Bihar Chunav: तेजश्वी यादव ने 'नौकरी संवाद' में दोहराया 10 लाख नौकरी देने का वादा, पढ़ें 10 खास बातें

तेजस्‍वी यादव महागठबंधन के सीएम चेहरा हैं. (फाइल फोटो)
तेजस्‍वी यादव महागठबंधन के सीएम चेहरा हैं. (फाइल फोटो)

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) में तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) के दस लाख लोगों को नौकरी देने के वादे ने सियासत तेज कर दी है. जबकि आरजेडी नेता ने एक बार फिर 'नौकरी संवाद' के जरिए अपना वादा दोहराया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 27, 2020, 8:28 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) में आरजेडी नेता तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) के सरकार बनने के बाद दस लाख लोगों को नौकरी देने के वायदे से बवाल मचा हुआ है. भाजपा और जेडीयू ने नौकरी वाले बयान को लेकर आरजेडी नेता पर हमला बोलते हुए कहा कि जो अपने माता और पिता के मुख्‍यमंत्री रहते हुए मैट्रिक पास नहीं कर सके वो अब लोगों को नौकरी देने का फॉर्मूला बता रहे हैं. हालांकि मंगलवार शाम को अपने 'नौकरी संवाद' (Naukri Sanwad) में एक बार फिर तेजस्‍वी यादव ने अपना वादा दोहराया है.

बीपीएससी की लेटलतीफी होगी दूर
नौकरी संवाद के दौरान न सिर्फ उन्‍होंने नीतीश की उम्र पर तंज कसा बल्कि यही भी कहा कि जब आदमी चांद पर चला जाता है तो क्‍या बिहार में सरकारी नौकरी नहीं दी जा सकती. इसके अलावा उन्‍होंने कि मेरी सरकार बीपीएससी की लेटलतीफी दूर करेगी. बीपीएससी की लेटलतीफी से परेशान युवकों की उम्र सीमा मेरी सरकार बढ़ाएगी. जबकि महागठबंधन सरकार सामान्य और आरक्षित युवाओं की उम्र सीमा भी बढ़ाएगी.
तेजस्‍वी यादव ने दोहराया कि मेरी सरकार बनने के बाद कैबिनेट की पहली बैठक में 10 लाख नौकरी देने का फैसला होगा. यह देशभर में पहला ऐतिहासिक काम होगा.
बिहार में महागठबंधन के सीएम चेहरा तेजस्‍वी यादव ने कहा कि हम ठेठ बिहारी हैं, हम जो कहते हैं, वो पूरा करते हैं. हमने नवरात्र में कलश स्थापना की थी और 10 लाख लोगों को नौकरी देने का संकल्‍प लिया था. मेरी सरकार बनने पर बिहार के लोगों को नौकरी में 85 फीसदी आरक्षण सुनिश्चित किया जाएगा.
नौकरी संवाद में तेजस्‍वी यादव ने कहा कि बिहार में साढ़े चार लाख से अधिक नौकरी के पद खाली हैं.
आरजेडी नेता ने कहा कि बिहार में हमने बेरोजगारी यात्रा शुरू की थी, लेकिन चुनाव की वजह से स्थगित करनी पड़ी. साथ ही दावा किया कि हमने बेरोजगारों के लिए पोर्टल शुरू किया, जिस पर 25 लाख रोजगार रजिस्टर्ड हैं.
तेजस्‍वी यादव ने कहा कि बिहार में शिक्षा अगर बेहतर होती, तो रोजगार के साधन उपलब्ध रहते और तो लोग बाहर नहीं जाते. हमने युवाओं को बाहर जाने से रोकने के लिए रोडमैप तैयार किया है. इसी आधार पर हमने 10 लाख लोगों को नौकरी देने का फैसला लिया है.
साथ ही कहा कि बजट का कुल व्यय 12.60 ही सैलरी पर खर्च किया जाता है. आरजेडी नेता ने कहा कि नीतीश कुमार कहते हैं कि पैसा कहां से आएगा, लेकिन हमारी सरकार बनेगी तो वह बजट के हिसाब से स्वर्णिम काल होगा.
नौकरी संवाद में तेजस्‍वी ने कहा कि सत्ताधारी दल के पास बहस करने को कोई मुद्दा नहीं है. जबकि नीतीश कुमार शारीरिक और मानसिक तौर पर थक चुके हैं.
सीएम नीतीश निजी हमले कर रहे और उनकी भाषा में भी गिरावट आ रही है. हालांकि वह हमारे अभिभावक हैं और हम उन्‍हें उनकी ही भाषा में जवाब नहीं देना चाहते. हमें भविष्य की चिंता है.
नौकरी संवाद ने यादव ने कहा कि हमारी सरकार बनेगी तो निजीकरण को खत्म कर अधिक से अधिक लोगों को सरकारी नौकरी दी जाएगी.
साथ ही तेजस्‍वी यादव ने कहा कि बिहार में 1 लाख की आबादी पर केवल 77 पुलिसकर्मी हैं. जबकि विश्विद्यालय में शिक्षकों की कमी और ग्रेजुएशन करने में तीन की बजाय 5 साल लग जाते हैं. बिहार में नियोजन शब्द को किया जाएगा खत्म. सभी युवाओं को स्थाई नौकरी दी जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज