पटना: अचानक मजदूरों के बीच राहत सामग्री बांटने पहुंचे तेजप्रताप, कहा- सियासत करने नहीं आए

मजदूरों के बीच राहत सामग्री बांटने पहुंचे तेजप्रताप (फाइल फोटो)
मजदूरों के बीच राहत सामग्री बांटने पहुंचे तेजप्रताप (फाइल फोटो)

तेजप्रताप (Tej Pratap) ने कहा कि हम एक जनप्रतिनिधि हैं और हमारा कर्तव्य है कि हम मजबूर जनता और लाचार मजदूरों की मदद करें और इसीलिए हम गरीबों में राहत बांटने आए हैं ना कि कोई सियासत करने

  • Share this:
पटना. राष्ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) भले ही विरोधियों पर हुंकार भरते हों. लेकिन उन्हें भी अब कोरोनावायरस (COVID-19) का डर सताने लगा है. शुक्रवार को तेजप्रताप अप्रवासी मजदूरों के बीच राहत बांटने राहत कैंप पहुंचे तो उन्होंने पीपीई किट (PPE Kit) पहन रखा था. जब न्यूज़ 18 की टीम ने उनसे पीपीई किट के बारे में पूछा तो तेजप्रताप का जवाब था कि कोरोना एक वैश्विक महामारी है और इसके संक्रमण से बचने के लिए पीपीई किट, मास्क और सैनेटाइजर बेहद जरूरी है. क्योंकि जब हम खुद सुरक्षित रहेंगे तभी दूसरों को भी सुरक्षित रख सकेंगे.

'हम जरूरतमंदों के बीच राहत बांटते हैं'
वैसे तो तेजप्रताप अपने उटपटांग हरकतों के लिए ही जाने जाते हैं. सुर्खियों में बने रहने के लिए कभी महादेव तो कभी कृष्ण बन जाते हैं. लेकिन शुक्रवार को तेजप्रताप जब अप्रवासी मजदूरों के बीच अनाज और खाने का पैकेट बांट रहे थे तो उन्होंने कहा कि हम एक जनप्रतिनिधि हैं, और ये हमारा कर्तव्य है कि हम मजबूर जनता और लाचार मजदूरों की मदद करें. इसलिए हम गरीबों में राहत बांटने आए हैं ना कि कोई सियासत करने.

सरकार के राहत कैंप पर तेजप्रताप का कब्जा
राजधानी पटना के जीरो माइल पर सैकड़ों अप्रवासी मजदूरों के लिए जिला प्रशासन ने राहत कैंप बनाया है. यहां बाहर से आए श्रमिकों को उनके जिलों में बसों के जरिये भेजा जा रहा है. साथ ही प्रशासन ने इन सभी मजदूरों के खाने और पीने की भी व्यवस्था की है. बावजूद इसके लालू के लाल तेजप्रताप यादव ने इस सरकारी राहत कैंप पर अचानक धावा बोल दिया और राहत कैंप के मजिस्ट्रेट से जवाब तलब भी किया. इसके बाद शुरू हो गया तेजप्रताप का राहत बांटने का काम. तेजप्रताप ने सैकड़ों मजदूरों के बीच लालू की रसोई में बने खाने के पैकेट के साथ सूखा अनाज भी बांटा. इस दौरान उन्होंने पूरे राहत कैंप को सैनेटाइज भी किया.



ये भी पढ़ें: मानसून आने तक ये काम नहीं हुआ खत्म तो एक बार फिर डूबेगा पटना ! फिर बढ़ी डेडलाइन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज