लाइव टीवी

तेजस्वी फिर नीतीश कुमार को लिखा खुला पत्र, मांगा 15 साल का हिसाब
Patna News in Hindi

Amit Kumar | News18Hindi
Updated: January 29, 2020, 11:19 PM IST
तेजस्वी फिर नीतीश कुमार को लिखा खुला पत्र, मांगा 15 साल का हिसाब
तेजस्वी ने सीएम नीतीश कुमार से 15 सालों का हिसाब मांगा है. साथ ही सूबे में बिगड़ी कानून व्यवस्‍था, बेरोजगारी और शिक्षा व्यवस्‍था पर सवाल उठाए हैं. (फाइल फोटो)

तेजस्वी ने सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) से 15 सालों का हिसाब मांगा है. साथ ही सूबे में बिगड़ी कानून व्यवस्‍था, बेरोजगारी और शिक्षा व्यवस्‍था पर सवाल उठाए हैं. साथ ही तेजस्वी ने इसके साथ ही नीतिश पर कई आरोप भी लगाए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 29, 2020, 11:19 PM IST
  • Share this:
पटना. तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार के नाम का एक बार फिर खुला पत्र लिखा है. अब तेजस्वी को इंतजार है की इनके सियासी चाचा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इनके इस खुले पत्र का जबाब दें. इधर तेजस्वी के इस पत्र को लेकर सियासी गलियारों का तापमान बढ़ना शुरू हो चुका है और पक्ष-विपक्ष आमने-सामने हो गए हैं. तेजस्वी ने सीएम नीतीश कुमार से 15 सालों का हिसाब मांगा है. साथ ही सूबे में बिगड़ी कानून व्यवस्‍था, बेरोजगारी और शिक्षा व्यवस्‍था पर सवाल उठाए हैं. साथ ही तेजस्वी ने इसके साथ ही नीतिश पर कई आरोप भी लगाए हैं.

बिहार को वाजिब हक क्यों नहीं मिला
तेजस्वी ने अपने पत्र में लिखा कि 2017 में जनादेश चोरी के बाद जब बिहार में अनैतिक सरकार बनी थी तब जनादेश अपमान की शर्मिंदगी दबाने और न्यायप्रिय लोकतांत्रिक लोगों को सांत्वना देने के लिए आप जोर-शोर से कहते थे कि दशकों बाद केंद्र और बिहार में एक गठबंधन की सरकार बनी है. उन्होंने पूछा कि डबल इंजन सरकार में बिहार को अब भी उसका वाजिब हक क्यों नहीं मिल रहा है?

तेजस्वी ने नीतिश पर लगाए कई आरोप.


क्यों नहीं‌ मिली विशेष आर्थिक सहायता
तेजस्वी ने नीतीश पर तंज कसते हुए कहा कि पटना में भरे मंच से बार-बार मिन्नतें करने के बावजूद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने से इनकार कर दिया था. उसके एवज में प्रधानमंत्री ने जो विशेष आर्थिक सहायता पटना विश्वविद्यालय को देने का वादा किया था उसे आज तक पूरा नहीं किया है? क्या यही आपकी हैसियत है कि आप 100 वर्ष पुराने पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा तक नहीं दिला सकते?

विकास किया है तो...तेजस्वी यादव ने इस दौरान सीएम के मंत्रिमंडल पर भी हमला बोला. उन्होंने लिखा कि मुख्यमंत्री जी, अपने मंत्रिमंडल में शामिल बीजेपी के 11 मंत्रियों और ज्ञानी-ध्यानी उपमुख्यमंत्री को दिल्ली दौड़ाइए. यदि ये लोग आपके अपमान, बेबसी और लाचारी को देखकर भी अपनी पार्टी से बिहार को केंद्रीय मदद दिलाने में असफल हैं तो इन्हें मंत्रिमंडल से तुरंत बर्खास्त कीजिए. बिहार का अहित सोचने वाले ऐसे नाकारा मंत्रियों को हटाने में किस बात का डर? आपके चेहरे पर तो सरकारें बनती है ना? फिर अकेले चुनाव लड़ने में क्या डर? अगर आपने 15 वर्ष कथित विकास किया है तो लड़िए अकेले?

सोशल मीडिया पर नीतीश के नाम तेजस्वी का खुला पत्र.


 

बाढ़ के दौरान भी नहीं मिली मदद
नीतीश पर सवालों की झड़ी लगाते हुए तेजस्वी ने पूछा कि क्या आप जवाब दे सकते है कि विगत वर्ष बिहार में दो बार भीषण बाढ़ आई लेकिन केंद्र से क्या मदद मिली? आपने केंद्र से कितने की मांग की और मिला कितना? बिहार से छोटे और तुलनात्मक रूप से बाढ़ से कम नुक़सान वाले दूसरे राज्यों को दी गई मदद बिहार से कई गुना अधिक है. कर्नाटक को 3000 करोड़ तो एमपी को 1700 करोड़ मिले लेकिन बिहार की डबल इंजन वाली ट्रबल सरकार को मात्र 400 करोड़ ही दिए.

इस दौरान तेजस्वी ने प्रधानमंत्री की तरफ से की गई घोषणाओं पर भी सवाल खड़ा किया.


और मांग लिया इस्तीफा
तेजस्वी ने पत्र में लिखा कि मोदी सरकार ने आपको इतना कमजोर और मजबूर कर दिया है कि आप खुशी-खुशी आर्टिकल 370, तीन तलाक, सीएए, एनआरसी और एनपीआर का समर्थन कर रहे हैं और साथ ही साथ बिहार का वित्तीय नुक़सान भी झेल रहे है. उन्होंने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री जी, कुर्सी के लिए अपमानित होने और बिहार का नुकसाल करने से अच्छा है राजभवन जाकर आप दे दें.

तेजस्वी ने इस दौरान नीतीश कुमार से सीएम पद से इस्तीफा देने की भी मांग की.


जेडीयू ने दिया जवाब
इस पत्र के बाद जेडीयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह ने दे दिया है संजय सिंह का कहना है की नीतीश कुमार पिछले पन्द्रह साल से बिहार की सेवा सच्चे दिल से कर रहे है उन्हें अगर जबाब देना होगा तो बिहार की जनता को देगें. वहीं कांग्रेस कहती है की नीतीश कुमार को ऐसे पत्र से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला, वे  वो तो कान में तेल डालकर बैठे हैं.

ये भी पढ़ेंः JDU से निकाले गए PK, अब विपक्ष का मिल रहा साथ, नीतीश को घेरने की तैयारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 29, 2020, 11:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर