लाइव टीवी

तेजस्वी यादव की 'गुगली' पर बोल्ड हुए सहयोगी, महागठबंधन में मची क्रेडिट लेने की होड़
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: February 26, 2020, 3:57 PM IST
तेजस्वी यादव की 'गुगली' पर बोल्ड हुए सहयोगी, महागठबंधन में मची क्रेडिट लेने की होड़
मंगलवार को विधानसभा से प्रस्ताव पारित होने के बाद उपेंद्र कुशवाहा ने भी अपने ट्विटर हैंडल से कई ट्वीट किए

बिहार विधानसभा ने मंगलवार को सर्वसम्मति से एनपीआर (NPR) और एनआरसी (NRC) पर प्रस्ताव पारित कर दिया. इस प्रस्ताव को लेकर एक तरफ बिहार में महागठबंधन के घटक दलों में श्रेय लेने की होड़ मच गई है, वहीं सीएम नीतीश कुमार के मास्टरस्ट्रोक ने नई बहस छेड़ दी है.

  • Share this:
पटना. बिहार में ये चुनावी साल है. साल के अंत में बिहार में 2020 का मुकाबला होना है, लिहाजा हर पार्टी अपना एक एक कदम अभी से फूंक-फूंक कर उठा रही है. एनपीआर (NPR) और एनआरसी (NRC) को लेकर जिस तरह से अल्पसंख्यकों का विरोध बढ़ रहा था, उसे देखते हुए मंगलवार को बिहार के मुखिया नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने एक बड़ा कदम उठाते हुए विधानसभा से इसे लेकर प्रस्ताव पारित करा दिया. नीतीश कुमार के इस मास्टर स्ट्रोक से बीजेपी तो अचंभित है ही, विपक्ष भी तिलमिला गया है.

नीतीश के मंत्री बोले
विपक्ष के अलग-अलग दल अब इस फैसले पर अपना क्रेडिट लेने की होड़ में लग गए हैं. तेजस्वी यादव ने इसे अपनी जीत बताते हुए कहा कि इस मुद्दे पर राजद जिस तरह से विरोध कर रहा था, उसके बाद सरकार को झुकना पड़ा और हार कर ये प्रस्ताव पारित कराना पड़ा. वहीं, बीजेपी इस पूरे मामले पर हैरान है. बीजेपी नेता और बिहार सरकार में मंत्री विनोद कुमार सिंह ने तो यहां तक कह दिया कि ये प्रस्ताव आनन-फानन में लाया गया है. जिस तरह से ये प्रस्ताव पारित होना चाहिए वैसे नहीं हुआ है.

तेजस्वी के बढ़ते कद से महागठबंधन के दल परेशान



दरअसल, मंगलवार को बिहार विधानसभा में तेजस्वी यादव और नीतीश कुमार की इस मुद्दे पर लगभग 20 मिनट तक मुलाकात हुई थी. इसके बाद विधानसभा की कार्यवाही की दूसरी पाली में जब सुशील मोदी का बजट भाषण खत्म हुआ, उसके बाद इस प्रस्ताव को पास कराया गया. यही वजह है कि राजद इस पर अपनी पीठ थपथपा रहा है, लेकिन दूसरी तरफ महागठबंधन के अन्य दलों में तेजस्वी के इस बढ़ते कद से बेचैनी बढ़ गई है. इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि प्रस्ताव पारित होने के तुरंत बाद उपेंद्र कुशवाहा तेजस्वी को बधाई देने के बजाये अपने ट्विटर हैंडल से लगातार एनआरसी और एनपीआर को लेकर अपने द्वारा चलाए गए अभियान का जिक्र करते दिखे.



एक तीर से दो निशाना
भले ही विपक्षी पार्टियों के बीच इस मुद्दे पर श्रेय लेने की होड़ मची हो, लेकिन ये तो साफ है इस चुनावी साल में नीतीश कुमार ने एक तीर से दो निशाना साध दिया है. एक तरफ एनआरसी और एनपीआर पर प्रस्ताव पारित कराकर एक बड़े वोट बैंक को साधने की कोशिश की है, तो वहीं दूसरी तरफ उन्होंने मास्टर स्ट्रोक खेलकर विपक्ष के हाथ से ये मुद्दा छीन लिया है.

ये भी पढ़ें- विधानसभा में उठा नियोजित शिक्षकों की हड़ताल का मामला

ये भी पढ़ें- JDU के 'धोखे' से BJP हुई आहत! RJD बोली- जल्द बदल सकती है बिहार की सियासत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 26, 2020, 1:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading