• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • बिहार के खिलाड़ियों के बहुरेंगे दिन, विधानसभा में पारित हुआ खेल विश्वविद्यालय विधेयक, जानें क्या होंगे फायदे

बिहार के खिलाड़ियों के बहुरेंगे दिन, विधानसभा में पारित हुआ खेल विश्वविद्यालय विधेयक, जानें क्या होंगे फायदे

बिहार विधानसभा में मॉनसून सत्र के दूसरे दिन खेल विश्वविद्यालय विधेयक को पारित किया गया

बिहार विधानसभा में मॉनसून सत्र के दूसरे दिन खेल विश्वविद्यालय विधेयक को पारित किया गया

Bihar Sports University Bill: बिहार के खेल विधेयक में जो प्रारम्भिक ड्राफ़्ट तैयार किया गया है, उसके मुताबिक खेल विश्वविद्यालय में डिप्लोमा, स्नातक और स्नातकोत्तर की डिग्री दी जाएगी.

  • Share this:
पटना. खेल के मामले में फिसड्डी रहने वाले बिहार के खिलाड़ियों की प्रतिभा को निखारने के लिए नीतीश सरकार ने बड़ी सौग़ात दी है. बिहार विधानसभा में बिहार खेल विश्वविद्यालय विधेयक पारित (Bihar Sports University Bill) कर दिया गया है. इस बिल के पारित होने के बाद उम्मीद जागी है कि राज्य के खिलाड़ियों के दिन अब बदलेंगे, जो लगातार बुनियादी सुविधाएं पाने के लिए लड़ रहे हैं.

बिहार विधानसभा के अंदर जब खेल मंत्री आलोक रंजन झा इस विधेयक को पेश करने के लिए उठे तो सदन से विपक्ष ने वाकआउट कर दिया था, लेकिन सत्ता पक्ष से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) से लेकर तमाम विधायक मौजूद थे और जब सदन में इस विधेयक की खूबियां बताते हुए इस विधेयक को पारित किया गया तो सदन तालियों से गूंज उठा.

खेल मंत्री ने बताया कैसे साबित होगा मददगार
खेल मंत्री आलोक रंजन झा ने कहा कि इस विधेयक के पास होने के बाद बिहार में खेल और खिलाड़ी दोनों के लिए काफी मददगार होगा. हमारी कोशिश रहेगी कि जो शिकायत बिहार में खेल और खिलाड़ियों को लेकर होती है इसके बाद वो शिकायत नहीं रहे. सदन में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष और वर्तमान में शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने बताया कि ये सुखद संयोग है की इस वक़्त जब ओलम्पिक चल रहा है उसी दौरान बिहार में खेल विश्वविद्यालय विधेयक पारित किया गया है, जो बिहार के खेल के इतिहास में हमेशा के लिए यादगार पल हो गया.

श्रेयसी ने बताया टर्निंग प्वाइंट
अंतर राष्ट्रीय शूटर और भाजपा MLA श्रेयसी सिंह ने इस विधेयक को बिहार में खेल के लिए टर्निंग प्वाइंट बताया और कहा कि अब उम्मीद है कि बिहार में खेल और खिलाड़ी दोनों की ज़िंदगी में बड़ा बदलाव आएगा. श्रेयसी ने कहा कि उम्मीद है कि बहुत जल्द बिहार में कोई बड़ा राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय मैच भी आयोजित होगा जिससे खेल का माहौल भी बदलेगा.

क्या-क्या फायदे होंगे खेल विश्वविद्यालय विधेयक से
-खेल विधेयक में जो प्रारम्भिक ड्राफ़्ट तैयार किया गया है उसके मुताबिक, खेल विश्वविद्यालय में डिप्लोमा, स्नातक और स्नातकोत्तर की डिग्री दी जाएगी.

- बीएससी स्पोर्ट्स, कोचिंग, बैचलर इन फिजिकल एजुकेशन जैसे कोर्स भी शुरू किए जाएंगे.

- खेल प्रबंधन और इससे जुड़े आयोजन वाले कोर्स भी शुरू किए जा सकते हैं.

- सरकार का मकसद साफ है कि बिहार में ना सिर्फ खेलों को बढ़ावा मिले, बल्कि इससे रोजगार का सृजन भी हो, साथ ही राज्य में फिलहाल शारीरिक शिक्षकों और खेल प्रशिक्षकों की जो कमी है, उसे भी दूर किया जा सके.

-नए फिजिकल ट्रेनिंग कॉलेज भी खोलने की तैयारी है, जिससे खेल प्रशिक्षक भी बड़ी संख्या में तैयार किए जा सकते हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज