इधर मुंह ताकते रह गए जीतन राम मांझी और उधर बाजी मार गए तेजस्वी यादव!
Patna News in Hindi

इधर मुंह ताकते रह गए जीतन राम मांझी और उधर बाजी मार गए तेजस्वी यादव!
आगामी बिहार विधानसभा चुनाव से पहले जीतन राम मांझी और RJD दोनों दलितों को अपने-अपने पाले में करने की कवायद में जुट गए हैं

विधानसभा चुनाव (Assembly Election) के करीब आते ही बिहार में जातिगत वोट बैंक की राजनीति गरमाने लगी है. इसी क्रम में तेजस्‍वी यादव ने पहला कदम उठा लिया है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
पटना. बिहार के नेता प्रतिपक्ष और लालू प्रसाद के छोटे बेटे तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) बिहार विधानसभा चुनाव से ठीक पहले जातिगत समीकरण को सेट करने में लग गए हैं. शायद यही कारण है कि जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) ने तेजस्वी यादव पर एक खास जाति की राजनीति करने का आरोप लगाया तो तेजस्वी ने बाढ़ के घोसवरी जाकर दो महादलितों की हत्या पर न केवल शोक जताया, बल्कि परिजनों की आर्थिक मदद कर मांझी से लीड भी ले ली. इस पूरे प्रकरण में तेजस्वी यादव की तत्परता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि मांझी के वोट बैंक (यानी दलित बिरादरी) के प्रति भी तेजस्वी ने अपना स्टैंड साफ कर दिया है और आलोचना को अवसर में बदल डाला.

इशारों ही इशारों में दे दिया मैसेज
माना जा रहा है जीतन राम मांझी के सवाल का उन्हीं के अंदाज में जवाब देकर तेजस्वी ने अपने सहयोगियों को बड़ा मैसेज दिया है की है की वो तमाम जाति की राजनीति करते हैं. साफ है कि तेजस्वी ने मांझी के दलित प्रेम पर इशारों में हमला कर ये जताने की कोशिश की है कि सिर्फ जाति की बात कर देने भर से कोई नेता नहीं हो जाता है. तेजस्वी को ये अच्छे से पता है कि उनके गठबंधन के कई सहयोगी ऐसे हैं जो तेजस्वी के नेतृत्व को पसंद नहीं करते हैं, इसलिए समय-समय पर उनके फ़ैसले के साथ-साथ नेतृत्व पर भी सवाल उठाते रहते हैं. ऐसे में तेजस्वी यादव घोसवरी जाकर दलितों से मुलाक़ात कर ये जताने की कोशिश कर रहे है की वो तमाम जाति के नेता है.

हम बोला- फर्क नहीं पड़ता



मांझी की पार्टी 'हम' के प्रवक्ता दानिश रिजवान कहते हैं कि तेजस्वी कहीं जाएं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है. लेकिन, अगर राजनीति ही करना है तो वो अपने सहयोगियों को तो साथ लेकर चलें और तमाम जातियों की राजनीति करें. हमारे नेता मांझी जी ने जब सवाल उठाया की तेजस्वी एक खास जाति की राजनीति करते है तब तेजस्वी जी की नींद टूटी.



RJD का तंज
राजद नेता और विधायक विजय प्रकाश कहते हैं कि तेजस्वी यादव पर जो लोग भी जाति की राजनीति का आरोप लगाते हैं, वो राजनीति से प्रेरित है. तेजस्वी के अगल-बगल कौन रहते हैं, कभी इसे गौर से लोग देखें तो पता चलेगा. तेजस्वी तमाम जाति की राजनीति करते हैं और हमेशा करेंगे भी.

कहां-कहां दाग छुड़ाएंगें तेजस्वी
इस मामले में जेडीयू नेता और मंत्री नीरज कुमार कहते हैं कि तेजस्वी यादव जगह-जगह जाकर अपनी राजनीतिक रोटी सेंकने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन उनके और उनके पिता पर जो दाग लगे हैं उसे कहां कहां छुड़ाते फिरेंगे. तेजस्वी यादव कभी भी अपने पिता की मानसिकता से अलग नहीं हो सकते हैं जिन्हें जाना ही जाता था जाति की राजनीति करने के लिए.

ये भी पढ़ें- Lockdown5.0: सरकारी दफ्तरों में 10 से 6 ही ड्यूटी करेंगे कर्मी, ये होंगे नियम

ये भी पढ़ें- पटना-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस को एस्कॉर्ट करने वाला RPF का जवान निकला कोरोना पॉजिटिव
First published: June 2, 2020, 6:59 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading