तेजस्वी यादव ने रखी शर्त, 'चाचा' नीतीश कुमार पहले BJP का साथ छोड़ें, तब होगी बात!
Patna News in Hindi

तेजस्वी यादव ने रखी शर्त, 'चाचा' नीतीश कुमार पहले BJP का साथ छोड़ें, तब होगी बात!
बिहार के सीएम नीतीश कुमार के साथ तेजस्वी यादव बतौर डिप्टी सीएम काम कर चुके हैं. (फाइल फोटो)

रघुवंश प्रसाद सिंह (Raghuvansh Prasad Singh) ने पहली बार तेजस्वी यादव (Tejasvi Yadav) को लेकर न्यूज 18 को जो एक्सक्लूसिव जानकारी दी है कि तेजस्वी शर्तों पर नीतीश कुमार (Nitish Kumar) से बातचीत करने को तैयार हैं.

  • Share this:
रिपोर्ट- अमित कुमार सिंह

पटना. राजद (RJD) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और लालू (Lalu Prasad) के बेहद क़रीबी माने जाने वाले रघुवंश प्रसाद सिंह ने नए साल में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को लेकर एक बार फिर से बड़ा दावा किया है. रघुवंश की मानें तो राजद और जेडीयू (JDU) में अंदरखाने बातचीत चल रही है. रघुवंश प्रसाद सिंह यहीं नहीं रुके. उनकी मानें तो तेजस्वी की शर्त है कि नीतीश कुमार पहले बीजेपी का साथ छोड़े तब बातचीत की गुंजाइश हो सकती है, ज़ाहिर है यह बयान बिहार की सियासत को गर्मा सकती है.

चुनावी साल में रघुवंश का नया दांव



यह कोई पहला मौका नहीं जब रघुवंश प्रसाद सिंह ने नीतीश कुमार को महागठबंधन में शामिल होने का न्योता दिया हो लेकिन चुनावी साल में रघुवंश के इस नए दांव ने बिहार की राजनीति में फिर से हलचल जरूर मचा दी है. रघुवंश सिंह के इस बयान में कितना दम है ये तो रघुवंश सिंह ही जानें लेकिन अपने कुछ इन्हीं बयानों को लेकर वे हमेशा से चर्चा में जरूर रहते हैं. उन्होंने महागठबंधन में नीतीश कुमार के रहते भी कहा था कि नीतीश बीजेपी का दामन थामेंगे, जो बाद में सच साबित हुआ.
JDU-RJD में चल रही बात

एक बार फिर से रघुवंश सिंह ने नीतीश को लेकर दावा किया है कि अंदरखाने जेडीयू और राजद में बातचीत चल रही है, लेकिन रघुवंश प्रसाद सिंह ने पहली बार तेजस्वी को लेकर न्यूज 18 को एक्सक्लूसिव जानकारी दी है कि तेजस्वी शर्तों के साथ नीतीश कुमार से बातचीत करने को तैयार हैं. ये साल 2020 का सबसे बड़ा खुलासा है, उन्होंने कहा कि वे बीजेपी को बिहार से दूर रखने के लिए कोई भी समझौता करने को तैयार हैं.

नीतीश कुमार को लेकर दो खेमों में बंटी है RJD 

रघुवंश प्रसाद सिंह ने यह भी माना है कि नीतीश कुमार को लेकर आरजेडी में दो राय या यूं कह लीजिए कि दो खेमा है, लेकिन पार्टी में अधिकांश लोग और खासकर लालू यादव भी मानते हैं कि बीजेपी के खिलाफ सारी सेक्युलर पार्टियां एकजूट हों जिसमें नीतीश कुमार भी शामिल हैं वो और बात है कि तेजस्वी अब भी नीतीश कुमार को लेकर थोड़े कन्फ्यूज हैं.

रघुवंश का प्रस्ताव जेडीयू को मंजूर नहीं

अभी कई ऐसे मुद्दे है जिसको लेकर जेडीयू और बीजेपी में दूरी है. साथ ही विधानसभा चुनाव में टिकट को लेकर भी अभी संशय के हालत बने हुए हैं. झारखंड चुनाव परिणाम के बाद बीजेपी भी फिलहाल बैकफुट पर है, लेकिन विधानसभा चुनाव में बराबर-बराबर सीट पर चुनाव लड़ने की बात बीजेपी के कई नेता कहते नहीं थक रहे हैं, लेकिन इन सबके बावजूद भी रघुवंश प्रसाद सिंह के इस प्रस्ताव को जेडीयू सिरे से ठुकरा रही है.

दावे में है कितना दम

बहरहाल रघुवंश के दावे में कितना दम है ये तो बाद की बात है, लेकिन इतना तो तय है सियासत में ना तो कोई स्थायी दोस्त होता है और ना ही दुश्मन. इस फलसफे को देखें तो रघुवंश के दावे को सिरे से खारिज भी नहीं किया जा सकता.

ये भी पढ़ें- 

पुल निर्माण कंपनी के बेस कैंप पर हमला, JCB समेत 2 गाड़ियों को फूंका

स्कूल के टॉयलेट में नाबालिग से रेप की कोशिश, भागकर बचाई जान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading