RJD के स्थापना दिवस समारोह में नहीं पहुंचे तेजस्वी, क्या तेजप्रताप यादव से बना रहे दूरी?

कार्यक्रम में पहुंचने के साथ ही तेजप्रताप यादव ने राबड़ी देवी के पांव छुए और उनकी साथ की कुर्सी पर बैठे. हालांकि आरजेडी नेताओं, सांसदों, विधायकों और कार्यकर्ताओं की निगाहें राबड़ी देवी के दूसरी ओर लगी कुर्सी पर लगी रही जिसपर तेजस्वी यादव की जगह अब्दुल बारी सिद्दीकी बैठे रहे.

News18 Bihar
Updated: July 5, 2019, 4:38 PM IST
RJD के स्थापना दिवस समारोह में नहीं पहुंचे तेजस्वी, क्या तेजप्रताप यादव से बना रहे दूरी?
RJD के फाउंडेशन डे से दूर रहे तेजस्वी
News18 Bihar
Updated: July 5, 2019, 4:38 PM IST
लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल की स्थपाना के 23 साल हो गए. बीते दो दशक के दौरान पार्टी ने कई मोर्चों पर अपनी राष्ट्रीय पहचान बनाई और देश की संसद में धमक भी दिखाई. हालांकि बदले दौर में 5 जुलाई 1997 को गरीब-गुरबों की लड़ाई के लिए बनी यह पार्टी आज सत्ता संघर्ष में उलझा हुआ लगता है. दरअसल शुक्रवार को आरजेडी दफ्तर में आयोजित स्थापना दिवस कार्यक्रम में लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव तो पहुंचे, लेकिन लालू की राजनीतिक विरासत संभाल रहे तेजस्वी यादव नहीं पहुंचे.

स्थापना दिवस में नहीं पहुंचे तेजस्वी

कार्यक्रम में पहुंचने के साथ ही तेजप्रताप यादव ने राबड़ी देवी के पांव छुए और उनकी साथ की कुर्सी पर बैठे. हालांकि आरजेडी नेताओं, सांसदों, विधायकों और कार्यकर्ताओं की निगाहें राबड़ी देवी के दूसरी ओर लगी कुर्सी पर लगी रही जिसपर तेजस्वी यादव की जगह अब्दुल बारी सिद्दीकी बैठे रहे.

बोले तेजप्रताप- विरोधियों को देंगे पटखनी

इस मौके पर तेजप्रताप यादव ने कहा कि 2020 के चुनाव में हमें बड़ी लड़ाई लड़नी है और इसमें हम विरोधियों को पटखनी देंगे. उन्होंने आरजेडी नेताओं का आह्वान किया कि हमें इसके लिए हमें मुस्तैद रहना है.

'महसूस करें कि लालू यादव हमारे बीच में हैं'

तेजप्रताप यादव ने कहा कि कौन कहता है कि लालू जी हमारे बीच में नहीं है. वे सबके दिल में हैं.  लालू जी को बस महसूस करने की जरूरत है. उन्होंने इस मौके पर एक नया नारा भी गढ़ा- लालू जी को जेल से बाहर निकालना है इसके लिए खून का एक-एक कतरा बहाना है.
Loading...

'दोनों भाई में कोई मतभेद नहीं'

तेजस्वी यादव की अनुपस्थिति पर तेजप्रताल ने कहा कि उनका अर्जुन किसी काम में व्यस्त हैं. अर्जुन ने हमें भेजा है स्थापना दिवस में. माता यशोदा के पास हम कृष्ण आ गए हैं और कृष्ण-अर्जुन बिल्कुल एकजुट हैं. उन्होंने कहा कि दोनों भाई में कोई मतभेद नहीं है.

'कुछ लोग हमें लड़ाने में लगे हैं'

तेजप्रताप ने कहा कि कुछ लोग हमलोगों को लड़ाने में लगे रहते हैं. सदन में भी हमारे भाई के खिलाफ अनाप-शनाप बोला जाता है. विरोधी कहते हैं तेजस्वी भगोड़ा हैं, लेकिन हम तेजस्वी के साथ खड़े हैं, तेजस्वी यादव को मजबूती से साथ देना है.

सवालों में तेजप्रताप-तेजस्वी की दूरी

तेजप्रताप के इन दावों के बावजूद तेजस्वी की अनुपस्थित सवालों में है. माना जा रहा है कि तेजस्वी का कहना है जब तक तेजप्रताप राजद में रहेंगे तब तक वे पार्टी का कोई काम नहीं करेंगे. दरअसल अभी तक लालू-राबड़ी दोनों भाइयों के झगड़े को छिपाते रहे थे, लेकिन तेजस्वी यादव जिस तरह तेजप्रताप से दूरी बना रहे रहे हैं इससे कई सवाल खड़े हो रहे हैं.

मीसा भारती ने दिल्ली में मनाया स्थापना दिवस
वहीं लालू यादव की बड़ी बेटी डॉ मीसा भारती का अपने भाइयों से दूरी बनाए रखना भी सवाल खड़े कर रहा है. जानकारी के अनुसार उन्होंने दिल्ली में आरजेडी दफ्तर में स्थापना दिवस मनाया. गौरतलब है कि जब 2015 में विधानसभा चुनाव में जीत के बाद राजनीतिक विरासत का बंटवारा किया था तो मीसा भारती को दिल्ली की जिम्मेदारी दी गई थी. यानी लोकसभा और राज्यसभा से संबंधित चीजों को वही देखेंगी. लेकिन, बीतते वक्त के साथ ही वह हाशिये पर जाती चली गईं.

इनपुट- अमित कुमार सिंह

ये भी पढ़ें-


Union Budget 2019: मोदी बजट में ऐसे छा गए CM नीतीश कुमार, अपनाई बिहार की ये योजना




Union Budget 2019: बोलीं राबड़ी देवी- बिहार को ठग रही केंद्र सरकार

Union Budget 2019: दरभंगा-किशनगंज एयरपोर्ट पर बढ़ेंगी सुविधाएं, उड़ान-2 योजना में है शामिल

First published: July 5, 2019, 4:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...