अस्पताल में मास्क न होने पर डॉक्टरों पर बिफर पड़े तेजप्रताप, जमकर लगाई क्लास
Patna News in Hindi

अस्पताल में मास्क न होने पर डॉक्टरों पर बिफर पड़े तेजप्रताप, जमकर लगाई क्लास
तेजप्रताप यादव ने अपने ससुर चन्द्रिका राय पर सीधे-सीधे आरोप लगाते हुए कहा कि वो हमें जान से मारने की साजिश रच रहे हैं. (फाइल फोटो)

कोरोना वायरस को लेकर देश-प्रदेश की सरकार अलर्ट पर है और इस खतरनाक बीमारी से बचने के लिए सरकार लोगों को जागरूरक भी कर रही है. ऐसे में तेजप्रताप (Tej Pratap) ने भी यह बीड़ा उठा लिया है.

  • Share this:
पटना. लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) अपनी आदतों के कारण हमेशा से सुर्खियों में बने रहते हैं. वो कहावत है न बदनाम हुआ तो क्या हुआ नाम तो हुआ न. ठीक वही हाल तेजप्रताप यादव के साथ है. अपनी कुछ उटपटांग हरकतों के कारण तेजप्रताप यूं ही सुर्खियों में बने रहते हैं. इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ है जब वो अपने बाबू जी के बनाए हुए अस्पताल (Hospital) का औचक निरीक्षण करने पहुंच गए . उसके बाद डॉक्टरों की तेजू बाबा ने वो क्लास लगाई की पूछिए मत. अस्पताल में मास्क न होने पर तेजप्रताप अस्पताल के डाक्टरों पर ऐसे भड़के की बेचारे डॉक्टर साहब दुबक गए. आखिर बाबू जी का जो अस्पताल है.

कोरोना के बहाने तेजप्रताप का पब्लिसिटी स्टंट
कोरोना वायरस को लेकर देश-प्रदेश की सरकार अलर्ट पर है और इस खतरनाक बीमारी से बचने के लिए सरकार लोगों को जागरूरक भी कर रही है. ऐसे में तेजप्रताप ने भी यह बीड़ा उठा लिया है कि कोरोना वायरस को लेकर वो लोगों को न सिर्फ जागरुक करेंगे बल्कि सरकार की व्यवस्था का रियलिटी टेस्ट भी करेंगे. वो और बात है कि इस रियलिटी टेस्ट के पीछे की जो रियलिटी है उसे असलियत में पब्लिसिटी ही कहा जाता है. अपने बाबू जी के बनाए अस्पताल में जब तेजप्रताप यादव आज पहुंचे तो उनका रौब देखने लायक था. जैसे मानों खुद स्वास्थ्य मंत्री बनकर किसी अस्पताल का औचक निरीक्षण करने पहुंचे हों और डाक्टरों की क्लास लगा रहे हों.

अपने पैतृक गांव फुलवरिया गए हुए थे
दरअसल, तेजप्रताप यादव आज अपने पैतृक गांव फुलवरिया गए हुए थे. अचानक उनपर ऐसा भूत सवार हो गया कि वो अपने बाबू जी लालू यादव के बनाए अस्पताल का औचक निरीक्षण करने जा पहुंचे. उसके बाद जो उन्होंने डाक्टरों की क्लास लगाई मत पूछिए. डाक्टरों से सवाल पर सवाल दागते रहे. कोरोना वायरस से बचने के लिए मास्क कहां है. अस्पताल के इमरजेंसी में कितने बेड हैं. अस्पताल में कुत्ता या सांप काटने की दवा उपलब्ध है या नहीं. गर्भवती महिलाओं के लिए अस्पताल में क्या इंतेजाम है. नेता जी के सवाल तो जनहित के हैं लेकिन इनका तरीका पब्लिसिटी वाला ही है. दरअसल, यह पूरा वाकया है लालू यादव के गांव फुलवरिया का जहां 1990 में लालू ने अपनी मां मरछिया देवी के नाम पर एक अस्पताल बनवाया था.



ये भी पढ़ें- 

दोस्‍त का मर्डर कर गढ़ी ऐसी 'फर्जी' कहानी कि दो लोगों को हो गई जेल

एलटी ग्रेड सहायक अध्यापक नियुक्ति को लेकर हाईकोर्ट ने किया हस्तक्षेप से इनकार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज