होम /न्यूज /बिहार /Success Story : इंटर यूनिवर्सिटी कराटे चैंपियनशिप में जाबिर ने जीता गोल्ड, कभी चीन जाने के लिए नहीं थे टिकट के पैसे

Success Story : इंटर यूनिवर्सिटी कराटे चैंपियनशिप में जाबिर ने जीता गोल्ड, कभी चीन जाने के लिए नहीं थे टिकट के पैसे

जाबिर ने जीता इंटर स्टेट पदक.

जाबिर ने जीता इंटर स्टेट पदक.

पीयू के जाबिर ने 75 किलोग्राम वर्ग में जीत दर्ज करके गोल्ड अपने नाम किया. इनके वर्ग भार में कुल 140 खिलाड़ियों ने भाग ल ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट: सच्चिदानंद

पटना. बिहार के युवा अब कराटे में भी पीछे नहीं हैं. अरुणेश मिश्रा के राष्ट्रीय युवा पुरस्कार से सम्मानित होने के बाद एक और पदक बिहार की झोली में आया है. दोनों में समानता यह है कि दोनों पटना यूनिवर्सिटी के छात्र हैं. पटना कॉलेज में उर्दू विभाग के छात्र जाबिर अंसारी ने इंटर यूनिवर्सिटी कराटे में गोल्ड जीतकर विवि का नाम ऊंचा किया है.

छत्तीसगढ़ के विलासपुर स्थित अटल विहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय में 17 से 22 जनवरी तक इसका आयोजन किया गया था. अखिल भारतीय अंतर विश्वविद्यालय कराटे में पटना विवि के जाबिर ने यह इतिहास रचा है. इस प्रतियोगिता में देश के लगभग 200 प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों के 2500 खिलाड़ियों ने भाग लिया.

75 किलोग्राम वर्ग में जीता गोल्ड

पीयू के जाबिर ने 75 किलोग्राम वर्ग में जीत दर्ज करके गोल्ड अपने नाम किया. इनके वर्ग भार में कुल 140 खिलाड़ियों ने भाग लिया था. 8वां राउंड में जैन विश्वविद्यालय बेंगलुरु को 3-0 से पराजित करते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम किया. इस जीत के साथ ही जाबिर के गांव में भी खुशी की लहर है. गोल्ड जीतने के बाद कुलपति प्रो. गिरीश कुमार, स्टूडेंट्स वेलफेयर डीन प्रो. अनिल कुमार, पटना कॉलेज के प्राचार्य प्रो. तरुण कुमार समेत सभी ने जाबिर को बधाई दी है.

चीन जाने के लिए नहीं थे टिकट के पैसे

बिहार के जमुई जिले के झाझा प्रखंड के तुंबा पहाड़ के रहने वाले जाबिर अंसारी पटना यूनिवर्सिटी के उर्दू विभाग के छात्र हैं. जाबिर अंसारी शुरू से ही प्रतिभावान खिलाड़ी रहे हैं. विगत साल बिहार सम्मान समारोह में बिहार सरकार की तरफ से सम्मानित भी हो चुके हैं.

वे बताते हैं कि साल 2018 में उनका चयन कराटे एसोसिएशन ऑफ इंडिया की तरफ से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलने के लिए हुआ और इसके लिए उन्हें चीन जाना था. वहां जाने में लगभग 80 हजार रुपए का खर्च आ रहा था, लेकिन जाबिर पैसों की किल्लत के कारण इस मौके से महरूम होने के कगार पर आ गए थे.

उस समय न्यूज 18 की पहल पर आगे आए कई सामाजिक कार्यकर्ताओं ने जाबिर अंसारी की मदद की.बता दें कि जाबिर अंसारी ने 2022 में इसी प्रतियोगिता में कांस्य पदक अपने नाम किया था और इस साल यानी कि 2023 में उन्होंने गोल्ड पदक अपने नाम किया. इसके साथ ही जाबिर अंसारी का चयन खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी खेल के लिए भी हुआ है.

Tags: Bihar News, PATNA NEWS

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें