कृषि बिल के खिलाफ तेजस्वी ने निकाली ट्रैक्टर रैली, बोले- 'अन्नदाता' को 'निधिदाता' की कठपुतली बना दिया

तेजस्वी ने निकाली ट्रैक्टर रैली
तेजस्वी ने निकाली ट्रैक्टर रैली

किसानों को लेकर मोदी सरकार द्वारा लाए गए बिल पर संग्राम जारी है. भारतीय किसान यूनियन (Indian Farmer's Union) समेत विभिन्न किसान संगठनों ने 25 सितंबर को देशभर में चक्का जाम करने का ऐलान किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 25, 2020, 11:27 AM IST
  • Share this:

पटना. कृषि विधेयक के विरोध के लिए बिहार में विपक्षी दलों के नेता सड़क पर उतर आए हैंं. इसी क्रम में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejaswi yadav) ने ट्रैक्टर रैली निकाली. तेजस्वी ने कहा कि सरकार ने हमारे 'अन्नदाता' को 'निधि दाता' के माध्यम से कठपुतली बना दिया है. कृषि बिल किसान विरोधी है. सरकार ने कहा था कि वो 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करेगी, लेकिन ये बिल उन्हें और गरीब बना देगा. कृषि क्षेत्र का कॉर्पोरेटीकरण किया गया है.


बता दें कि किसानों को लेकर मोदी सरकार द्वारा लाए गए बिल पर संग्राम जारी है. भारतीय किसान यूनियन समेत विभिन्न किसान संगठनों ने शुक्रवार को देशभर में चक्का जाम करने का ऐलान किया है. इसमें 31 संगठन शामिल हो रहे हैं. किसान संगठनों को बिहार में कांग्रेस, RJD, जाप और वामपंथी दलों का समर्थन प्राप्त है.


इससे पहले गुरुवार को तेजस्वी यादव ने कहा था कि NDA सरकार लगातार गरीब और किसान विरोधी फैसले ले रही है. केंद्र की नरेंद्र मोदी की सरकार को संख्या बल का इतना गुमान है कि बगैर किसानों, उनके संगठन और राज्य सरकार से राय-मशवरा किये कृषि क्षेत्र का भी निजीकरण, ठेका प्रथा और कॉर्पोरेटीकरण कर रही है. तेजस्वी यादव ने कहा कि लोकसभा में एकतरफ़ा 3 कृषि विधेयकों का पास कराना किसानों के हाथ काटने जैसा है. नेता प्रतिपक्ष ने केंद्र सरकार से किसान विरोधी अध्यादेश को तुरंत वापस लेने की मांग की है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज