवारी ने कहा कि धारा-370 को खत्म करने से पहले जेडीयू के नेताओं ने इसे काला दिन करार दे दिया था. अब कह रहे हैं कि कॉमन मिनिमम प्रोग्राम का मामला नहीं है.

News18 Bihar
Updated: August 8, 2019, 4:54 PM IST
'इमरजेंसी भी पार्लियामेंट से पारित हुई था, फिर नीतीश कुमार विरोध में क्यों थे?'
धारा 370 खत्म किए जाने पर जेडीयू के बदले रुख पर आरजेडी ने शिवानंद तिवारी ने सवाल उठाए हैं.
News18 Bihar
Updated: August 8, 2019, 4:54 PM IST
धारा-370 के प्रावधानों को खत्म किए जाने पर एनडीए की सहयोगी जेडीयू के तेवर तो नरम पड़ गए हैं, लेकिन बिहार में विरोधी दल आग-बबूला हो रहे हैं. आरजेडी खास तौर पर जेडीयू के बदले रुख पर निशाना साध रही है. पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने कहा कि अपने सिद्धांतों पर कायम रहने की हिम्मत नहीं तो बहाना ढूंढ़ा जा रहा है.

कमिटमेंट का सवाल है
शिवानंद तिवारी ने कहा कि धारा 370 को खत्म करने से पहले जेडीयू के नेताओं ने इसे काला दिन करार दे दिया था. अब कह रहे हैं कि कॉमन मिनिमम प्रोग्राम का मामला नहीं है. उन्होंने कहा कि दरअसल ये कमिटमेंट का सवाल है, लेकिन जेडीयू में अपने सिद्धांतों पर कायम रहने की हिम्मत नहीं है तो बहाना ढूंढ़ रही है.

दोहरा मापदंड अपना रहे नीतीश

आरजेडी नेता ने कहा कि आधी रात को जब इमरजेंसी लागू हुई थी तो इसकी अवधि बढ़ाने के लिए पार्लियामेंट की सहमति ली गई थी. तब भी यह संसद से पारित किया गया था. आखिर तब क्या वजह थी जो नीतीश कुमार ने इसका विरोध किया था? जाहिर है जेडीयू और नीतीश कुमार का यह दोहरा मापदंड है.

बीजेपी के बदले रुख से बीजेपी खुश
वहीं, जेडीयू के नरम रुख पर बिहार सरकार में मंत्री और बीजेपी नेता विजय सिन्हा ने कहा कि जब घोर विरोधी कांग्रेस के लोग भी समर्थन कर रहे हैं तो जेडीयू तो हमाराे गठबंधन का पार्टनर है. जेडीयू हमेशा राष्ट्रहित में सक्रिय रही है. बीजेपी-जेडीयू विकास के मुद्दे पर साथ है इसलिए कोई दुराव नहीं हो सकता.
Loading...

जेडीयू ने अचानक लिया 'यू-टर्न'
बता दें कि आर्टिकल 370 के निर्णय को लेकर राज्यसभा में विरोध पर उतरी जेडीयू ने अब अचानक ही अपना रुख बदल लिया है. पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सांसद आर सी पी सिंह ने कहा कि हमारे दिवंगत नेता जॉर्ज फर्नांडिस ने कहा था कि हम किसी भी विवादित प्रस्ताव का साथ नहीं देंगे. ऐसे में हम उनकी आत्मा को नहीं दुखाना चाहते थे. इसी के चलते संसद में हमने आर्टिकल 370 का विरोध किया.

कोई कॉमन मिनिमम प्रोग्राम नहीं-JDU
वहीं, बुधवार आरसीपी सिंह ने अचानक कहा कि अब सभी को नया कानून मानना चाहिए. जबकि गुरुवार को श्री सिंह ने कहा कि बिहार में किसी भी तरह के कॉमन मिनिमम प्रोग्राम की बात को खारिज कर दिया. उन्होंने कहा कि प्रदेश में किसी कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के तहत नहीं बल्कि सिर्फ विकास के मुद्दे पर सरकार चल रही है.

ये भी पढ़ें-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 4:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...