लाइव टीवी

'टीम तेजस्वी' से लालू के करीबियों की छुट्टी! 50 में से 22 जिलों में होंगे अतिपिछड़ा और दलित जिलाध्‍यक्ष
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: February 4, 2020, 12:06 PM IST
'टीम तेजस्वी' से लालू के करीबियों की छुट्टी! 50 में से 22 जिलों में होंगे अतिपिछड़ा और दलित जिलाध्‍यक्ष
तेजस्वी यादव ने हाल में ही संगठन में बड़े फेरबदल के संकेत दिए थे. (फाइल फोटो)

लालू यादव (Lalu Prasad Yadav) के बेहद करीबी माने जाने वाले और पटना के जिलाध्यक्ष देवमुनि यादव पर भी तलवार लटक रही है. अब पटना में RJD के एक के बजाए दो जिलाध्यक्ष रहेंगे.

  • Share this:
पटना. बिहार में नेता प्रतिपक्ष और लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव के लिए साल 2020 का विधानसभा चुनाव अग्निपरीक्षा की तरह हो गया है. ऐसे में तेजस्वी खुद को साबित करने और सत्ता में वापसी के लिए कोई भी रिस्क लेने को तैयार हैं. यही कारण है कि वह यादवों से ज्यादा इस बार दलितों-अतिपिछड़ों पर दांव लगा रहे हैं. 'RJD अब केवल यादवों की पार्टी नहीं' ऐसा करने की कोशिश में लगी है और यही कारण है कि पार्टी में अतिपिछड़ों-दलितों को जोड़ने की कोशिश की जा रही है.

50 में 25 नए चेहरे
रघुवंश प्रसाद सिंह की लिखी चिट्ठी में पार्टी के संगठन को मजबूत करने पर जो जोर दिया गया था, उसके बाद तेजस्वी-जगदानन्द सिंह ने एक नई टीम बनाई है. इस नई टीम में पुराने चेहरों से किनारा किया गया है. कुल 50 जिलाध्यक्षों में 25 नए चेहरों को इस बार मौका मिलने वाला है. न्यूज 18 के विश्वस्त सूत्रों के हवाले से खबर है, उसमें लालू के कई करीबियों की इस बार छुट्टी होने वाली है खासकर इस नई टीम में यादवों को दूर रखा गया है.

लालू के करीबियों पर भी गिरी गाज

लालू यादव के बेहद करीबी माने जाने वाले और पटना के जिलाध्यक्ष देवमुनि यादव पर भी इस बार तलवार लटक रही है. अब पटना में एक के बजाए दो जिलाध्यक्ष रहेंगे. दूसरा जिलाध्यक्ष बाढ़ से होगा जो अतिपछड़ा वर्ग से ही होगा. इसके अलावे सुपौल से विधायक यदुवंशी यादव को भी नई टीम से बाहर रखा गया है. उनकी जगह अब अतिपिछड़ा समाज से किसी को जिलाध्यक्ष बनाया जाएगा. साथ ही पूर्णिया और मधुबनी जैसे कई जिलों में भी बड़ा उलटफेर होने वाला है. इन जगहों पर भी अब अतिपिछड़ों और दलितों को ही मौका मिलने वाला है. इन सभी जगहों पर अधिकांश जिलाध्यक्ष यादव जाति के ही रहे हैं.

तेजस्वी-जगदानन्द की नई टीम
जगदानन्द सिंह और तेजस्वी की नई टीम में अतिपिछड़ों और दलितों पर सबसे ज्यादा फोकस किया गया है. इसमें 14 जिलों में अतिपछड़ा वर्ग के जिलाध्यक्ष और आठ जिलों में दलित जिलाध्यक्षों को संगठन में शामिल किया गया है. बाकी बचे 28 जिलों में यादव-मुसलमान के अलावा पहली बार आरजेडी अपने संगठन में अगड़ों को भी शामिल कर रही है. कुल 50 जिलाध्यक्षों में 22 जिलाध्यक्ष दलित और अतिपछड़ा समाज से होंगे.तेजस्वी का नया फॉर्मूला
तेजस्वी यादव सत्ता में आने के लिए इस बार कोई भी फॉर्मूला आजमाना चाहते हैं. अभी कुछ दिन पहले ही कर्पूरी ठाकुर की जयंती समारोह में उन्होंने खुले मंच से इस बात का ऐलान भी किया था. उन्‍होंने कहा था कि इस बार वह यादव-मुसलमान के अलावे सभी जातियों को संगठन में शामिल करेंगे. तेजस्वी ने तब 'जिन्न' की चर्चा की थी तो उसी जिन्न को लुभाने के लिए तेजस्वी ने जिलाध्यक्षों की अपनी नई टीम में इस बार अतिपिछड़ों और दलितों को सबसे ज्यादा मौका दिया है.

ये भी पढ़ें- लालू के 'जिन्न' पर तेजस्वी को भरोसा, पुराने फार्मूले को भुनाने में जुटी पार्टी

ये भी पढ़ें- छात्र रालोसपा के प्रदेश अध्यक्ष को गोलियों से भूना, हालत नाजुक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 11:20 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर