• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • Corona crisis: कोटा पर गरमाई राजनीति! तेजस्वी ने मांगी ये अनुमति, JDU बोली- घटिया राजनीति कब तक?

Corona crisis: कोटा पर गरमाई राजनीति! तेजस्वी ने मांगी ये अनुमति, JDU बोली- घटिया राजनीति कब तक?

तेजस्वी यादव और नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

तेजस्वी यादव और नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

Lockdown 2.0: तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार सरकार अगर कोटा में फंसे आम विद्यार्थियों को लाने में अक्षम, अशक्त और असमर्थ है, तो उन्‍हें विशेष अनुमति दी जाए.

  • Share this:
    ैंंपटना. कोरोना संकट (Corona crisis) के बीच राजस्थान के कोटा शहर में बिहार के फंसे बच्चों को लेकर राजनीति जारी है. इसी क्रम में एक बार फिर बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने बिहार सरकार को कठघरे में खड़ा किया है. उन्होंने कहा है कि संकट की इस घड़ी में बिहार के बच्चों को लाने की उन्हें अनुमति दी जाए.

    तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा, 'ख़ास लोगों के प्रति समर्पित बिहार सरकार अगर कोटा में फंसे आम विद्यार्थियों को लाने में अक्षम, अशक्त और असमर्थ है, तो हमें विशेष अनुमति प्रदान करें. हम उन 6500 छात्रों को बिहार लेकर आएंगे. संकट की इस घड़ी में बिहार के भविष्य निर्दोष नादान बच्चों को ऐसे नहीं छोड़ सकते. अनुमति दीजिए.'




    हालांकि, जेडीयू प्रवक्ता निखिल मंडल ने तेजस्वी यादव के ट्वीट पर जवाब देते हुए लिखा, 'कब तक घटिया राजनीति कीजिएगा. सरकार हर दिन किए हुए काम को सार्वजनिक कर रही है, जिसे बिहार की जनता बख़ूबी समझ रही है. आपने ज़िंदगी भर तो यही काम किया है, जिसे क़ानून करने से रोकता है. वैसे आप हैं कहां, कहां से कहां तक की अनुमति मांग रहे हैं आप जनाब.'

    नीतीश कुमार पर बढ़ा दबाव
    बता दें कि बिहार और उत्तर प्रदेश से हजारों की संख्या में इंजीनियरिंग और मेडिकल की प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी करने कोटा गए छात्र लॉकडाउन में वहीं अटक गए हैं. करीब 35 हजार फंसे छात्रों की घर वापसी को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर दबाव बढ़ रहा है, लेकिन उन्होंने इसे लॉकडाउन कानूनों का उल्लंघन मानते हुए लाने से इनकार कर दिया है.

    पीके ने भी उठाए थे सवाल
    कभी सीएम नीतीश के करीबी रहे प्रशांत किशोर ने भी सवाल उठाते हुए बच्‍चों की वापसी की बात कही थी. बिहार के सैकड़ों बच्चों की मदद की अपील को मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने यह कहकर अस्‍वीकार किया था कि ऐसा करने से लॉकडाउन की मर्यादा का उल्‍लंघन होगा. उन्हीं की सरकार ने एक बीजेपी विधायक को कोटा से अपने बेटे को लाने के लिए विशेष अनुमति दी. प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार से सवाल किया है कि अब आपकी मर्यादा क्या कहती है?

    राजनीति का आगाज
    दरअसल, कोटा में फंसे छात्रों की घर वापसी को लेकर चर्चा कुछ दिन पहले ही चल रही थी, लेकिन विवाद तब बढ़ना शुरू हुआ, जब राजस्थान सरकार की ओर से इन छात्रों को अपने घर लौटने के लिए पास जारी किए जाने लगे.  कुछ छात्र अपने गृह राज्य की सीमा पर पहुंचे तो उन्हें रोक दिया गया. इसके बाद बिहार सरकार ने केंद्र को तुरंत पत्र लिखकर कहा कि ये लॉकडाउन के नियमों के खिलाफ है, इसपर तुरंत कार्रवाई की जाए. हालांकि, यूपी सरकार ने उत्तर प्रदेश के छात्रों के लिए सैकड़ों बसें भेज दीं और कोटा में फंसे छात्रों को वापस बुला लिया. इसके बाद बिहार की राजनीति में ये मुद्दा और भी गरम हो गया है.

    ये भी पढ़ें

    Bihar: शराबबंदी के बावजूद नशे में टल्ली थे BDO साहब! SSP के आदेश पर मौके से गिरफ्तार

    बिहार: कुछ छूट के साथ शुरू हो जाएंगे ये काम, खुलेंगे सरकारी ऑफिस और ढाबे-रेस्टोरेंट

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज