होम /न्यूज /बिहार /

स्पेशल ब्रांच ने बनाई बिहार में सक्रिय बालू के अवैध कारोबारियों की लिस्ट, शुरू हुई बड़ी कार्रवाई की तैयारी

स्पेशल ब्रांच ने बनाई बिहार में सक्रिय बालू के अवैध कारोबारियों की लिस्ट, शुरू हुई बड़ी कार्रवाई की तैयारी

निर्देश है कि कार्रवाई करने के लिए जरूरत पड़े तो जिले के खनन पदाधिकारी, डीएम और एसपी से भी इस मामले में सहयोग ले सकते हैं

निर्देश है कि कार्रवाई करने के लिए जरूरत पड़े तो जिले के खनन पदाधिकारी, डीएम और एसपी से भी इस मामले में सहयोग ले सकते हैं

Secret List: खनन विभाग के डायरेक्टर ने अपने सभी अधिकारियों और जिला खनन पदाधिकारियों को सूची लीक नहीं होने की हिदायत के साथ अवैध कारोबारियों पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है. निर्देश का अनुपालन हर हाल में सुनिश्चित करने को कहा गया है. आदेश की अवहेलना करने वाले अफसरों पर सख्त कार्रवाई की चेतावनी भी दी गई है.

अधिक पढ़ें ...

पटना. बिहार में भूतत्व एवं खनन विभाग की लाख कोशिशों के बावजूद बालू घाटों पर अवैध उत्खनन पर लगाम नहीं लग पा रहा है. ऐसे में खनन एवं भूतत्व विभाग ने स्पेशल ब्रांच की मदद से बालू के अवैध खनन पर शिकंजा कसने का फैसला किया है. इसके लिए खनन विभाग की टीम ने बड़े माफियाओं और अवैध कारोबारियों के नाम हासिल कर उनके खिलाफ अभियान शुरू करने की प्लानिंग की है. विभाग ने इसके लिए विभागीय स्तर पर अफसरों को निर्देशित कर दिया है.

दरअसल खान एवं भूतत्व विभाग के अनुरोध पर स्पेशल ब्रांच की टीम ने अवैध बालू कारोबारियों की एक सूची सौंपी है. सूची को बेहद गोपनीय तरीके से विभाग के अधिकारियों को दिया गया है. खनन विभाग के डायरेक्टर ने अपने सभी अधिकारियों और जिला खनन पदाधिकारियों को सूची लीक नहीं होने की हिदायत के साथ अवैध कारोबारियों पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है. निर्देश का अनुपालन हर हाल में सुनिश्चित करने को कहा गया है. आदेश की अवहेलना करने वाले अफसरों पर सख्त कार्रवाई की चेतावनी भी दी गई है. खनन विभाग के निदेशक ने कहा है कि जरूरत पड़ने पर जिले के खनन पदाधिकारी, डीएम और एसपी से भी इस मामले में सहयोग ले सकते हैं.

दरअसल पिछले दिनों विभागीय स्तर पर जो समीक्षा हुई थी, उसने यह बात खुलकर सामने आई थी कि बालू के अवैध खनन के मामले में अधिकांश जिलों में प्राथमिकी दर्ज नहीं हो रही है. विभागीय मंत्री जनक राम ने भी इसे काफी गंभीरता से लिया था. न्यूज18 इस खबर को प्रमुखता के साथ सामने लाया था. मंत्री ने दोषियों पर प्राथमिकी दर्ज करने और इसकी जानकारी मुख्यालय स्तर पर देने का सख्त निर्देश दिया था. विभागीय सचिव हरजीत कौर ने भी इस मामले में शिथिलता बरतने पर नाराजगी जाहिर की थी. अभी स्पेशल ब्रांच की मदद से विभाग द्वारा अवैध कारोबारियों पर शिकंजा कसने की तैयारी की जा रही है. सभी अधिकारियों को यह कहा गया है कि अवैध उत्खनन के विरुद्ध माफियाओं और अवैध धंधेबाजों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर इसकी जानकारी विभागीय स्तर पर मुख्यालय को दी जाए.

Tags: Bihar News, Sand mafia, Sand Mining

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर