• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • तेजस्वी ने CM नीतीश से मांगी जमीन, पटना की 14000 वर्ग फीट जमीन पर ठोका दावा, जानें पूरा मामला 

तेजस्वी ने CM नीतीश से मांगी जमीन, पटना की 14000 वर्ग फीट जमीन पर ठोका दावा, जानें पूरा मामला 

राजद के बिहार प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने राजद कार्यालय के लिए अतिरिक्त जमीन की मांग की है.

राजद के बिहार प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने राजद कार्यालय के लिए अतिरिक्त जमीन की मांग की है.

Bihar Politics: जगदानंद सिंह ने भवन निर्माण विभाग को लिखे पत्र में कहा है कि जदयू के लिए लागू मानदंड की तरह ही राजद कार्यालय के लिए बगल की 13797 वर्गफीट जमीन दी जाए. इस जमीन को देने के बाद भी राजद को केवल 33642 वर्ग फीट की जमीन उपलब्ध होगी, जो जेडीयू कार्यालय परिसर का 50% होगा.

  • Share this:

पटना. बिहार में सबसे अधिक विधायकों वाली पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (RJD) ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश सरकार ( CM Nitish Kumar) के सामने नई मांग रख दी है जिस वजह से जदयू नेताओं के माथे पर बल आ गए हैं. दरअसल राजद ने नीतीश सरकार (Nitish Government) से कहा है कि विधानसभा में राजद के 75, बीजेपी के 74 एवं जेडीयू (JDU) के विधायकों की संख्या 43 है. बावजूद इसके तीसरे नंबर की पार्टी जदयू को प्रदेश कार्यालय के लिए सबसे अधिक सार्वजनिक स्थान प्राप्त है. सबसे बड़े दल के लिए जेडीयू की जमीन के मुकाबले मात्र 30 प्रतिशत तथा भाजपा (BJP के मुकाबले 37% सरकारी स्थान दिया गया है. यह न्याय के सिद्धांत के विपरीत है.

राजद के बिहार प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने सवाल उठाते हुए कहा कि न्याय का सिद्धांत यह कहता है कि आवंटन बराबर का होना चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा. राजद अध्यक्ष ने प्रदेश कार्यालय के संचालन को लेकर और जमीन देने की मांग की है. उन्होंने इस संबंध में भवन निर्माण विभाग के सचिव को पत्र लिखा था. पत्र में कहा गया कि बिहार में 3 बड़े दल हैं. तीनों दलों का कार्यालय वीरचंद मार्ग में आसपास ही है. मगर तीनों दल के कार्यालय के लिए आवंटित जमीन में बड़ा अंतर है.

ये भी पढ़ें-  Bihar Politics: चिराग पासवान पर कितना बड़ा ‘राजनीतिक प्रहार’ है संसदीय दल अध्यक्ष पद से हटाया जाना?

राजद प्रदेश अध्यक्ष ने आंकड़ों के माध्यम से सरकार को घेरा है.  पत्र में कहा गया है कि जेडीयू को 66000 वर्ग फीट, भारतीय जनता पार्टी को 52000 वर्ग फीट और राष्ट्रीय जनता दल को केवल 19842 वर्ग फीट जमीन दी गयी है. ऐसे में राजद कार्यालय के बगल में एक खाली प्लॉट है, जो दीवार से उत्तर तरफ सटा हुआ है. यह जमीन राजद कार्यालय के लिए उचित है. इस जमीन को राजद को आवंटित किया जाना चाहिए क्योंकि आवश्यक कार्यों के निष्पादन में कठिनाई हो रही है.

जगदानंद सिंह ने उल्लेख किया है कि बिहार सरकार ने जेडीयू के कार्यालय विस्तार के लिए इसी तरह की रिक्त जमीन दी है जिस पर विधायकों के 24 आवासीय फ्लैट बने हुए थे. सभी फ्लैटों को केवल तोड़कर ही विस्तार की अनुमति नहीं दी गई बल्कि उस पर करोड़ों रुपए से अधिक खर्च कर शानदार सभाकक्ष बना दिया गया. सार्वजनिक सड़क को भी परिसर की घेराबंदी में लेकर मिलर स्कूल तक विस्तारित की गई. सार्वजनिक धन से दो मंजिला भवन का निर्माण किया जा रहा.

ये भी पढ़ें- गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने को लेकर इलाहाबाद हाई कोर्ट की टिप्पणी पर क्या बोले दिग्विजय सिंह?

जगदानंद सिंह ने कहा कि जदयू के लिए लागू मानदंड की तरह ही राजद कार्यालय के लिए बगल की 13797 वर्ग फीट जमीन दी जाए. इस जमीन को देने के बाद भी राजद को केवल 33642 वर्ग फीट की जमीन उपलब्ध होगी, जो जेडीयू परिसर का 50% एवं भाजपा ऑफिस के एरिया का 67% होगा.

जगदानंद सिंह ने भवन निर्माण विभाग को कहा कि अगर वह जमीन कार्यालय संचालन के लिए मिल जाए तो हम इसे ही न्यायपूर्वक आवंटन मान लेंगे. हमने सिर्फ जमीन की चर्चा की है कि कैसे राजद परिसर से भाजपा का परिसर 266% तथा जदयू का परिसर 330% बड़ा है. यदि निर्मित भवनों की तुलना की जाए तो दोनों पार्टी जेडीयू एवं भाजपा का भवन राजद कार्यालय से हजार-हजार गुना बड़ा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज