विरोधियों को 'जैसे को तैसा' वाला जवाब देने में जुटे तेजस्वी! RJD विधायकों को दिया ये टास्क...

News18 Bihar
Updated: August 31, 2019, 10:22 AM IST
विरोधियों को 'जैसे को तैसा' वाला जवाब देने में जुटे तेजस्वी! RJD विधायकों को दिया ये टास्क...
तेजस्वी यादव ने बिहार में आरजेडी का जनाधार बढ़ाने और पुराने दिन वापस लाने के लिए पार्टी नेताओं को नया टास्क दिया है.

आरजेडी के प्रधान महासचिव आलोक मेहता के अनुसार आरजेडी इस कोशिश में है कि पार्टी को उस पुरानी ऊंचाई तक पहुंचाया जाए जहां कभी लालू यादव ले गए थे.

  • Share this:
बिहार महागठबंधन (Grand Alliance) में विभिन्न दलों की आपसी खींचतान के बीच राष्ट्रीय जनता दल (Rashtriya Janta Dal) अपने आपको एक बार फिर से अपने आपको मजबूत करने में जुट गया है. विरोधी दलों के फॉर्मूले को खुद की पार्टी के लिए अपनाते हुए उन्हें उसी अंदाज में जवाब देने की तैयारी की जा रही है. इसके लिए पार्टी के नेता और बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष (Leader Of Opposition) तेजस्वी यादव (Tejaswi Yadav) ने अपने विधायकों को एक टास्क भी दिया है.

आरजेडी को संकट से उबारने का फॉर्मूला
सदस्य बनाओ, टिकट पाओ!.. यही वो टास्क है जो तेजस्वी यादव ने अपने नेताओं और विधायकों को RJD को संकट से उबारने के लिए दिया है. मिशन 2020 के लिए तेजस्वी 'बूथ मैनजेमेंट' करने की तैयारी कर रहे हैं. बीजेपी की तर्ज पर बूथ लेवल पर आरजेडी अब एक्टिव सदस्य बनाने की तैयारी में जुट गई है. इसके लिए तेजस्वी ने सबसे बड़ी जिम्मेदारी अपने विधायकों को दी है.

Tejaswi Yadav
तेजस्वी यादव ने 23 अगस्त को अपने निर्वाचन क्षेत्र वैशाली जिले के राघोपुर में सदस्यता अभियान की शुरुआत की थी.


आरजेडी का एक्टिव सदस्य बनाने पर जोर
विधायकों को उनके विधान सभा क्षेत्र में 1200 एक्टिव सदस्य बनाने का टास्क मिला है. दरअसल हर विधानसभा में औसतन 300 बूथ हैं. यानि हर बूथ पर 4 एक्टिव सदस्य के हिसाब से 1200 की संख्या करनी है.

तेजस्वी कर चुके हैं सदस्यता अभियान की शुरुआत
Loading...

गौरतलब है कि तेजस्वी खुद से बीते हफ्ते अपने विधानसभा क्षेत्र में जाकर ना सिर्फ सदस्यता अभियान की शुरुआत की थी. उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं से यह अपील भी की है कि वो ज्यादा से ज्यादा लोगों को आरजेडी से जोड़ें और उन्हें पार्टी का एक्टिव सदस्य बनाएं.

आरजेडी की पुनर्वापसी की तैयारी!
आरजेडी के प्रधान महासचिव आलोक मेहता के अनुसार आरजेडी इस कोशिश में है कि किसी भी तरह से पार्टी को लोकसभा चुनाव की बड़ी हार से न सिर्फ उबारा जाए बल्कि पार्टी को उसे पुरानी ऊंचाई तक पहुंचाया जाए जहां कभी लालू यादव ले गए थे.

लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त के बाद ढाई महीने तक राजनीतिक रूप से निष्क्रिय रहे तेजस्वी यादव सक्रिय हो गए हैं.


बीजेपी का तेजस्वी पर तंज
हालांकि विरोधी दल तेजस्वी की इस कोशिश पर तंज कस रहे हैं. बीजेपी प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल का कहना है कि यह फार्मूला उनकी पार्टी का कॉपी किया हुआ है. विधायकों को टास्क मिला है उसे विधायक पूरा करना तो दूर, उल्टे आरजेडी छोड़कर अलग हो जाएंगे.

तेजस्वी के लिए होगा फायदेमंद
बहरहाल लंबे समय तक तेजस्वी की निष्क्रियता के बाद सक्रिय राजनीति में उनकी वापसी पार्टी के लिए संजीवनी भी साबित हो सकती है. ऐसे में अगर यह फार्मूला सफल हुआ तो फिर यह आरजेडी से कही ज्यादा तेजस्वी के लिए फायदेमंद होगा.

(रिपोर्ट- अमित कुमार सिंह)

ये भी पढ़ें-


हाथी पर हथियार लहराकर बुरे फंसे BJP विधायक, जांच कर रही पुलिस




दारोगा बहाली में महिलाओं के लिए ऊंचाई की सीमा कम करवाएं CM-तेजस्वी यादव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 31, 2019, 10:17 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...