तेजप्रताप का नया फंडा, 'लालू की रसोई' के साथ लगाएंगे पॉलिटिक्स में तड़का
Patna News in Hindi

तेजप्रताप का नया फंडा, 'लालू की रसोई' के साथ लगाएंगे पॉलिटिक्स में तड़का
लालू के बेटे तेजप्रताप यादव की फाइल फोटो

तेजप्रताप यादव (Tejpratap Yadav) ने आज ऐलान किया कि लॉकडाउन (Lockdown) के बाद अपने पिता के नाम पर वो 'लालू की रसोई' रेस्टोरेंट की मेगा लॉन्चिंग करेंगे. इसमें गरीबों को एक शाम का खाना मुफ्त में खिलाया जाएगा.

  • Last Updated: May 6, 2020, 9:37 PM IST
  • Share this:
पटना. लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के 'लाल' ने एक बार फिर से धमाल कर दिया है. इस बार राजनीति और पूजा-पाठ से अलग लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव (Tejpratap Yadav) रेस्टोरेंट खोलने की तैयारी में लग गए हैं. उन्होंने अपने रेस्टोरेंट का नामाकरण भी कर दिया है. तेजप्रताप ने आज ऐलान किया कि लॉकडाउन (Lockdown) के बाद अपने पिता के नाम पर वो 'लालू की रसोई' रेस्टोरेंट की मेगा लॉन्चिंग करेंगे. इसमें गरीबों को एक शाम का खाना मुफ्त में खिलाया जाएगा लेकिन बाकियों को खाने के लिए पेमेंट करना होगा. तेजप्रताप का कहना है कि 'लालू की रसोई' में पिछले महीनेभर से गरीबों और जरूरतमंदों के लिए खाना पकता है. हर रोज वो खुद गरीबों में यह खाना भी बांटते हैं.

तेजप्रताप का नया ठिकाना

तेजप्रताप यादव ऐसे प्रयोग पीछे भी करते रहे हैं. लोग तो ये भी कहते हैं कि तेजप्रताप ये सब खुद को सुर्खियों में बनाए रखने के लिए करते हैं. लेकिन इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता है कि तेजप्रताप राजनीति में अब तक कोई खास जौहर नहीं दिखा पाए हैं या ये कह लें कि तेजप्रताप राजनीति के पिच पर क्लीन बोल्ड हो चुके हैं.




बिहार में एक साथ लॉन्च हुए थे दोनों भाई

लालू यादव ने अपने दोनों बेटों तेजप्रताप-तेजस्वी को एक साथ ही राजनीति में लॉन्च किया था. तेजस्वी यादव के मुकाबले तेजप्रताप अब भी संघर्ष ही कर रहे हैं. इसके अलावा लालू के उत्तराधिकारी की रेस में भी छोटे भाई तेजस्वी ने ही बाजी मार ली है.

बीजेपी के प्रवक्ता निखिल आनन्द चुटकी लेते हुए कहते हैं कि 'लालू की रसोई' में तेजप्रताप अपने छोटे भाई तेजस्वी को भी पार्टनर बना लें, क्योंकि विधानसभा चुनाव में हारने के बाद वैसे भी तेजस्वी खाली ही बैठेंगे या फिर दिल्ली कूच कर जाएंगे. बिजनेस के लिहाज से भी यह पार्टनरशिप तेज-तेजस्वी ब्रदर्स के लिए फायदे का सौदा होगा.

सुर्खियों में बने रहने का दूसरा नाम है तेजप्रताप

तेजप्रताप यादव कभी अपने बयानों तो कभी अपनी ऊटपटांग हरकतों और वेशभूषा को लेकर सुर्खियों में बने रहते हैं. तेजप्रताप का इस बार का प्रयोग थोड़ा ज्यादा ही अनोखा है और राजनीति से भी अलग है. शायद यह कहना गलत नहीं होगा कि तेजस्वी से राजनीति में पिछड़ने के बाद तेजप्रताप ने अपना दूसरा ठिकाना ढूंढ लिया है. वहीं तेजप्रताप को करीब से जानने वालों की माने तो वे बयान बहादुर हैं. ऐसे-वैसे बयान देकर वो खूब सुर्खियां भी बटोरते हैं. ऐसे में इसकी भी गुंजाइश है कि अगले कुछ घंटों में तेजप्रताप का मन बदल जाए और फिर एक नया ऐलान कर दें...,'लालू की रसोई' कॉन्सेप्ट कैंसिल.

ये भी पढ़ें- बिहार सरकार का बड़ा फैसला, Lockdown के बीच कल से खुलेंगी ये दुकानें

ये भी पढ़ें- जमा किए पैसे से खरीदी साइकिल और महाराष्ट्र से बिहार पहुंच गए तीन दोस्‍त
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading