सुशांत सिंह मौत केस CBI को सौंपे जाने के बावजूद 2020 को क्यों कोस रहे लोग? जानें वजह
Patna News in Hindi

सुशांत सिंह मौत केस CBI को सौंपे जाने के बावजूद 2020 को क्यों कोस रहे लोग? जानें वजह
रीयल धोनी और रील लाइफ धोनी (एमएस धोनी और सुशांत सिंह राजपूत) का बिहार के गहरा नाता रहा है.

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant singh rajput) की संदिग्ध मौत के बाद से ही रीयल धोनी और रील लाइफ धोनी (Real Dhoni and Reel Life Dhoni) की चर्चा होती रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 19, 2020, 7:11 PM IST
  • Share this:
पटना. सर्वोच्च न्यायालय (Supreme Court) ने सुशांत सिंह राजपूत (Sushant singh rajput) मामले की जांच सीबीआई (CBI) से कराने का फैसला दिया. साथ ही यह भी कहा कि पटना में जो एफआईआर (FIR) दर्ज हुई है वह सही है. कोर्ट ने ये भी कहा कि इस मामले की जांच में महाराष्ट्र सरकार (Government of Maharashtra) को हर हाल में सहयोग करना होगा. सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने भी इस पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि इस मामले में अब न्याय होगा. एक तरफ बिहार के लोग खुश हैं तो दूसरी ओर वर्ष 2020 को कोस भी रहे हैं. दरअसल बिहार के लोग अपने दोनों धोनी, रीयल धोनी और रील लाइफ धोनी को गंवाने के लिए इसी 2020 को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं.

बता दें कि कभी बिहारी कहे जाने वाले महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने बीते 15 अगस्त को संन्यास ऐलान कर दिया था तो बीते 14 जून को  'एमएस धोनी- द अनटोल्ड स्टोरी' (MS Dhoni - The Untold Story)  के नायक सुशांत सिंह राजपूत की संदिग्ध मौत की खबर सामने आई थी. दोनों धोनी को लेकर सोशल मीडिया पर उनके फैंस लगातार पोस्ट शेयर कर रहे हैं. लोग धोनी का भारतीय क्रिकेट में योगदान के लिए शुक्रिया अदा कर रहे हैं तो धोनी की पुरानी तस्वीरों और वीडियो के साथ सुशांत सिंह राजपूत की तस्वीरें और वीडियो भी खूब शेयर किए जा रहे हैं.

सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही तस्वीर.




बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत ने धोनी की बायोपिक फिल्म 'एमएस धोनी- द अनटोल्ड स्टोरी' में क्रिकेटर को अच्छे से कॉपी किया था. ये फिल्म काफी हिट रही थी और तब इसने 220 करोड़ की कमाई की थी. इस फिल्म में सुशांत सिंह को एमएस धोनी के कैरेक्टर को अपने भीतर उतारने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ी थी. धोनी की आदतों मसलन, खाना-पीना, चाल जैसी तमाम बातों के बारे उन्होंने बड़ी बारीकी से समझा था. तभी वह रीयल धोनी जैसे ही पर्दे पर दिखे और हिट हो गए थे.
सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही तस्वीर.


वरिष्ठ पत्रकार अशोक कुमार शर्मा कहते हैं कि वर्ष 2000 में जब झारखंड अलग हुआ तो भी इसके कई सालों बाद भी वह बिहार क्रिकेट एसोशिएशन के नाम से जाना जाता था. धोनी ने अपना पहला रणजी मैच भी बिहार टीम से ही खेला था.

महेंद्र सिंह धोनी की पुरानी तस्वीर जब वे बिहार के लिए खेलते थे.


इसलिए धोनी को भारतीय टीम के साथी खिलाड़ी कई बार बिहारी कहकर ही संबोधित किया करते थे. जाहिर है यही वजह है कि मूल रूप से उत्तराखंड के धोनी के रांची में जीवन बिताने के बाद भी धोनी का बिहार से गहरा कनेक्शन है. ऐसे में लोगों की भावना रील और रीयल लाइफ धोनी के जुड़ती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज