Assembly Banner 2021

'गैंगस्टर' से लेकर 'छोटे सरकार' तक कुछ ऐसी है नीतीश के लिए 'सिरदर्द' बने अनंत सिंह की कहानी

अनंति सिंह के साथ सीएम नीतीश कुमार (फाइल फोटो)
सोर्स- सोशल मीडिया

अनंति सिंह के साथ सीएम नीतीश कुमार (फाइल फोटो) सोर्स- सोशल मीडिया

अनंत सिंह को उनके इलाके के लोग 'छोटे सरकार' कहते हैं लेकिन बिहार में भी उनका ये नाम काफी प्रचलित है. अनंत को छोटे सरकार इसलिए कहा जाता है क्योंकि उनके इलाके में उनका ही हुक्म और कानून चलता है.

  • News18India
  • Last Updated: January 17, 2019, 1:44 PM IST
  • Share this:
बिहार के बाहुबली विधायक अनंत सिंह एक बार फिर चर्चा में हैं. इस बार अनंत इसलिए चर्चा में हैं क्योंकि वो अब विधायक से सांसद बनने की कवायद में लगे हैं. बिहार के इस दबंग सफेदपोश को पूरा भरोसा है कि वो जल्द ही सांसद बनेंगे और वो भी बिहार की मुंगेर सीट से.

छोटे सरकार के नाम से चर्चित मोकामा विधायक अनंत सिंह ने मुंगेर सीट से अपनी दावेदारी को लेकर न केवल एनडीए बल्कि महागठबंधन को भी सकते में डाल दिया है. मुंगेर की सीट पर एनडीए का कब्जा है और इस सीट से अनंत के इलाके के ही दूसरे दबंग सूरजभान सिंह की पत्नी सांसद हैं. अनंत सिंह फिलहाल निर्दलीय विधायक हैं लेकिन ये तयशुदा माना जा रहा है कि वो जल्द ही कांग्रेस का हाथ थामेंगे और इस सीट से लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे.

अनंत सिंह कौन हैं, वो क्यों चर्चा में रहते हैं और क्यों बाहुबली कहे जाते हैं न्यूज 18 आपको बता रहा है वो तमाम बातें.



डेढ़ दशक का राजनीतिक सफर
किसी जमाने में अपराध जगत में अपनी तूती बोलवाने वाले अनंत सिंह का राजनीति से करीब डेढ़ दशक का नाता है. अनंत साल 2005 में पहली बार पटना से 90 किलोमीटर दूर स्थित मोकामा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़े और जीतकर विधायक बने. उनकी धमक पूरे इलाके में चलती है यही कारण है कि विरोधियों की कोशिश भी अनंत को चुनाव जीतने से नहीं रोक सकी. अनंत सिंह पिछले तीन चुनावों से इस सीट पर जीत हासिल कर रहे हैं. साल 2015 के चुनाव को उन्होंने जेल में रहकर भी जीता था जिसके बाद उनका वर्चस्व और बढ़ गया था इस चुनाव में उनके लिए उनकी पत्नी ने वोट मांगे थे क्योंकि वो तब जेल में बंद थे.

पटना की सड़कों पर अनंत सिंह


कभी नीतीश के हिमायती अब बागी 

अनंत सिंह का फिलहाल बिहार के सीएम नीतीश कुमार और उनकी सरकार से छत्तीस का आंकड़ा है. या यूं कहें कि अनंत अब नीतीश के लिए बागी बन चुके हैं और वो खुल कर हर जगह न केवल उनका विरोध कर रहे हैं बल्कि नीतीश के धुर विरोधी कहे जाने वाले लालू की तरफदारी भी. जानकार बताते हैं कि किसी जमाने में नीतीश ने अनंत को अभयदान दे रखा था लेकिन अब नीतीश पर अनंत लगातार उनको यूज करने का आरोप लगाते हैं वो कहते हैं कि नीतीश कुमार ने हमेशा मेरे साथ नाइंसाफी की है.

पहले अनंत अब 'छोटे सरकार'

अनंत सिंह को उनके इलाके के लोग 'छोटे सरकार' कहते हैं लेकिन बिहार में भी उनका ये नाम काफी प्रचलित है. अनंत को छोटे सरकार इसलिए कहा जाता है क्योंकि उनके इलाके में उनका ही हुक्म और कानून चलता है. अनंत जब कभी भी कहीं जाते हैं तो पूरे लाव-लश्कर के साथ जाते हैं. कहा जाता है कि इलाके में हुए किसी भी घटना की जानकारी पहले अनंत के दरबार तक जाती है और उसके बाद ही कोई कोर्ट-कचहरी या थाने जाता है. अनंत अपने इलाके में अपने हिसाब से कानून बनाते और चलाते हैं

अपने अंदाज में अनंत सिंह


विवादों से पुराना नाता

बात चाहे किसी को पीटने की हो या फिर धमकाने की अनंत का नाम हमेशा से मीडिया में आता रहा है. साल 2007 में रेप केस से जुड़ा सवाल पूछने पर अनंत के कहने पर उनके गुर्गों ने पटना के पत्रकारों की बेरहमी से पिटाई कर दी थी. इस मामले ने तूल पकड़ा था तो अनंत की गिरफ्तारी भी हुई थी. अनंत उस वक्त भी विवाद में आये थे जब उन्होंने तत्कालीन सीएम जीतन राम मांझी को धमकी दी थी. अनंत ने यह धमकी तब दी थी जब मांझी ने नीतीश के खिलाफ बगावत की थी.

दो बार हो चुका है जानलेवा हमला

अनंत सिंह की छवि भले ही बाहुबली की हो लेकिन उनके दुश्मनों की फेरहिस्त काफी लंबी है. इस लिस्ट में उनके सगे चाचा से लेकर बिहार के कई नामचीन सफेदपोश तक शामिल हैं. अनंत सिंह पर दो बार जानलेवा हमला भी हो चुका है, लेकिन संयोग से उन्होंने दोनों दफे मौत को मात दिया है. कहा जाता है कि अनंत पहली बार उस वक्त जेल गए थे जब वो महज 9 साल के थे. इसके बाद अनंत ने पीछे पलट कर नहीं देखा और अनंत से छोटे सरकार बन गए. इस दौरान कई बार उनका नाम हत्याकांड में भी आया. अनंत के खिलाफ बिहार के कई थानों में आपराधिक मामले दर्ज हैं.

अनोखा स्टाइल

अनंत सिंह का स्टाइल उनको भीड़ से अलग करता है. बात चाहे उनके ड्रेसिंग सेंस की हो या फिर लाइफ स्टाइल की उनका अंदाज हमेशा उनको भीड़ से अलग करता है. कभी उनको लोग बग्घी की सवार करते देखते हैं तो कभी रॉबिनहुड स्टाइल में हैट लगाए. अनंत की पहचान उनके ललाट पर लगे लाल तिलक, गोगल्स और अलग लुक के कारण होती है. इलाके में कोई उन्हें 'मगहिया डॉन' भी बोलता है. कहने को तो अनंत विधायक हैं लेकिन उन्हें खुद को अंगूठा छाप बताने से भी गुरेज नहीं होता.

मर्सडीज से लेकर बग्घी तक के शौकीन

अनंत हमेशा से अपनी लाइफ स्टाइल को लेकर सुर्खियों में रहे हैं चाहे बात घुड़सवारी की हो या फिर पटना की सड़कों पर बग्घी से चलने की. 2013 में अनंत चर्चा में आए थे जब उन्होने अपनी मर्सडीज कार छोड़कर बग्घी की सवारी की और उसी से विधानसभा पहुंचे थे. पटना की सड़कों पर अनंत ने खुद बग्घी चलाई थी जो वीडियो अभी भी यू-ट्यूब पर काफी पॉपुलर है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज