• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • बिहार में लड़खड़ाते Start Up एंजेल इंवेस्टर्स का कर रहे इंतजार

बिहार में लड़खड़ाते Start Up एंजेल इंवेस्टर्स का कर रहे इंतजार

सरकार सीड मनी के तौर पर चुने गए स्टार्ट अप को 10 लाख रुपये तक सीड मनी भी उपलब्‍ध करवाती है. लेकिन इस रकम से उतनी मदद नहीं मिल पाती, सरकार भी सीड मनी की रकम को बढ़ा नहीं रही है. (प्रतीकात्मक फोटो)

सरकार सीड मनी के तौर पर चुने गए स्टार्ट अप को 10 लाख रुपये तक सीड मनी भी उपलब्‍ध करवाती है. लेकिन इस रकम से उतनी मदद नहीं मिल पाती, सरकार भी सीड मनी की रकम को बढ़ा नहीं रही है. (प्रतीकात्मक फोटो)

सूबे में पिछले कुछ सालों में कई अच्छे स्टार्ट अप सामने आए लेकिन कई तो फंड के अभाव में दम तोड़ते नजर आए.

  • Share this:
पटना. जहां एक तरफ देशभर में स्टार्टअप की धूम है, वहीं बिहार में ये कुछ लड़खड़ाते नजर आ रहे हैं. हालांकि बिहार सरकार ने इनके लिए नीति बना दी ‌बावजूद बिहार के युवा उद्यमी अपने सपने को पूरा नहीं कर पा रहे हैं. जानकारी के अनुसार सरकार सीड मनी के तौर पर चुने गए स्टार्ट अप को 10 लाख रुपये तक सीड मनी भी उपलब्‍ध करवाती है. लेकिन इस रकम से उतनी मदद नहीं मिल पाती, सरकार भी सीड मनी की रकम को बढ़ा नहीं रही है.

फंड के अभाव में दम तोड़ रहे 
सूबे में पिछले कुछ सालों में कई अच्छे स्टार्ट अप सामने आए लेकिन कई तो फंड के अभाव में दम तोड़ते नजर आए. पटना में फूड इंडस्ट्री में अपने पैर जमाने कि कोशिश कर रहे आदित्य जो बुक माय मील (BOOK MY MEAL) नाम से अपना क्लाउड किचन चला रहे हैं वे कहते हैं कि बिहार इंडस्ट्री एसोसिएशन ने 4 साल पहले इनके आइडिया को सेलेक्ट किया था लेकिन सपोर्ट मनी कम होने कि वजह से आदित्य ने खुद से ही अपने काम को शुरू किया. शुरुआती दौर में इंवेस्टर्स ने पैसे लगाने से इंकार कर दिया था और कहा कि आगे काम चला तो सपोर्ट करेगें. आज तीन सालों बाद अब आदित्य एक्सपेंशन को लेकर एंजल इंवेस्टर के इंतजार में हैं.

2019 में सरकार ने खर्च किए 40 लाख करोड़ 
वही उद्योग मंत्री श्याम रजक का कहना है स्टार्ट अप को लेकर बिहार सरकार हर संभव मदद करने कि कोशिश कर रही है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इसको लगातार बढ़ावा दे रहे हैं . 2019 में लगभग 40 लाख करोड़ स्टार्ट अप पर खर्च हुए हैं. वहीं बिहार एंटरप्रेन्योरशिप एसोसिएशन के अभिषेक कुमार कहते हैं कि युवा उद्यमियों के पास कई आईडियाज हैं, लेकिन लेकिन सरकार या कोई इंवेस्टर उन्हें हैंड होल्डिंग पोजिशन तक नहीं पहुंचा पाते, जिससे वो काम भले शुरू कर लें लेकिन मंजिल तक नहीं पहुंच पाते.

ये भी पढ़ेंः  बिहार सरकार अब खुद चलाएगी शेल्टर होम, 12 जिलों 500 करोड़ खर्च कर होगा निर्माण

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन