लाइव टीवी

तेज प्रताप यादव ने लिया तेजस्वी को CM बनाने का संकल्प, 2020 के रण में बनेंगे 'सारथी'
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: February 12, 2020, 6:24 PM IST
तेज प्रताप यादव ने लिया तेजस्वी को CM बनाने का संकल्प, 2020 के रण में बनेंगे 'सारथी'
तेजस्वी यादव के साथ तेजप्रताप यादव. (फाइल फोटो)

नए नारे के जरिए तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने यह संकल्प ले लिया है कि 2020 के रण में वे अपने छोटे भाई तेजस्वी यादव (Tejasvi Yadav) को बिहार की राजगद्दी पर बैठाकर ही दम लेंगे.

  • Share this:
पटना. 2019 के लोकसभा चुनाव (2019 Loksabha Election) में तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) की बगावत से राजद (RJD) को नुकसान हुआ था. उसके डैमेज कंट्रोल के लिए तेज प्रताप यादव इस बार पश्चाताप कर रहे हैं. तेज प्रताप ने इस बार संकल्प लिया है कि तेजस्वी को हर हाल में बिहार का मुख्यमंत्री बनाकर रहेंगे. इसके लिए उन्होंने खास रणनीति बनाई है.

तेज़ रफ्तार, तेजस्वी सरकार

तेजप्रताप का नया नारा है तेज़ रफ़्तार, तेजस्वी सरकार. इस नारे के जरिए तेज प्रताप यादव ने यह संकल्प ले लिया है कि 2020 के रण में वे अपने छोटे भाई तेजस्वी को बिहार की राजगद्दी पर बैठाकर ही दम लेंगे और इसके लिए वे तेज़ रफ़्तार से हर जिले, हर गांव और हर टोलों में धुआंधार अभियान भी चलाएंगे. तेज प्रताप के इस नए मिशन की शुरुआत मसौढ़ी से शुरू भी हो चुकी है. रविदास जयंती के मौके पर तेज प्रताप ने अभी दो दिन पहले ही दलितों की बस्ती में जाकर उनके साथ समय भी बिताया था. कुछ इसी तरह तेज प्रताप हर जिले में जाकर आरजेडी और लालू यादव की विचाराधारा को जन-जन तक पहुंचाएंगें. तेज प्रताप ने यह ठान लिया है कि उनको चाहे कितनी भी मेहनत करनी पड़े वे तेजस्वी को मुख्यमंत्री बनाकर ही सांस लेंगे.

तेज प्रताप करेंगे पश्चाताप

तेज प्रताप के इस नारे के पीछे एक कहानी भी है. दरअसल तेज प्रताप इस नए नारे के जरिए तेजस्वी और उनके चाहने वालों के बीच एक मैसेज देने की कोशिश में हैं कि वे तेजस्वी से बहुत प्यार करते हैं और फिर जो कुछ उनसे पिछले लोकसभा चुनाव में जाने-अनजाने में भूल हो गई थी उसे सुधारने के लिए वे इस बार पश्चाताप कर रहे हैं.

तेज प्रताप की बगावत ने 2019 में लुटाई थी पार्टी की लुटिया

2019 के लोकसभा चुनाव में तेज प्रताप की बगावत ने तेजस्वी और पार्टी का बड़ा नुकसान किया था. तेज प्रताप ने आरजेडी के उम्मीदवारों के खिलाफ जहानाबाद, शिवहर और हाजीपुर से अपना प्रत्याशी भी उतारा था जिसके चलते पार्टी को फ़जीहत भी झेलनी पड़ी थी. वहीं जहानाबाद सीट तेज प्रताप के चलते ही आरजेडी बड़े कम अंतरों से हार गई थी. लोकसभा चुनाव में तेज प्रताप के इसी बगावत के चलते पार्टी के भीतर उनके खिलाफ एक बड़ी गोलबंदी भी शुरू हो गई है. तेजप्रताप अब इसी डैमेज को कंट्रोल करने की कवायद में जुट गए हैं.ये भी पढ़ें- 

खिलौने की जगह सांप से खेलती है 3 साल की बच्ची, कोबरा से भी नहीं लगता उसे डर

पटना में दिनदहाड़े 10 लाख की लूट, बुजुर्ग दंपत्ति को बनाया निशाना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2020, 4:07 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर