पुलिस हुई फेल तो मिर्च पाउडर और डंडा बना पटना के दुकानदारों का हथियार, पढ़ें पूरी खबर

पिछले महीने रंगदारी नहीं देने के कारण बदमाशो ने दिनदहाड़े एक किराना दुकानदार की दुकान में घुस कर गोली मारकर हत्या कर दी जबकि रंगदारी की सूचना व्यवसायी पुलिस को पहले ही दे चुका था

News18 Bihar
Updated: July 31, 2019, 2:19 PM IST
पुलिस हुई फेल तो मिर्च पाउडर और डंडा बना पटना के दुकानदारों का हथियार, पढ़ें पूरी खबर
पटना के बिक्रम बाजार में गश्त लगाते दुकानदार
News18 Bihar
Updated: July 31, 2019, 2:19 PM IST
मिर्च पाउडर का उपयोग आम तौर पर महिलाएं अपनी सुरक्षा के लिए करती हैं लेकिन इन दिनों पटना में दुकानदार अपनी सुरक्षा के लिए इसी मिर्च पाउडर के भरोसे हैं. राजधानी पटना से सटे बिक्रम में पुलिस का इकबाल समाप्त हो चुका है और यहां दुकानदारों को अब पुलिस पर भरोसा नहीं रहा. यही कारण है कि दुकानदार अपने दुकान में रंगदारों से निपटने के लिए मिर्च का पाउडर, एक डंडा और छोटा त्रिशूल रखने लगे हैं ताकि अपनी सुरक्षा के लिए इसका उपयोग वो विशेष परिस्थितियों में कर सकें.

पहले मांगते हैं रंगदारी फिर मारते हैं गोली

बिक्रम बाजार में रंगदारों का कहर है. आये दिन सड़को पर दिनदहाड़े बाइक सवार बदमाश हथियार लहराते हुए फायरिंग कर चले जाते है. ये बदमाश दुकानदारों से रंगदारी मांगते हैं दुकानदार जब रंगदारी देने से आना कानी करता है तो दुकान के सामने ही या तो गोली चलाते है या फिर उसे गोली मार देते हैं. ये हालात सिर्फ बिक्रम के ही नहीं हैं बल्कि सटे नौबतपुर बिहटा में भी हैं.

अपराधियों से सुरक्षा के लिए बनाए हथियार दो दिखाती महिला दुकानदार


दुकानदार की ली थी जान

पिछले महीने रंगदारी नहीं देने के कारण बदमाशो ने दिनदहाड़े एक किराना दुकानदार की दुकान में घुस कर गोली मारकर हत्या कर दी जबकि रंगदारी की सूचना व्यवसायी पुलिस को पहले ही दे चुका था और यह भी कहा था कि किस वक्त रंगदार उनसे उनके दुकान पर रंगदारी लेने आएंगे लेकिन पुलिसिया खौफ को धत्ता बताते हुए अपराधी आराम से गोली मारकर चलते बने.

बाजार में चस्पाए गए एसएसपी के नंबर
Loading...

रंगदारों से से निबटने के लिए यहां के व्यवसायी अपनी दुकानों मे मिर्ची पाउडर, डंडा लेकर बैठते हैं. सभी दुकान के पास एक पोस्टर लगाया गया है जिसपर पटना एसएसपी का मोबाइल नंबर भी लिखा है. व्यवसायी कहते हैं कि अब अपनी सुरक्षा अपने बूते करेंगे क्योंकि यहां की पुलिस हमारी जान नहीं बचा सकती है.

रंगदारों को सबक सिखाने की ठानी

संतोष साह की पत्नी रेखा देवी ने कहा कि कुछ दिन पहले दुकान पर रंगदार आये और रंगदारी नहीं देने पर सुबह के समय ही मेरे पति की अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी. अब यह दुकान उनका छोटा बेटा चला रहा है. जिस हाथ में कलम होना चाहिए था उस हाथ में बटखरा है. रंगदारों के इस भय के माहौल से निबटने के लिए बिक्रम के दुकानदारों ने एक सामाजिक संगठन बनाया है जिसमे जिसमें यह निर्णय लिया गया कि अगर बाजार में रंगदार दिखता है या रंगदारी मांगता है तो उसे लाठी डंडे से खदेड़ दिया जाए न कि पुलिस के भरोसे रहा जाए.

पुलिस का दावा

इधर पालीगंज डीएसपी मनोज कुमार पांडेय यह दावा करते हैं कि अब यहां से रंगदारों का खौफ खत्म हो चुका है. लगभग एक दर्जन रंगदारों को पुलिस ने हथियार सहित गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज दिया है. बिक्रम बाजार में अलग से पुलिस की नियुक्ति की गई जो सिर्फ बाजार पर नज़र रखेगी. क्विक रिस्पांस टीम भी गठित की गई है. यहां बाप जी गैंग के अपराधी सक्रिय हैं जिसे पुलिस लगभग समाप्त कर चुकी है.

पुलिस लाख दावा कर ले लेकिन अपराधी पुलिस को खुली चुनौती दे रहे हैं नतीजन खौफजदा अपराधी अपनी सुरक्षा खुद कर रहे हैं जो पटना पुलिस के लिए एक तरह से शर्मिंदगी वाली बात है.

रिपोर्ट- आदित्य आनंद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 31, 2019, 2:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...