सुशील कुमार मोदी ने बदला ट्विटर बायो, प्रोफाइल से हटाया डिप्‍टी CM

सुशील कुमार मोदी की नीतीश के साथ अच्‍छी जोड़ी रही है. (फाइल फोटो)
सुशील कुमार मोदी की नीतीश के साथ अच्‍छी जोड़ी रही है. (फाइल फोटो)

भाजपा के दिग्‍गज नेता और बिहार के उपमुख्‍यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने अपना ट्विटर प्रोफाइल बदल दिया है. उन्‍होंने अपने प्रोफाइल से डिप्‍टी सीएम हटा दिया है.

  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) ने 125 सीट जीतने के बाद जेडीयू के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष और बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को नेता चुन लिया है. यही नहीं, नीतीश ने राज्यपाल फागू चौहान से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया है और सोमवार शाम 4:30 बजे शपथ ग्रहण का कार्यक्रम तय किया गया है. जबकि नीतीश के साथ लंबे अरसे से जोड़ी बनाने वाले सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) के उपमुख्यमंत्री बनने पर संशय कायम है. यही नहीं, उनके (सुशील कुमार मोदी) उपमुख्यमंत्री बनाने के सवाल पर नीतीश कुमार ने कहा कि यह सब थोड़ी देर में तय हो जायेगा. जबकि भाजपा के दिग्‍गज नेता राजनाथ सिंह ने भी उपमुख्यमंत्री के नाम के बारे में पूछे जाने पर कहा कि उचित समय पर जानकारी दे दी जायेगी.

सुशील मोदी ने कही ये बात
एनडीए विधानमंडल दल की बैठक में सुशील कुमार मोदी ने कहा कि पार्टी ने मुझे बहुत कुछ दिया है, नेता प्रतिपक्ष बनाया, उपमुख्यमंत्री बनाया, विधानमंडल दल का नेता बनाया, लेकिन इस बार मैं चाहता हूं कि कोई चुना हुआ विधायक ही विधानमंडल दल का नेता हो. जबकि खुद सुशील कुमार मोदी ने ही तारकिशोर प्रसाद का नाम विधानमंडल दल के नेता के रूप में प्रस्तावित किया, जिस पर प्रेम कुमार और नंदकिशोर यादव ने समर्थन किया. दूसरी तरफ विधानमंडल दल के उप नेता का नाम रेणु देवी का प्रस्ताव विजय सिन्हा ने किया जिसका समर्थन संजय सरावगी ने किया. नोनिया समाज से आने वाली रेणु देवी बेतिया से चौथी बार विधायक बनी हैं.

सुशील कुमार मोदी, भाजपा, Sushil Kumar Modi, BJP

बिहार विधानसभा चुनाव में रोमांचक मुकाबले में राजग गठबंधन को 125 सीटें हासिल हुईं हैं.




इसके अलावा सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट किया, 'भाजपा एवं संघ परिवार ने मुझे 40 वर्षों के राजनीतिक जीवन में इतना दिया कि शायद किसी दूसरे को नहीं मिला होगा. आगे भी जो ज़िम्मेवारी मिलेगी उसका निर्वहन करूंगा. कार्यकर्ता का पद तो कोई छीन नहीं सकता.'



चर्चा ये भी है कि भारतीय जनता पार्टी सुशील कुमार मोदी को बिहार की राजनीति से निकालकर केंद्र की राजनीति में ले जा सकती है. इसके लिए उन्‍हें राज्‍यसभा भेजा जा सकता है. हालांकि अभी तक भाजपा की तरफ से ऐसा कोई बयान या जानकारी नहीं आयी है.



गौरतलब है कि हाल में संपन्न बिहार विधानसभा चुनाव में रोमांचक मुकाबले में राजग गठबंधन को 125 सीटें हासिल हुईं, तो विपक्षी महागठबंधन को 110 सीटें मिली हैं. राजग में भाजपा को 74 सीटें, जेडीयू को 43, हम और वीआईपी को चार-चार सीटें मिली हैं. वर्ष 2015 के विधानसभा चुनावों में जेडीयू को 71 सीटें मिली थीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज