Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    तेजस्वी का नीतीश कुमार पर निशाना, बोले- बदलाव के जनादेश पर CM को करना चाहिए मंथन

    भ्रष्टाचार के मुद्दे पर नीतीश सरकार पर तेजस्वी का हमला जारी है.
    भ्रष्टाचार के मुद्दे पर नीतीश सरकार पर तेजस्वी का हमला जारी है.

    तेजस्वी यादव (Tejaswi Yadav) ने निशाना साधते हुए कहा हम लोग भष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं और उठाते रहेंगे. नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को हार पर मंथन करना चाहिए.

    • Share this:
    पटना. बिहार में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव (Tejaswi Yadav) का नई नीतीश सरकार (Nitish Government) पर हमला जारी है. एक बार फिर उन्होंने निशाना साधते हुए कहा कि बिहार का जनादेश बदलाव का है. सब लोग जानते हैं कि मेवालाल (Mevalal Chaudhary) पर किस मामले में एफआईआर दर्ज है. इसके बावजूद उन्हें टिकट दिया जाता है. और जब वो जीतकर आते हैं तो उन्हें मंत्री बनाया जाता है.

    तेजस्वी ने कहा कि पिछली नीतीश सरकार में मुजफ्फरपुर बालिका कांड में जिनकी संलिप्तता थी, वो मंत्री बनकर घुम रहे थे. हम लोग भष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं और उठाते रहेंगे. नीतीश कुमार को हार पर मंथन करना चाहिए.


    दरअसल भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरे डॉ मेवालाल चौधरी को शिक्षा मंत्री के पद से त्यागपत्र देना पड़ा. जिसके बाद मंत्री अशोक चौधरी को शिक्षा मंत्री का प्रभार दे दिया गया है. लेकिन अब वो भी विवादों में घिरते नजर आ रहे हैं. लेकिन आरोप सीधे उनपर नहीं है, बल्कि उनकी पत्नी से जुड़ा हुआ है.



    तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर अशोक चौधरी को निशाना बनाया. उनकी पत्नी पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप का जिक्र करते हुए लिखा,'साहित्यिक चोरी के दोषी मुख्यमंत्री नीतीश जी के मुकुटमणि, JDU के कार्यकारी अध्यक्ष और मंत्री अशोक चौधरी की पत्नी पर बैंक से करोड़ों की धोखाधड़ी और जालसाजी का आरोप है, CBI जांच कर रही है, कोर्ट में केस है. इनकी निष्कपटता देखिए, कहते हैं बीवी का भ्रष्टाचार Not a big deal.'

    बता दें कि भ्रष्टाचार के एक मामले में अशोक चौधरी की पत्नी पर बैंक से धोखाधड़ी का एक मामला चल रहा है, जिसकी जांच सीबीआई कर रही है. इस मामले में सीबीआई ने उन्हें चार्जशीटेड किया था. इसके बाद अशोक चौधरी की पत्नी हाईकोर्ट गईं, जहां से वह बरी हो गईं.  लेकिन, सीबीआई इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट चली गई, जहां हाईकोर्ट के फैसले को सस्पेंड कर दिया गया है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज