अपना शहर चुनें

States

सुशील मोदी का राज्य सभा जाना हुआ फाइनल! JDU बोली- हार के डर से भागी RJD

बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी.
बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी.

महागठबंधन (Mahagathbandhan) की तरफ से कोई प्रत्याशी नहीं उतारे जाने को लेकर जेडीयू (JDU) ने कहा कि आरजेडी को पता है कि जैसे स्पीकर के चुनाव में करारी हार मिली वैसे ही राज्य सभा उपचुनाव (Rajya Sabha by-election) में भी हार होती.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 3, 2020, 7:43 PM IST
  • Share this:
पटना. पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) के निधन से खाली हुई राज्यसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव में एनडीए (NDA) उम्मीदवार सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) की जीत लगभग तय हो गई है. दरअसल 3 दिसंबर को 3 बजे तक ही नामांकन दाखिल करने की अंतिम तारीख थी, लेकिन महागठबंधन या अन्य किसी भी पक्ष की ओर से कोई उम्मीदवार नहीं दिया गया. हालांकि एक निर्दलीय श्यामनंदन प्रसाद ने अपना नामांकन दाखिल किया है, लेकिन वे 10 विधायकों के समर्थन वाला पत्र नहीं सौंप पाए हैं. मिली जानकारी के अनुसार वे चुनाव आयोग में यह पत्र कल सौंपेंगे. ऐसे में सवाल यह है कि जब नामांकन की तारीख खत्म हो चुकी है तो चुनाव आयोग इजाजत देगा?

इन सवालों के बीच बता दें कि चार दिसंबर यानी कल नामांकन पत्र की जांच की जानी है. अगर सबकुछ ठीक रहा और श्यामनंदन प्रसाद की अर्जी चुनाव आयोग द्वारा टेक्निकल ग्राउंड पर खारिज कर दी गई तो तो सुशील कुमार मोदी को निर्वाचन आयोग निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर देगा. जाहिर है विरोधी पक्ष की ओर से कोई उम्मीदवार नहीं दिए जाने को लेकर अब राजनीति भी शुरू हो गई है. एनडीए की ओर से इसे महागठबंधन की एक और हार कहा जा रहा है.

महागठबंधन की तरफ से कोई प्रत्याशी नहीं उतारे जाने को लेकर जेडीयू नेता संजय सिंह ने कहा कि आरजेडी उम्मीदवार देने से डर कर कर भाग गई. आरजेडी को पता है कि जैसे स्पीकर के चुनाव में करारी हार मिली वैसे ही राज्यसभा में भी हार होती. जेडीयू के सीनियर नेता के सी त्यागी ने कहा कि सुशील मोदी योग्य व्यक्ति हैं और उनका राज्यसभा का सदस्य चुना जाना एनडीए के लिए उत्साहवर्धक है. के सी त्यागी ने उम्मीद जताई कि  केंद्र सरकार में सुशील मोदी को भारी भरकम मंत्रालय मिलेगा और वे केंद्र सरकार में रहकर करेंगे देश और बिहार की सेवा करेंगे.



वहीं, बीजेपी प्रवक्ता संजय मयूख ने कहा कि सुशील मोदी का राज्यसभा उम्मीदवार बनना सौभाग्य की बात है. संजय मयूख ने आरजेडी व महागठबंधन पर निशाना साधते हुए कहा कि जब अंकगणित साथ नहीं तो अनुसूचित जाति की याद आती है. मीसा भारती को राज्यसभा उम्मीदवार बनाते वक़्त क्यों अनुसूचित जाति को भूल गए थे?  तेजस्वी यादव अब भी  जनादेश का अपमान करना चाहते हैं, लेकिन अब उन्हें 2025 के जनादेश का इंतजार करना चाहिए.
वहीं, आरजेडी नेता सुबोध रॉय ने कहा कि एनडीए के लोगों की दोहरी नीति है जब उम्मीदवार देते हैं तो कहती है सरकार को कमजोर कर रही है. नहीं दी तो कहते हैं डर गई. वहीं, कांग्रेस नेता प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहा कि राज्यसभा के लिए कोई बेहतर उम्मीदवार नहीं मिलने के कारण नही उतारा. राम विलास पासवान की पत्नी को उम्मीदवार बनाना चाहते थे, लेकिन बीजेपी ने लोजपा की हकमारी कर उनसे सीट हड़प ली.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज