फिल्मी कहानी से कम नहीं है अनंत सिंह-विवेका पहलवान की दुश्मनी, AK-47 से बरसती है गोलियां

पूरे टाल इलाके में लदमा वो गांव है जिसकी पहचान छोटे सरकार यानि अनंत सिंह और विवेका पहलवान के गांव के तौर पर होती है. कहने को तो दोनों गोतिया (पूर्व में एक ही परिवार के सदस्य) हैं लेकिन लड़ाई ऐसी की देखकर सांप-नेवला भी दुहाई मांगे.

Amrendra Kumar | News18 Bihar
Updated: September 4, 2019, 3:52 PM IST
फिल्मी कहानी से कम नहीं है अनंत सिंह-विवेका पहलवान की दुश्मनी, AK-47 से बरसती है गोलियां
अनंत सिंह और विवेका पहलवान दोनों बाढ़ इलाके के ही लदमा गांव के रहने वाले हैं (फाइल फोटो)
Amrendra Kumar
Amrendra Kumar | News18 Bihar
Updated: September 4, 2019, 3:52 PM IST
एके-47 प्रकरण (AK-47 case) के साथ ही बिहार में इन दिनों दो नाम लगातार सुर्खियों में हैं. इनमें पहला नाम मोकामा के विधायक अनंत सिंह (MLA Anant Kumar Singh) है जबकि दूसरा उनके जानी दुश्मन यानि विवेका पहलवान (Viveka Pahalwan) का. दोनों की दुश्मनी किसी फिल्मी कहानी सरीखी है जिसमें एक ने अपना भाई खोया है तो दूसरे ने अपने कई खास लोगों को. टाल के आतंक से अनंत कथा तक कि ये पूरी कहानी मूल रूप से दो ही किरदारों के ईर्द-गिर्द घूमती है. हाल ही में अनंत सिंह के घर यानि लदमा (Ladma) से मिले एके-47 के बाद उनको जेल भेज दिया गया तो ठीक उनके जेल जाने के बाद विवेका पहलवान के गुर्गों की एके-47 रायफल लहराती तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया में ट्रेंड करने लगे. इशारा साफ था कि लदमा और टाल के जंग में विवेका अभी भी अनंत के लिए मुसीबत ही हैं.

9 साल बाद जेल से छूटा था विवेका

मोकामा विधायक अनंत सिंह के सबसे बड़े दुश्मन विवेका पहलवान को लगभग 9 साल के बाद जेल से छुट्टी मिली है. पूरे टाल इलाके में लदमा वो गांव है जिसकी पहचान छोटे सरकार यानि अनंत सिंह और विवेका पहलवान के गांव के तौर पर होती है. कहने को तो दोनों गोतिया (पूर्व में एक ही परिवार के सदस्य) हैं लेकिन लड़ाई ऐसी की देखकर सांप-नेवला भी दुहाई मांगे. दोनों के बीच की लड़ाई काफी लंबे अरसे से चल रही है और इस दौरान दोनों की बंदूकों ने कई लाशें बिछाई है. मातम कभी अनंत खेमे में मना तो कभी विवेका ने भी खून के आंसू रोए हैं. इलाके के लोग बताते हैं कि इस लड़ाई में दोनों ओर से दर्जनों लाशें गिरी हैं. खूनी लड़ाई में अनंत सिंह के बड़े भाई पेशे से वकील फाजो सिंह की हत्या भी हुई है.

लोकसभा चुनाव में भी विवेका की रही थी भूमिका

कहा जा रहा है कि अनंत सिंह की पत्नी को मुंगेर से किसी भी हाल में जीत नहीं मिले इसके लिए विवेका ने भी पूरा जोर लगाया था और हुआ भी आखिरकार वही. अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी खुद मानती हैं कि उनके पति और परिवार को मुंगेर से चुनाव लड़ने की सजा मिल रही है. अनंत सिंह के घर से एके-47 खोज निकालने वाली पुलिस पर खुद अनंत और उनकी पत्नी ने सवाल खड़े किए थे और कहा था कि ये हथियार उनके जानी दुश्मन यानि विवेका ने ही रखवाए हैं.

अनंत सिंह के दुश्मन विवेका पहलवान की फाइल फोटो


खुला वार करता है विवेका
Loading...

विवेका पहलवान की बात करें तो ये बाहुबली भी अनंत सिंह को हमेशा से खुली चुनौती देता है. विवेका कहते हैं कि जहां तक अनंत सिंह से दुश्मनी की बात है तो ये जंग ख़त्म नहीं होगी. मैं पहलवान हूं और हमेशा से सीधा वार करूंगा न की पीछे से नहीं.

हाथ में दो-दो एके-47 लिए विवेका पहलवान का गुर्गा


एके-47 का वीडियो हुआ था वायरल

अनंत सिंह के जेल जाने के ठीक बाद बिहार में एके-47 से खेलते दो युवकों की फोटो और वीडियो वायरल हुई थी. ये तस्वीेरें विवेका पहलवान के गुर्गों की थी लेकिन फोटो/वीडियो वायरल होते ही विवेका ने इन हथियारों को प्लास्टिक का करार दिया था. विवेका के इस दावे के बाद से पुलिस ने कई बार छापेमारी तो की लेकिन इस प्लास्टिक वाले एके-47 को भी नहीं ढूंढ सकी.

बेउर जेल में बंद हैं अनंत सिंह

एके-47 और हैंड ग्रेनेड मिलने के इस मामले में अनंत सिंह फिलहाल पटना के बेउर जेल में बंद हैं. अनंत सिंह के जेल जाने के बाद उनकी पत्नी और समर्थकों ने लगातार मोर्चा संभाल के रखा है और विवेका पहलवान के खिलाफ सबूतों को मीडिया और सोशल मीडिया में साझा कर रहे हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 1:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...