रेलवे यूनिवर्सिटी का कैंपस बनेगा जमालपुर IRIMEE, इसे यूपी शिफ्ट करने की बात गलतः सुशील मोदी

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी
बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी

बिहार के जमालपुर में स्थित IRIMEE को लखनऊ शिफ्ट करने के फैसले पर मचा सियासी घमासान. बिहार सरकार के मंत्री और जेडीयू नेता संजय झा ने इसका विरोध करते हुए कहा है कि ये फैसला सही नहीं है.

  • Share this:
पटना. बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने बिहार के जमालपुर रेलवे इंस्टीट्यूट को शिफ्ट करने की खबर को भ्रामक करार दिया है. मोदी ने कहा कि जमालपुर (मुंगेर) स्थित 1888 में स्थापित देश के सबसे पुराने संस्थानों में से एक इंडियन रेलवे इंस्टीट्यूट ऑफ मैकेनिकल एंड इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग (IRIMEE) के बारे में इस तरह की बातें बेबुनियाद हैं. IRIMEE में रेलवे के अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया जाता है. इसे लखनऊ शिफ्ट करने की खबर आज चर्चा में आई थी.

सुशील कुमार मोदी के मुताबिक रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि भारत सरकार ने तो जमालपुर इंस्टीट्यूट को रेलवे व ट्रांसपोर्ट विश्वविद्यालय, बड़ौदा के कैम्पस के रूप में विकसित करने का निर्णय लिया है. यहां रेलवे से जुड़े मैकेनिकल और इंजीनियरिंग के छात्रों को प्रशिक्षण दिया जाएगा. गोयल ने मुंगेर में कैंपस को विकसित करने की बात कही है.

सियासी घमासान के बाद रेल मंत्री से हुई बात



डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने कहा कि IRIMEE को शिफ्ट करने की खबर को लेकर मेरी रेल मंत्री पीयूष गोयल (Railway Minister Piyush Goyal) से आज शाम को ही बात हुई है. रेल मंत्री ने बताया है कि सरकार के पास ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं है. इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी पत्र लिखा है, जिसका वो (रेल मंत्री) गुरुवार को जवाब देकर वस्तुस्थिति स्पष्ट करेंगे.
मालूम हो कि बिहार के जमालपुर में मौजूद रेलवे के ट्रेनिंग सेंटर IRIMEE को लखनऊ शिफ्ट करने के फैसले पर सियासी घमासान मच गया है. पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने इस मामले पर ट्वीट कर इसे बिहार की अस्मिता से जोड़ दिया है. सिन्हा ने बिहार के लोगों से इस मसले पर विरोध करने की अपील की है.

जदयू नेताओं ने भी किया विरोध

बिहार सरकार के मंत्री और जेडीयू नेता संजय झा (Sanjay Jha) ने भी IRIMEE को शिफ्ट किए जाने का विरोध करते हुए कहा है कि ये फैसला सही नहीं है. उन्होंने इसमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पत्र पर रेल मंत्री पीयूष गोयल से इस मामले में तत्काल हस्तक्षेप करने की मांग की है.

जेडीयू नेता ने अपने ट्वीट में लिखा, जमालपुर स्थित इंडियन रेलवे के इस सबसे पुराने केन्द्रीय संस्थान से न सिर्फ बिहार के लोगों का बल्कि भारतीय रेल के हजारों लोगों व अधिकारीयों का भावनात्मक जुड़ाव रहा है. नीतीश कुमार जी के 1 मई को लिखे पत्र के आलोक में रेलमंत्री पीयूष गोयल जी से तत्काल हस्तक्षेप का अनुरोध है.

ये भी पढ़ें-

अब बिजनेस में हाथ आजमाएंगे तेजप्रताप यादव, पटना में खोलेंगे रेस्टोरेंट

बिहार सरकार का बड़ा फैसला, Lockdown के बीच कल से खुलेंगी ये दुकानें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज