• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • EXCLUSIVE : चार वकीलों को जज बनाने की सिफारिश सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम से खारिज

EXCLUSIVE : चार वकीलों को जज बनाने की सिफारिश सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम से खारिज

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाले कॉलेजियम ने चार वकीलों और एक जूडिशियल ऑफिसर को पटना हाईकोर्ट के जज के तौर पर प्रमोट करने की सिफारिश खारिज करते हुए फाइल लौटा दी है. कॉलेजियम ने इन्हें जज के तौर पर प्रमोट करने के योग्य नहीं माना.

  • Share this:
सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाले कॉलेजियम ने चार वकीलों और एक जूडिशियल ऑफिसर को पटना हाई कोर्ट के जज के तौर पर प्रमोट करने की सिफारिश खारिज करते हुए फाइल लौटा दी है.

पटना हाईकोर्ट ने इसी साल जनवरी में इन नामों की सिफारिश कॉलेजियम से की थी. कॉलेजियम में शामिल चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन बी. लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ ने 24 अक्टूबर को दो अलग-अलग प्रस्ताव पारित कर फाइल लौटाने का फैसला किया.

पटना हाईकोर्ट ने एडवोकेट सुनील कुमार मंडल, आनंद कुमार ओझा, मोहम्मद नदीम सिराज और निवेदिता निर्विकार को जज बनाने की सिफारिश की थी. लिस्ट में जूडिशियल ऑफिसर बिदु भूषण पाठक का नाम भी था जो हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल हैं.

हाई कोर्ट ने 15 जनवरी 2018 को पाठक को जज बनाने की सिफारिश की थी. इसके तीन दिनों बाद 18 अक्टूबर को चारों वकीलों को बतौर हाई कोर्ट जज प्रमोट करने की सिफारिश की गई.

कॉलेजियम ने फाइलों की समीक्षा की और पाया कि ये सभी नाम जज के तौर पर नियुक्ति के योग्य नहीं हैं. कॉलेजियम ने फाइलों की समीक्षा के अलावा पटना हाईकोर्ट से जुड़े कुछ साथियों से भी फीडबैक लेकर यह फैसला किया है. बिदु भूषण पाठक से कॉलेजियम ने आमने-सामने भी बातचीत की.

ये भी पढ़ें - 

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज